न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

स्वच्छ भारत सेस बंद होने के बाद भी मोदी सरकार ने वसूले 4391.47 करोड़ रुपये का टैक्स

2,164

New Delhi: केंद्र की मोदी सरकार ने स्वच्छ भारत सेस खत्म किए जाने के बाद भी इसके तहत जनता से करोड़ों रुपये का टैक्स वसूल लिया है. द वायर द्वारा दायर किए गए सूचना का अधिकार आवेदन में इसका खुलासा हुआ है. ज्ञात हो कि जीएसटी लागू करने के लिए वित्त मंत्रालय द्वारा धीरे-धीरे कई सारे सेस खत्म कर दिए गए थे. स्वच्छ भारत सेस भी पिछले साल एक जुलाई से खत्म कर दिया गया था. जबकि वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के सिस्टम और डेटा प्रबंधन के निदेशालय जनरल ने आरटीआई आवेदन के तहत जो जानकारी भेजी है उससे ये स्पष्ट होता है कि जुलाई 2017 के बाद भी लोगों से स्वच्छता सेस वसूला जा रहा है.

eidbanner

आरटीआई आवेदन के तहत सिस्टम और डेटा प्रबंधन के निदेशालय जनरल ने बताया है कि साल 2017 से लेकर 30 सितंबर, 2018 तक में 4391.47 करोड़ रुपये का स्वच्छ भारत सेस वसूला गया है. इसमें से वित्त वर्ष 2017-18 (एक अप्रैल 2017-30 मार्च 2018) के दौरान 4242.07 करोड़ रुपये और साल 2018-19 के दौरान 149.40 करोड़ रुपये स्वच्छ भारत सेस के रूप में वसूलने की जानकारी सरकार की ओर से दी गई है.

हालांकि वित्त मंत्रालय में राज्य मंत्री शिव प्रताप शुक्ला ने 6 मार्च 2018 को राज्यसभा में एक सवाल के जवाब में बताया था कि एक जुलाई, 2017 से स्वच्छ भारत सेस और कृषि कल्याण सेस खत्म कर दिया गया है. इतना ही नहीं, वित्त मंत्रालय द्वारा 7 जून 2017 को जारी एक प्रेस रिलीज में भी बताया गया है कि जीएसटी को लागू करने के लिए एक जुलाई, 2017 से स्वच्छ भारत सेस समेत कई सारे सेस खत्म किए जा रहे हैं.

2015 में लागू हुआ था स्वच्छ भारत सेस

बता दें कि साल 2015 में स्वच्छ भारत सेस लागू किया गया है. इसके तहत सभी सेवाओं पर 0.5 फीसदी का सेस लगता है. आरटीआई से मिली जानकारी के मुताबिक साल 2015 से 2018 तक में कुल 20,600 करोड़ रुपये स्वच्छ भारत सेस के रूप में वसूला गया है.

वित्त वर्ष 2015-16 में 3901.83 करोड़ रुपये, 2016-17 में 12306.76 करोड़ रुपये, 2017-18 में 4242.07 करोड़ रुपये और 2018-19 के दौरान 30 सितंबर, 2018 तक में 149.40 करोड़ रुपये वसूला गया है. वित्त अधिनियम 2015 की धारा 119 के तहत स्वच्छ भारत सेस को स्वच्छ भारत अभियान की फंडिंग और इसे बढ़ावा देने के उद्देश्य से लागू किया गया था.
सरकार का दावा है कि स्वच्छ भारत सेस के तहत एकत्रित फंड का उपयोग स्वच्छ भारत मिशन (ग्रामीण) के तहत विभिन्न शौचालयों के निर्माण, सामुदायिक स्वच्छता परिसरों, ठोस और तरल अपशिष्ट प्रबंधन, सूचना शिक्षा व संचार और प्रशासनिक व्यय के लिए किया जाता है. इसे लागू करना और उपयोग प्रमाण पत्र देने की जिम्मेदारी राज्य सरकारों की होती है.

कहां खर्च हुई यह राशि

एक तरफ सरकार द्वारा स्वच्छता सेस खत्म किए जाने के बाद भी करदाताओं से करोड़ों रुपये का टैक्स वसूला गया, जबकि दूसरी तरफ, केंद्र सरकार ने आरटीआई आवेदन में ये जानकारी नहीं दी कि इन पैसों को किस काम के लिए खर्च किया गया है.

पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय ने सिर्फ इस बात की जानकारी दी है कि इस सेस के तहत जितनी राशि इकट्ठा की गई है, उसमें से कितनी राशि जारी की गई और कितना खर्च किया गया है. मंत्रालय ने बताया कि साल 2015-16 में 2400 करोड़ रुपये जारी किये गए, जिसे पूरा खर्च किया जा चुका है. वहीं साल 2016-17 में 10,500 करोड़ रुपये और साल 2017-18 में 3400 करोड़ रुपये खर्च किए गए हैं.

4,300 करोड़ रुपये नहीं हुए जारी

नियमानुसार, स्वच्छ भारत सेस की राशि को पहले ‘भारत की समेकित निधि’ (कॉन्सोलिडेटेड फंड ऑफ इंडिया) में डाला जाता है. जहां से इसे ‘स्वच्छ भारत कोष’ में भेजा जाता है. वहां से इसे जरूरत के हिसाब से स्वच्छ भारत अभियान के तहत विभिन्न कार्यों के लिए खर्च किया जाता है.

लेकिन आरटीआई में मिले जवाब से ये पता चलता है कि स्वच्छ भारत सेस के तहत इकट्ठा की गई राशि में से लगभग एक चौथाई राशि अभी तक मंत्रालय को जारी नहीं की गई है. स्वच्छ भारत सेस के तहत कुल 20,600 करोड़ रुपये की राशि इकट्ठा की गई है. इसमें से अभी तक मंत्रालय को 16,300 करोड़ रुपये ही जारी किए गए हैं. इस हिसाब से अभी भी 4,300 करोड़ रुपये जारी किया जाना बाकी है.

यानी कि इतनी राशि अभी तक खर्च नहीं की गई है. साल 2017 में आई कैग की रिपोर्ट में भी बताया गया था कि उस समय तक जितनी राशि इकट्ठा की गई थी, उसका एक चौथाई हिस्सा जारी नहीं किया गया था. कैग ने अपनी रिपोर्ट में बताया था कि बीते दो वर्षों (2015-17) में कुल 16,401 करोड़ रुपये का कलेक्शन हुआ था और इसका 75 फीसदी हिस्सा यानी 12,400 करोड़ रुपये ही राष्ट्रीय सुरक्षा कोष में पहुंचा है. बाकी की लगभग 4,000 करोड़ रुपये की राशि अब तक इस कोष में नहीं पहुंची है. इसे लेकर द वायर ने वित्त मंत्रालय को सवालों की सूची भेजी है. लेकिन अबतक जवाब नहीं आया है.

इसे भी पढ़ेंः आधार कार्ड के लिए दबाव बनाना पड़ेगा महंगाः कंपनी को देना पड़ सकता है एक करोड़ का जुर्माना

 

इसे भी पढ़ेंःमिलेगी राहत ! 99 प्रतिशत चीजों को 18 % जीएसटी स्लैब में लाने की तैयारी में सरकार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: