न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

रामगढ़ में दो गुटों के बीच झड़प के बाद सिलनी गांव में धारा 144 लागू

210

Ramgarh : रजरप्पा थाना क्षेत्र के सिलनी गांव में शनिवार को धार्मिक के जुलूस पर एक गुटों के लोगों द्वारा पत्थरबाजी और झड़प की घटना के बाद पूरे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है. गांव में धारा 144 लगा दिया गया है.

पुलिस के जवान पूरे गांव में फ्लैग मार्च कर रहे हैं. बता दें शनिवार को हुए झड़प में एक अंचल अधिकारी, एक सहायक पुलिस निरीक्षक समेत 12 लोग घायल हो गए थे. हालांकि, बाद में हल्का बल प्रयोग कर पुलिस ने हालात को नियंत्रित कर लिया था.

पुलिस ने कार्रवाई करते हुए कुछ उपद्रवियों को गिरफ्तार भी किया है. वहीं, घटना में शामिल उपद्रवियों को चिन्हित कर उनकी गिरफ्तारी का प्रयास किया जा रहा है.

NEWSWING INTERVIEW: जगरनाथ ने चंद्रप्रकाश को दी नसीहत, कहा- रामगढ़ वापस जाना होगा (देखें पूरा…

एक गुट के लोगों ने शुरू कर दिया था पथराव

शनिवार शाम जब एक गुट धार्मिक जुलूस सिलनी गांव से होकर गुजर रहा था, उसी समय दूसरे गुटों के लोगों ने यह सोचकर कि जुलूस में शामिल लोग अपना रास्ता बदल रहे हैं, उन पर पथराव शुरू कर दिया. जबकि जुलूस अपने निर्धारित मार्ग पर ही था.

इसके कारण दोनों पक्षों में झड़प हो गयी. जिसमें 12 लोग घायल हो गये. दोनों पक्षों में हुई पत्थरबाजी में सीओ किरण सोरेन और सहायक पुलिस निरीक्षक अरुण सिंह समेत 12 लोग घायल हो गये, जिन्हें सदर अस्पताल ले जाया गया. जहां प्राथमिक चिकित्सा के बाद सभी को छुट्टी दे दी गई थी.

इसे भी पढ़ें :लोकसभा चुनाव में टीवी चैनलों का मिजाज बिगड़ा, राजनीतिक दलों से नहीं मिल रहे विज्ञापन

पहले से बनायी गयी थी पथराव करने की योजना

सिकनी गांव में धार्मिक जुलूस पर पथराव करने के लिए पूरी योजना पहले ही बना ली गयी थी. सूत्रों के अनुसार यह पता चला कि यह विवाद सरस्वती पूजा से ही चली आ रही थी.

उसी के बाद से उस गांव में दो गुटों के लोगों के बीच मनमुटाव हो गया था. शनिवार को जब जुलूस निकला तो एक गुट के लोगों ने पथराव शुरू कर दिया.

इसे भी पढ़ें झारखंड : पिछले 60 दिनों में हुई 303 हत्या और 226 दुष्कर्म की घटनाएं

पहले से अपने छत पर जमा कर रखे थे पत्थर

जानकारी के अनुसार सिलनी गांव के मथानीटोला में एक गुट के लोगों को यह अंदेशा था कि दूसरे गुट के द्वारा धार्मिक जुलूस भी उनकी गली से हो कर गुजारा जाएगा.

इसी वजह से उनलोगों ने पहले से ही अपने घर के छतों पर पत्थर जमा कर रखे थे. विवाद शुरू हुआ और विवाद बढ़ते-बढ़ते इतना बढ गया कि पथराव शुरू हो गया.

इसे भी पढ़ें रातू झड़प के बाद बढ़ायी गयी सुरक्षा, समझौते के लिए प्रशासन ने बुलायी बैठक

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: