न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

आखिर फ्राइडे द थर्टिंथ… से दुनिया क्यों डरती है, अंधविश्वास से भरा है यह दिन

334

 Nw :   फ्राइडे द थर्टिंथ यानी 13 तारीख वाला शुक्रवार. आज शुक्रवार भी है और 13 तारीख भी. बता दें कि विश़्व भर में इस संयेाग को सैकड़ों सालों से अशुभ माना जाता रहा है. इस संबंध में कई कहानियां, किस्से  अंधविश्वास और मिथक से भरे पड़े हैं. खास कर विदेशों में लोग तो शुक्रवार की 13 तारीख से इतना डरते हैं कि अपने घर तक से बाहर निकलना पसंद नहीं करते. लोग 13 नंबर से भी वास्ता रखना पसंद नहीं करते. 13 नंबर का कमरा होटलों में नहीं होता. होटलों में 13वां फ्लोर नहीं होता.

eidbanner

यूरोप और अमेरिका में 13 नंबर को लेकर अंधविश्वास प्रचलित हैं

यूरोप में 13 तारीख को पड़ने वाले शुक्रवार को बहुत अशुभ गिना जाता है. यूरोप और अमेरिका में 13 नंबर को लेकर इतने अंधविश्वास क्यों प्रचलित हैं. इसका अंदाज सही-सही नहीं लगाया जा सकता. फ्राइडे द थरटींथ यानी 13 तारीख वाले शुक्रवार को अपशगुन से जोड़ कर देखा जाता है. हालांकि हिंदू धर्म में 13 तारीख को बुरा नहीं माना जाता. वह इसे सबसे शुभ दिनों में मानता है. ग्रीस मान्यताओं में भी शुक्रवार और 13 तारीख को खराब नहीं कहा जाता. दरअसल, 12 नंबर एक पूर्णांक नंबर होता है. 12 महीने, घड़ी में 12 घंटे, 12 राशियां होती हैं. जिसके बाद 13 नंबर को संतुलन की कमी का नंबर माना गया है. इसी वजह से इसे अशुभ माना जाता है.

13 अक्टूबर, शुक्रवार, फ्रांस में सैकड़ों नाइट टैंपलर मारे गये थे

वर्ष 2003 के बेस्ट सेलर दा विंची कोड के अनुसार ये 13 अक्टूबर 1307 का शुक्रवार था जब पूरे फ्रांस में सैकड़ों नाइट टैंपलर को मार दिया गया था. एक ब्रिटिश वेबसाइट के अनुसार इंग्लैंड के एक मेडिकल जर्नल में 1993 में एक स्टडी प्रकाशित हुई. इसमें बताया गया कि 13 तारीख वाले शुक्रवार के दिन ज्यादा दुर्घटनाएं होती हैं. हालांकि इसकी कोई पुष्टि नहीं हो सकी. हालांकि एक डच इंश्योरेंस कंपनी का कहना है कि 13 तारीख और शुक्रवार को दुर्घटना, चोरी एवं आग की घटनाएं अन्य दिनों की अपेक्षा कम हो जाती है. इस दिन अधिकतर लोग घर पर रहने को प्राथमिकता देते हैं.

हॉरर फिल्म फ्राइडे द थर्टिंथ ने इस मिथक को फैलाया

Related Posts

जाम सड़कों पर ही नहीं लगता, माउंट एवरेस्ट पर्वत पर भी लगता है

पृथ्वी के इस सबसे ऊंचे स्थान तक पहुंचने की आकांक्षा रखने वाले लोगों की संख्या में बीते कुछ सालों में तेजी से इजाफा हुआ है.

1980 में आई हॉरर फिल्म फ्राइडे द थर्टिंथ  ने इस मिथक को फैलाने में सबसे अधिक योगदान दिया है. फिल्म इतनी हिट हुई कि इसके 12 सीक्वल और पर्दे पर आये. 13वां बना लेकिन उसका रिलीज एक शुक्रवार से अगले 13 तारीख वाले शुक्रवार तक टलता रहा और आखिरकार उसे रिलीज ना करने का फैसला लिया गया. 14वीं सदी में अंग्रेजी के मशहूर लेखक जेफ्री चौसर ने द कैंटरबरी टेल्स नाम से कहानियों का संग्रह तैयार किया.

इसमें उन्होंने शुक्रवार के अशुभ होने का जिक्र किया. 17वीं सदी तक हाल यह था कि अधिकतर लेखक शुक्रवार के दिन कोई भी नया प्रोजेक्ट लेने से मना कर देते थे. ब्रिटेन में शुक्रवार को ही लोगों को फांसी दी जाती थी. अमेरिका में भी 19वीं शताब्दी में लगभग सभी फांसी देने की घटनाएं शुक्रवार को ही होती थीं. लिहाजा पारंपरिक रूप से शुक्रवार को फांसी देने का दिन मान लिया गया.

शुक्रवार को ही ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था

जुडास को ईसा मसीह का 13वां शिष्य माना जाता है, जिसने जीसस के साथ गद्दारी की थी. इसको लेकर एक मान्यता द लास्ट सपर के रूप में कही जाती है. 19वीं सदी में यह मिथक फैला कि ईसा मसीह के खिलाफ षड्यंत्र करने वाला उनका अनुयायी जुडास अंतिम भोज के समय सबसे देर से पहुंचा और मेज पर बैठने वाला 13वां व्यक्ति था. साथ ही शुक्रवार को ही ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था. इन वजहों से भी 13 और शुक्रवार को बुरा माना जाता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: