न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

18 साल बाद भी अधर में झारखंड-बिहार के बीच 2584 करोड़ की पेंशन देनदारी, कई राउंड बैठकों के बाद भी नतीजा सिफर

दोनों सरकार अपने कैडर के कर्मियों के पेंशन का भुगतान तो कर रही हैं, पर 2584 करोड़ की देनदारी अब तक नहीं सुलझी

71

Ravi Aditya

Ranchi: तेनुघाट मामले की तरह झारखंड-बिहार के बीच पेंशन की देनदारी अब तक नहीं सुलझ पायी है. कुल 2584 करोड़ की देनदारी का मामला लंबित है. राज्य गठन के 18 साल बाद भी इस मसले पर कोई हल नहीं निकल पाया है. दोनों राज्यों के मुख्य सचिव व वित्त सचिव के बीच इस मसले को लेकर कई राउंड की बैठकें भी हो चुकी हैं, लेकिन नतीजा सिफर ही रहा.

इसे भी पढ़ें – 11 महीने से लटकी है टाउन प्लानर की नियुक्ति, सूडा ने 13 दिसंबर 2017 को ही निकाला था विज्ञापन

अफसरों सहित 1000 कर्मियों का मामला भी शामिल

इसमें 25 आईएएस 265 राज्य प्रशासनिक सेवा सहित 1000 कर्मियों का मामला भी शामिल है. इसमें झारखंड सरकार का तर्क है कि पेंशन का बंटवारा कर्मचारियों की संख्या के आधार पर किया जाना चाहिये ना कि जनसंख्या के आधार पर. हालांकि दोनों सरकारे अपने-अपने तकरार पर अड़ी हुई हैं.

इसे भी पढ़ें – कृषि विभाग में ट्रांसफर-पोस्टिंग के नाम पर बड़े लेन-देन किये जा रहे हैं : संतोष कुमार

कहां फंसा है पेंच, भारत सरकार का क्या है फॉर्मूला

palamu_12

भारत सरकार ने पेंशन देनदारी के लिये जो फॉर्मूला बताया है, उसके अनुसार 15 नवंबर 2011 के पहले जो कर्मचारी बिहार में थे, वे बिहार से ही पेंशन लेंगे. जो झारखंड में आ गये, वे झारखंड से ही पेंशन लेंगे. झारखंड सरकार भारत सरकार के फॉर्मूले पर अड़ी है, जबकि बिहार सरकार का कहना है कि इसमें शेयर का बंटवारा होना चाहिये.

इसे भी पढ़ें – बीजेपी नेत्री ने एक शख्स पर लगाया अभद्र व्यवहार और जान से मारने की धमकी देने का आरोप

राज्य पुनर्गठन के समय क्या बना था नियम

राज्य पुनर्गठन के समय नियम बना था कि दोनों राज्यों के बीच पेंशन का जो बंटवारा होगा, वह जनसंख्या के आधार पर होगा. लेकिन भारत सरकार के फॉर्मूले के बाद झारखंड सरकार इस नियम को मानने के लिये तैयार नहीं है. हालांकि बिहार सरकार ने इसपर अब तक कोई पहल नहीं की है.

इसे भी पढ़ें – भारत की अर्थव्यवस्था पर पड़ा है नोटबंदी का गहरा नकारात्मक प्रभाव

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: