न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विश्वकप के बाद पद छोड़ेंगे अफगानिस्तान के कोच सिमंस

33

New Delhi : वेस्टइंडीज के पूर्व हरफनमौला फिल सिमंस आईसीसी विश्वकप के बाद अफगानिस्तान क्रिकेट टीम के कोच का पदभार छोड़ देंगे. दिसंबर 2017 में पद संभालने वाले सिमंस ने कहा कि अफगानिस्तान को विश्वकप में ले आने का लक्ष्य उन्होंने पूरा कर लिया और अब रवानगी का समय आ गया है.

उन्होंने ईएसपीएन क्रिकइन्फो से कहा कि  मैंने इस बारे में सोचा है. मैंने एसीबी को नोटिस दे दिया है और अपने अनुबंध का नवीनीकरण नहीं करूंगा. साथ ही कहा कि मैं 15 जुलाई को अनुबंध खत्म होने के बाद कुछ और करूंगा.

इसे भी पढ़ें – कोयले का काला खेलः जब्त कोयले की लोडिंग के लिए पकड़े गये पेलोडर का इस्तेमाल

18 महीने के दौरान ही काफी कुछ हो गया

उन्होंने कहा मैंने 18 महीने के लिये ही काम संभाला था और उस दौरान काफी कुछ हुआ है. अब कुछ और करने का समय है. एसीबी का लक्ष्य विश्वकप में जगह बनाना था, जिसके लिये मेरी नियुक्ति की गई थी.

पिछले महीने एसीबी ने विवादित ढंग से गुलबदन नायब को असगर अफगान की जगह वनडे टीम का कप्तान बनाया था. सीनियर खिलाड़ियों रशीद खान और मोहम्मद नबी ने इसकी आलोचना की थी. सिमंस ने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं है और उनसे फैसला लेने से पहले सलाह नहीं ली गई.

इसे भी पढ़ें – लोकसभा चुनाव के दौरान दूसरे राज्यों में प्रतिनियुक्त पुलिस पदाधिकारियों और कर्मियों को दिया गया 8…

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: