JharkhandLead NewsRanchi

अधिवक्ताओं को इस देश में विशेष दर्जा हासिल, उनका कर्तव्य अन्याय से लड़ना है, चाहे वह कहीं भी हो : राज्यपाल

Ranchi : नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ स्टडी एण्ड रिसर्च इन लॉ (NUSRL), रांची के तीसरे दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए कहा आज पवित्र दिन है. आज से नवरात्र शुरू हो रहा है जो शक्ति का प्रतीक है. पहले लोगों की सोच थी कि लड़कियों को पढ़ाने से क्या होगा? पढ़-लिखकर ससुराल चली जायेगी. आज लड़कियों को लड़कों के मुकाबले ज्यादा गोल्ड मेडल मिले हैं. लड़कियां लड़कों से कम नहीं है.

दीक्षांत समारोह एक ऐसा विशेष अवसर होता है, जिसमें विद्यार्थियों द्वारा अपने अध्ययन काल में की गई कड़ी मेहनत को लक्ष्यों की प्राप्ति व सफलता हासिल करने से जुड़ते हुए देखते हैं. इस यात्रा में हमारे विद्यार्थी कई असाधारण क्षणों का अनुभव करते हैं. यह समारोह अन्य अध्ययनरत विद्यार्थियों के लिए प्रेरणा का भी कार्य करता है.

इसे भी पढ़ें:केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल का दावा, अगले 5 साल में 10 लाख नौकरियां देगी मोदी सरकार

मौके पर उन्होंने जोर देते हुए कहा विधि विश्वविद्यालय का उद्देश्य ऐसे अधिवक्ताओं को तैयार करना होता है जो व्यावसायिक रूप से कुशल हों एवं गहन ज्ञान रखते हों.

वे न केवल अधिवक्ता और न्यायाधीश बनें बल्कि जन-अपेक्षाओं को पूरा करने तथा भारत के संविधान की रक्षा करने के लिए तैयार हों. अधिवक्ताओं को इस देश में विशेष दर्जा हासिल है. अधिवक्ताओं का कर्तव्य अन्याय से लड़ना है, चाहे वह कहीं भी हो.

अधिवक्ताओं को आपराधिक, निर्धनता, घरेलू हिंसा, जाति-भेद और शोषण के विभिन्न स्वरूपों के विरुद्ध बदलाव का नेतृत्व करना चाहिए.

इसे भी पढ़ें:कोलकाता STF की छापेमारी: दुमका में मिनी गन फैक्ट्री का भंड़ाफोड़, मुंगेर के लोग बना रहे थे अवैध हथियार

तीसरे दीक्षांत समारोह को सुप्रीम कोर्ट के जस्टिस सूर्यकांत ने बबी संबोधित किया. इस अवसर पर चीफ जस्टिस हाई कोर्ट झारखंड सह यूनिवर्सिटी के चांसलर जस्टिस डॉ रवि रंजन भी मौजूद रहे.

आज के दीक्षांत समारोह में 2019, 2020 और 2021 के बीए एलएलबी, एलएलएम और पीएचडी के कुल 447 छात्र छात्राओं को डिग्री दी गयी. इसमें यूजी के 326, पीजी के 108 और पीएचडी के 13 स्टूडेंट्स हैं. वहीँ 60 गोल्ड मेडलिस्ट भी हैं.

इसे भी पढ़ें:प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी के ठिकानों पर निगरानी की छापेमारी, अब तक 4.50 करोड़ की संपत्ति का हुआ खुलासा

वर्षवार उपाधि पाने वालों की संख्या

  • यूजी बैच 2014-19 के कुल 114,
  • यूजी बैच 2015-20 के कुल 107,
  • यूजी बैच 2016-21 के कुल 105,
  • पीजी बैच 2018-19 के कुल 33,
  • पीजी बैच 2019-20 के कुल 38,
  • पीजी बैच 2020-21 के कुल 37 और
  • पीएचडी के कुल 13 विद्यार्थी

इसे भी पढ़ें:बिहार विधान परिषद चुनाव के प्रचार का थम गया शोर, 4 अप्रैल को होगा मतदान

Related Articles

Back to top button