न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वकील गोपाल शंकरनारायणन सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के केस से हटे  

सीबीआई बनाम सीबीआई मामले में बदलते घटनाक्रम के बीच खबर आयी है कि  वकील गोपाल शंकरनारायणन  सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के केस से हट गये हैं.

163

NewDelhi : सीबीआई विवाद में बदलते घटनाक्रम के बीच खबर आयी है कि  वकील गोपाल शंकरनारायणन  सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा के केस से हट गये हैं. शंकरनारायणन इस मामले में सीबीआई निदेशक की ओर से जूनियर वकील थे. टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार गोपाल शंकरनारायणन ने कहा, मैं यह स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि मैंने सोमवार की शाम को ही इस केस को छोड़ दिया था और मंगलवार को हुई सुनवाई के दौरान भी मैं वहां मौजूद नहीं था.  कहा किि मेरे और आलोक वर्मा के संबंध सौहार्दपूर्ण हैं, यह केवल व्यावसायिक संबंध था जो समाप्त हुआ है. बता दें कि मंगलवार को सुनवाई के दौरान सीवीसी की रिपोर्ट पर ब्यूरो के निदेशक का जवाब मीडिया में लीक होने पर सीजेआई ने नाराजगी जताई थी. उस समय वहां वर्मा के वरिष्ठ अधिवक्ता फली नरीमन मौजूद थे. 19 नवंबर को सीजेआई द्वारा केस में और समय मांगने की बात पूछे जाने पर नरिमन ने गोपाल पर सवाल उठाते हुए इसे अनधिकृत करार दिया था.

 सीबीआई निदेशक की ऑन रिकॉर्ड वकील पूजा धर ने अधिकृत किया था

अपनी सफाई में गोपाल शंकरनारायणन ने कहा कि उनके और वरिष्ठ वकील के बीच संवाद की कमी की वजह से उन्हें यह निर्णय लेना पड़ा है.  सोमवार को सुनवाई होने और वर्मा के बयान दर्ज होने के बाद उन्होंने केस से हाथ खींच लिये. मंगलवार को गोपाल ने बेंच के सामने स्पष्ट किया कि वर्मा के बयान के लिए और समय मांगने की बात को सीबीआई निदेशक की ऑन रिकॉर्ड वकील पूजा धर ने अधिकृत किया था, उन्होंने इसकी जानकारी नरिमन को भी दी थी.  वहीं नरिमन से इसे अनधिकृत बताते हुए कहा था कि उन्हें इसकी जानकारी ही नहीं थी.  नरिमन से मंगलवार को कहा था कि यदि एक बार किसी मामले का प्रतिनिधित्व कोई वरिष्ठ अधिवक्ता करता है तो उसके संज्ञान के बिना कुछ नहीं होना चाहिए.  वहीं, गोपाल ने केस छोड़ा कि बयान 1.30 बजे दर्ज होने की जानकारी उन्हें नहीं दी गयी थी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: