BusinessNational

ADR की रिपोर्ट : भाजपा रही नंबर वन, 2018-19 में 698 करोड़ रुपए का कॉर्पोरेट चंदा मिला, कांग्रेस को मिले 122.5 करोड़

देश के पांच सबसे बड़े कॉर्पोरेट डोनर्स की सूची में पहला नंबर प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट का है जिसने वित्त वर्ष 2018-19 में कुल 455.15 करोड़ रुपए दान किये

NewDelhi : 2018-19 में भारतीय जनता पार्टी को सर्वाधिक 698 करोड़ रुपए का कॉर्पोरेट चंदा (20 हजार रुपए से अधिक) मिला है. दूसरे नंबर पर रही कांग्रेस को 122.5 करोड़ रुपए का चंदा मिला. पांच राष्ट्रीय दलों में से भाजपा को सबसे अधिक 1573 कॉर्पोरेट/व्यापारिक दान दाताओं (20 हजार रुपए से अधिक) से 698 करोड़ दान मिला है. एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) की ताजा रिपोर्ट यही कहती है.

इसे भी पढ़ें : UN के खाद्य और कृषि संगठन के कार्यक्रम में  मोदी  ने कृषि सुधार को किसानों की आय बढ़ाने वाला करार दिया  

  एनसीपी को 17 कॉर्पोरेट/व्यापारिक दान दाताओं से 11.345 करोड़ मिले

कॉर्पोरेट डोनेशन के मामले में दूसरे स्थान पर रही कांग्रेस को 122 दान दाताओं से 122.50 करोड़ रुपए मिले. शरद पवार की एनसीपी को 17 कॉर्पोरेट/व्यापारिक दान दाताओं से 11.345 करोड़ का चंदा मिला.

जान लें कि वित्त वर्ष 2018-19 के बीच भाजपा और कांग्रेस ने क्रमश: स्वैच्छिक योगदान (20,000 रुपए से अधिक) से 94% और 82% का दान कॉर्पोरेट या व्यापारिक घरानों से हासिल किया. इस क्रम में बता दें कि कॉर्पोरेट से सीपीआई ने कोई भी चंदा घोषित नहीं किया है।.

 रिपोर्ट के अनुसार टाटा समूह समर्थित प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट भाजपा, कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस के शीर्ष दान दाता में शुमार है. ट्रस्ट ने एक वर्ष में तीन बार तीन दलों को कुल 455.15 करोड़ का दान दिया है. प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट के प्रत्येक दान से भाजपा, कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस को क्रमश: 365.535 करोड़, 55.629 करोड़ और 42.986 करोड़ का चंदा मिला है.

इसे भी पढ़ें : राहुल गांधी का मोदी सरकार पर एक और हमला, कहा, पाकिस्तान और अफगानिस्तान भी कोरोना संकट से भारत के मुकाबले बेहतर ढंग से निपटे

भाजपा को 356.535 करोड़ रुपए प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट से मिले

जहां तक भाजपा की बात है तो उसे सबसे अधिक 356.535 करोड़ रुपए प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट से मिले. 67.25 करोड़ रुपए प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट और 28 करोड़ रुपए एबी जनरल इलेक्टोरल ट्रस्ट ने दिये.  कांग्रेस को सबसे अधिक 55.629 करोड़ रुपए प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट, 34 करोड़ प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट और 7 करोड़ ग्वालियर एलकोब्रू प्राइवेट लिमिटेड ने दिये.

adv

एबी जनरल इलेक्टोरल ट्रस्ट ने 30 करोड़ रुपए दान किये

देश के पांच सबसे बड़े कॉर्पोरेट डोनर्स की सूची में पहला नंबर प्रोग्रेसिव इलेक्टोरल ट्रस्ट का है जिसने वित्त वर्ष 2018-19 में कुल 455.15 करोड़ रुपए दान किये. इसके बाद दूसरे नंबर पर प्रूडेंट इलेक्टोरल ट्रस्ट है, जिसने 10.25 करोड़ खर्च किये.

तीसरा नंबर एबी जनरल इलेक्टोरल ट्रस्ट का है, जिसने 30 करोड़ रुपए दान किये तो बीजी शिरके कंस्ट्रक्शन टेक्नॉलजी ने 20 करोड़ रुपए का चंदा दिया.  पांचवें स्थान पर मॉर्डन रोड मेकर्स हैं, जिन्होंने 15.65 करोड़ रुपए राजनीतिक दलों को दिये.

 भाजपा को वित्त वर्ष 2018-19 में कुल 742.15 करोड़ रुपए का दान मिला, जिसमें से 698.1 करोड़ रुपए कॉर्पोरेट सोर्स से मिले.  कांग्रेस को मिले कुल 148.58 करोड़ चंदों में से 122.5 करोड़ रुपए कॉर्पोरेट से मिले. तृणमूल कांग्रेस को 44.26 करोड़ रुपए में से 42.99 करोड़ रुपए कॉर्पोरेट से मिले तो एनसीपी को कुल 12.05 में से 11.35 करोड़ रुपए कॉर्पोरेट से मिले.

 छह सालों में भाजपा को कुल 2,319 करोड़ रुपए का कॉर्पोरेट चंदा मिला. कांग्रेस पार्टी को 376.02 करोड़ और एनसीपी को 69.81 करोड़ रुपए का दान मिला तृणमूल कांग्रेस की बात करें तो उसे 45.02 करोड़ रुपए मिले.

इसे भी पढ़ें : Corona Update: देश में 64 लाख से अधिक संक्रमित हुए स्वस्थ, 24 घंटे में 63 हजार से ज्यादा नये केस 

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: