JamshedpurJharkhand

पूजा कमेटियों को एडीएम का खेद मंजूर पर मंत्री की माफी नहीं, यह प्रमाण है कि जनता में सीएम-मंत्री की बातों का मोल नहीं रहा : सरयू

शिलापट्ट तोड़ने के मामले में जमानत पर जेल से रिहा होने वाले पार्टी कार्यकर्ताओं को विधायक ने किया सम्मानित  

Jamshedpur : विधायक सरयू राय ने कहा है कि एक तरफ राज्य के मंत्री प्रेस के माध्यम से सभी पूजा कमेटियों से माफी मांगते हैं, तो कमेटियां उनकी बात नहीं मानतीं. वही दूसरी ओर प्रशासन के एडीएम आ कर खेद व्यक्त करते हैं, तो सब मान जाते हैं. इसे यही साबित होता है कि जनता के बीच मंत्री और मुख्यमंत्री जैसे पद के लोगों की बातों का कोई मोल नहीं है. सरयू राय बारीडीह में भारतीय जन मोर्चा महानगर की बैठक में बोल रहे थे. बैठक में दुर्गा पूजा के त्योहार की समीक्षा की गयी. समीक्षा में यह बात खुलकर सामने आयी कि पूजा के दौरान विधि-व्यवस्था के संधारण में जिला प्रशासन ने दोहरा रवैया अख्तियार किया. भाजमो ने कहा है कि प्रशासन की कार्यशैली में विरोधाभास था, और उससे पार्टी संतुष्ट नहीं है. भाजमो की विज्ञप्ति में कहा गया है कि प्रशासन सरकार की गाइडलाइन का पालन कराने में पूरी तरह विफल रहा है. पार्टी ने कहा है कि प्रशासन के अधिकारियों ने सरकार के आदेश को पारित कराने में पक्षपात किया, जिससे जन भावना को ठेस पहुंची है.

इसे भी पढ़ें – दोस्त के घर अचेतावस्था में मिला युवक, अस्पताल में किया गया मृत घोषित

advt

इससे पहले बैठक में पिछले दिनों बर्मामाइंस के मामले में जेल से जमानत पर रिहा हुए भाजमो नेताओं दुर्गा राव, गोल्डी सिंह, रंजीत कुमार, कमल किशोर, नागेंद्र सिंह तथा नवीन, विवेक शर्मा को सरयू राय ने गुलदस्ता और शॉल देकर सम्मानित किया. उन्होंने कार्यकर्ताओं का उत्साहवर्धन करते हुए कहा कि हमारे कार्यकर्ताओं को जनहित के कार्यों के लिए जेल की यात्रा करनी पड़ी. यह उनके लिए प्रशिक्षण की तरह था. जो भी मुकदमे इन पर किये गये, वे जनहित के विरुद्ध गलत उद्देश्य से किये गये कार्यों का विरोध करने के कारण हुए. कुछ वर्चस्ववादी नेताओं ने सरकारी संपत्ति पर अवैध रूप से अपना नामकरण कर दिया था, जिसकी न तो कोई सरकारी अधिसूचना है और न ही सरकारी गजट में यह दर्ज है. भाजमो के कार्यकर्ताओं ने अपने कर्तव्य का निर्वाह किया. प्रशासन को यह स्पष्ट करना चाहिए कि उन्होंने ऐसा कौन सा अपराध किया था.  प्रशासन को यह भी बताना चाहिए कि जिन लोगों ने एक नगर का अपने नाम पर नामकरण किया था, क्या उनपर कभी कारवाई होगी.

बैठक में छठ पर्व की तैयारियों पर चर्चा हुई. सभी पदाधिकारियों को एक बैठक कर मंडल अध्यक्ष एवं मोर्चा के पदाधिकारियों के बीच जिम्मेवारी बांटने का निर्णय लिया गया. साफ-सफाई एवं अन्य व्यवस्था के लिए महिला मोर्चा को जिम्मेवारी दी गयी. बैठक की अध्यक्षता सुबोध श्रीवास्तव ने की. बैठक में संयोजक अजय सिन्हा, महामंत्री कुलविंदर सिंह पन्नू, मनोज सिंह उज्जैन, उपाध्यक्ष भास्कर मुखी, वंदना नामता, मंत्री विकास गुप्ता, राजेश कुमार झा, कोषाध्यक्ष धर्मेंद्र प्रसाद, विधायक प्रतिनिधि आकाश शाह, पी विजय राव, शंकर कर्माकर, महिला मोर्चा अध्यक्ष मंजू सिंह, अल्पसंख्यक मोर्चा अध्यक्ष जोगींद्र सिंह जोगी, अजजा मोर्चा अध्यक्ष प्रकाश कोया, अनुसूचित जाति मोर्चा अध्यक्ष  राजेश मुखी, युवा मोर्चा काशीनाथ प्रधान, इंद्रजीत सिंह,  एसपी सिंह, मिष्टु सोना, एम चंद्रशेखर राव, विजय नारायण सिंह, बिनोद यादव, विनोद राय, कैलाश झा, अमरेश राय, शमशाद खान, अभिजात चंद्रा, मार्टिन लैजरस, अमरेश राय, अमर चंद्र झा, विकास सिंह, शेषनाथ पाठक, महेश तिवारी, किरण सिंह, सीमा दास, मिथलेश श्रीवास्तव सहित अन्य उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – चापाकल से निकल रहा है ज्वलनशील तेल, जांच में पहुंचे बीडीओ-सीओ

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: