Corona_UpdatesJharkhandRanchiTOP SLIDER

2 दिन हॉस्पिटल में एडमिट रहे, झांकने तक नहीं आये डॉक्टर, हो गयी मौत

सिटी ट्रस्ट हॉस्पिटल के खिलाफ मृतक की बेटी ने सीएम से ट्विटर पर की कंप्लेन

Ranchi : कोरोना का कहर जारी है. लोग इलाज कराने के लिए परेशान हैं. बेहतर सुविधा मिले इसलिए वह प्राइवेट हॉस्पिटल का रुख कर रहे हैं. लेकिन प्राइवेट हॉस्पिटलवाले लोगों की मजबूरी का फायदा उठाने से बाज नहीं आ रहे.

आपदा की स्थिति में भी अवसर बना कर परिजनों को भारी-भरकम बिल थमाया जा रहा है. ऐसा ही एक मामला सिटी ट्रस्ट हॉस्पिटल का सामने आया है. जिसमें इंद्रपुरी के एक मरीज को सांस लेने में तकलीफ के बाद हॉस्पिटल में 2 दिन रखा गया.

उसे डॉक्टर देखने तक नहीं आये. इलाज के अभाव में उसकी मौत हो गयी. इसके बाद हॉस्पिटल प्रबंधन ने परिजनों को 50 हजार का बिल थमा दिया. मंगलवार को मृतक की बेटी ने मुख्यमंत्री को ट्वीट करते हुए मामले की जानकारी दी.

साथ ही ऐसे हॉस्पिटलों पर कार्रवाई करने की मांग की है ताकि किसी और के साथ हॉस्पिटल वाले ऐसा न करें. मुख्यमंत्री मामले में संज्ञान लेते हुए ट्वीट कर डीसी रांची को मामले की जांच करते हुए कार्रवाई का आदेश दिया है. वहीं हॉस्पिटल प्रबंधन ने भी मृतक की बेटी से उनके पैसे लौटाने के लिए संपर्क किया है.

advt

इसे भी पढ़ें :रिम्स में कोरोना वारियर्स के खाने में मिली मरी हुई छिपकली, 3 पारा मेडिकल स्टाफ को फूड प्वाइजनिंग

 

क्या है पूरा मामला

रातू रोड के भोजपुरी के रहनेवाले दिनेश्वर पांडे को 20 अप्रैल को सांस लेने में तकलीफ हुई. ऑक्सीजन लेवल 50 से 60 के बीच फ्लकचुएट कर रहा था तभी परिजन उन्हें लेकर हॉस्पिटल भागे और रात में उन्हें सिटी ट्रस्ट हॉस्पिटल में एडमिट कराया गया.

एडमिट कराते ही परिजनों से 40 हजार एडवांस जमा कराया गया. उन्हें आइसीयू में शिफ्ट कर दिया गया. बेड पर ऑक्सीजन का फ्लो बंद था. वहीं मॉनिटर भी ठीक से काम नहीं कर रहा था, जिससे कि पेशेंट की स्थिति के बारे में जानकारी मिल सके.

परिजन डॉक्टर को बुला रहे थे लेकिन कोई झांकने तक नहीं आया. 2 दिन तक स्टाफ ये करते रहे कि वेंटिलेटर लगाना पड़ेगा. लेकिन वेंटिलेटर नहीं लगाया गया और 22 अप्रैल को उनकी मौत हो गयी.

दवा का बिल में कोई जिक्र नहीं

ऑक्सीजन लेवल गिरने के कारण परिजनों ने सीटी स्कैन करने को कहा लेकिन हॉस्पिटल ने सीटी स्कैन करने से इंकार कर दिया. स्टाफ ने कहा कि सीटी स्कैन मशीन पर बिना ऑक्सीजन के नहीं रह सकेंगे. और कोरोना की दवाई शुरू कर दी गयी. 2 इंजेक्शन भी मरीज को लगायी गयी लेकिन इसका भी कोई जिक्र बिल में नहीं है.

इसे भी पढ़ें :नहीं रहे रांची के जाने-माने व्यवसायी शंभु चूड़ीवाला

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: