JamshedpurJharkhand

दुष्कर्म की शिकार नाबालिग और फंसे मजदूरों को लाने के लिए प्रशासन की टीम नेल्लोर रवाना

आंध्रप्रदेश में धालभूमगढ़ की नाबालिग मजदूर के साथ दुष्कर्म का विरोध करने पर तीन सौ महिला मजदूरों को काम से निकाल दिया गया था

Dhalbhbumgarh : आंध्र प्रदेश के नेल्लोर जिले के कोटापट्टनम स्थित फूड पार्क में मछली कंपनी में दुष्कर्म की शिकार नाबालिग एवं अन्य मजदूरों को सुरक्षित घर वापस लाने एवं मामले की तह तक पहुंचने के लिए जिला प्रशासन रेस हो गया है. जिला प्रशासन की एक टीम शुक्रवार रात आंध्र प्रदेश रवाना हो गयी है,जो स्थानीय पुलिस के सहयोग से मामले की जांच और आगे की कार्रवाई करेगी. शुक्रवार को धालभूमगढ़ थाना प्रभारी अवनीश कुमार झाड़बेड़ा के कुछ मजदूरों को लेकर वरीय पुलिस अधीक्षक के पास पहुंचे. वहां एसएसपी ने मछली कंपनी में काम कर रहे मजदूरों से घटना की जानकारी ली एवं थाना प्रभारी को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया. दोपहर बाद धालभूमगढ़ थाना में एसडीओ सत्यवीर रजक, मुसाबनी डीएसपी चंद्रशेखर आजाद, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी सत्या ठाकुर, घाटशिला महिला थाना प्रभारी रुक्मिणी कुमारी, पुलिस निरीक्षक राजेंद्र दास, थाना प्रभारी अवनीश कुमार, कार्यपालक दंडाधिकारी सुरेश करमाली, सीओ सदानंद महतो तथा सीएसआई अर्जुन यादव ने बैठक कर मजदूरों से घटना की पूरी जानकारी ली. मजदूर मो वाजिद (चाकुलिया), रोहित कालिंदी (डुमरिया), मनोज कुमार मुर्मू (वनकाटी), बड़ा महेश्वर मुर्मू (वनकाटी), देबू मांडी झाड़बेड़ा, आरसु मुर्मू, सुनीता मांडी, सुनीला मांडी आदि ने अपनी आपबीती सुनायी एवं नाबालिग व अन्य मजदूरों को वापस लाने की गुहार लगायी.

यह है मामला

विगत रविवार को कोटापट्टनम स्थित फूड पार्क की कंपनी में काम करने गयी धालभूमगढ़ की एक नाबालिग के साथ कंपनी के सुपरवाइजर वेणु ने दुष्कर्म किया था. अन्य मजदूरों ने जब इस हरकत पर विरोध जताया, तो 3 सौ से अधिक मजदूरों को काम से निकाल दिया गया. इसके बाद सभी मजदूर अपनी जान जोखिम में डाल कर अपने घर लौट गये. करीब 300 महिला-पुरुष मजदूर गुरुवार की सुबह धालभूमगढ़ स्टेशन पर उतरे.

SIP abacus

फंसे मजदूरों को लाने टीम आंध्र रवाना

Sanjeevani
MDLM

एसडीओ ने बताया कि घटना की जांच की जा रही है. वरीय पदाधिकारी के निर्देश पर वहां फंसे मजदूरों को लाने की कार्रवाई की जायेगी. डीएसपी ने कहा कि जिला प्रशासन की एक टीम शुक्रवार रात आंध्र प्रदेश रवाना होगी. आंध्रप्रदेश जानेवाली टीम में घाटशिला महिला थाना प्रभारी रुक्मिणी कुमारी, चाकुलिया पीएसआई अभय कुमार, धालभूमगढ़ के एएसआई देवनाथ सिंह, चाइल्ड लाइन के राकेश मिश्रा व चाइल्ड लाइन की एक महिला कर्मी शामिल हैं. देर शाम धालभूमगढ़ थाना में कागजी प्रक्रिया पूरी की जा रही थी.

आधार कार्ड में उम्र बढ़ाकर काम कर रहे नाबालिग

आधार कार्ड में जन्म तिथि को बढ़ाकर दूसरा आधार कार्ड बनाकर मजदूर दूसरे राज्यों में पलायन कर काम कर रहे हैं. इसका खुलासा एक पीड़ित नाबालिग की जांच से हुआ. उक्त नाबालिग ढेडांग उत्क्रमित मध्य विद्यालय में 8वीं की छात्रा है. लॉकडाउन के कारण विद्यालय बंद होने के कारण छात्रा विद्यालय नहीं जाती थी. प्रधानाध्यापक विक्रम सोरेन ने जब विद्यालय की पंजी व उक्त छात्रा का आधार कार्ड एसडीओ को दिखाया तो यह मामला सामने आया. विद्यालय में दिये गये आधार कार्ड में पीड़िता की जन्म तिथि 28 मई 2008 है, जबकि वह जहां काम रही थी, वहां दिये गये आधार कार्ड में उसकी जन्म तिथि 28 मई 2002 दर्शायी गयी है. एसडीओ व डीएसपी ने बताया कि आधार कार्ड गलत तरीके से बनाकर कंपनी में काम कराया जाता है. ऐसे में काम कर रहे लोगों को भी सोचना होगा.

इसे भी पढ़ें – गालूडीह में नशे में धुत ट्रेलर चालक ने मालवाहक टेंपो को घसीटा, जमशेदपुर निवासी चालक के दोनों पैर कटे

Related Articles

Back to top button