न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रधानमंत्री के कार्यक्रम के लिए प्रशासन ने स्कूलों से मांगी बसें, रांची के अधिकांश स्कूल बंद, परीक्षाएं कैंसल

388

Ranchi : 12 सितंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रांची आ रहे हैं. पीएम मोदी रांची स्थित नये विधानसभा भवन का उद्घाटन करेंगे. इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रांची के धुर्वा स्थित प्रभात तारा मैदान में जनसभा को संबोधित करेंगे. इस कार्यक्रम में राज्यभर से लोगों को आना है. लोगों को लाने ले जाने के लिए प्रशासन ने राज्यभर के प्राइवेट स्कूलों से बसें मांगी हैं.

राज्यभर से 700 सौ और केवल रांची के स्कूलों से 100 से अधिक बसों को जमा करने का आदेश निकाला गया है. इस वजह से शहर के तमाम स्कूलों ने गुरुवार को स्कूल बंद रखने का संदेश अभिभावकों को भेजा है. वहीं जिन स्कूलों ने बंद नहीं किया है, उन्होंने अभिभावकों से अपने बच्चे को लाने और ले जाने की व्यवस्था स्वयं करने को कहा है.

इसे भी पढ़ें – #JPSC की कार्यशैली पर लगातार प्रतिक्रिया दे रहे हैं छात्र, पढ़ें-क्या कहा छात्रों ने…. (छात्रों की प्रतिक्रिया का अपडेट हर घंटे)

परीक्षाओं को करना पड़ा कैंसल

गौरतलब है कि इन दिनों सभी स्कूलों में कक्षा छह से लेकर 12 वीं तक के मिड टर्म एक्जाम चल रहे हैं. स्कूलों में ये परीक्षाएं अलटरनेट डे के रूप में लिए जा रहे हैं. ऐसे में जिन क्लासेस की परीक्षाएं गुरुवार को पड़ रही हैं, उन्हें कैंसल कर दिया गया है.

डीपीएस, लोयला कॉन्वेंट, गुरुनानक सीनियर सेकेंडरी स्कूल, जेवीएम आदि स्कूलों में परीक्षाओं को कैंसल किया गया है. इस संबंध में प्राचार्यों ने कहा कि प्रशासन का आदेश है. हमें तो मानना ही होगा.

तमाम स्कूल रहेंगे बंद

गुरुवार को प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को लेकर स्कूलों को बंद रखने का फैसला कई स्कूल प्रबंधनों ने लिया है. अब तक की जानकारी के अनुसार, गुरुनानक सीनियर सेकेंडरी स्कूल, जेवीएम श्यामली, सुरेंद्रनाथ सेंटेनरी स्कूल, डीपीएस सेल सिटी आदि स्कूल बंद रहेंगे. वहीं संत थॉमस स्कूल, सरस्वती विद्या मंदिर, टेंडर हार्ट स्कूल, सरला-बिरला स्कूल ने भी बंद रखने की घोषणा की है.

इसे भी पढ़ें – #CCL CMD गोपाल सिंह का Political अवतार!

स्कूलों की बात नहीं सुनता प्रशासन

विभिन्न स्कूल प्रबंधन ने बताया कि आये दिन शहर में ऐसे कार्यक्रम होते रहते हैं, जब स्कूलों से बसें जमा करने को कही जाती है. आदेश जारी करने से पहले प्रशासन स्कूल मैनेजमेंट के साथ बैठक करता है. स्कूलों की मानें तो यह बैठक एक तरफा होती है, जहां केवल आदेश दिये जाते हैं.

इस संबंध में सीबीएसइ सहोदया के प्रमुख व डीपीएस के प्राचार्य डॉ राम सिंह ने बताया कि हमारी ओर से प्रशासन को स्कूल परीक्षाओं का शेड्यूल दिखाया गया, लेकिन प्रशासन ने इस ओर ध्यान ही नहीं दिया.

अभिभावकों की बढ़ रही परेशानी

इस तरह से अचानक से स्कूल से नोटिस आने से अभिभावकों की परेशानी बढ़ जाती है. सीबीएसई के सिटी कॉर्डिनेटर डॉ मनोहर लाल कहते हैं, इस तरह से प्रशासनिक आदेश का असर सिलेबस पर पड़ता है.

जिस दिन बस जमा करना होता है, उस दिन तो छुट्टी करनी ही पड़ती है, कई बार कार्यक्रम के दूसरे दिन भी स्कूल बसों के वापस नहीं आने की स्थिति में क्लासेस रोकने पड़ते हैं.

इसे भी पढ़ें – बड़कागांव विधानसभाः #BJP #AJSU नेताओं-कार्यकर्ताओं के बीच दावेदारी और बयानबाजी तेज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है कि हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें. आप हर दिन 10 रूपये से लेकर अधिकतम मासिक 5000 रूपये तक की मदद कर सकते है.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें. –
%d bloggers like this: