JharkhandLead NewsRanchi

अनौपचारिक शिक्षा अनुदेशकों का समायोजन विधि विभाग से विमर्श के बाद होगा : जगरनाथ

झारखंड विधान सभा के बजट सक्ष में सदन में आये 56 गैर सरकारी संकल्प

Ranchi: शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने सदन में कहा कि सरकारी अनौपचारिक शिक्षा अनुदेशकों को विधि विभाग से विमर्श लेने के बाद समायोजित करने का फैसला सरकार लेगी. सदन में विधायक ममता देवी ने सवाल उठाया था.
1980 में अनौपचारिक शिक्षा शुरू हुई थी. इस पर 2001 में विराम लग गया. इसलिए झारखंड अनौपचारिक शिक्षा अनुदेशकों को चतुर्थवर्गीय पद पर समायोजित किया जाए.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : जज उत्तम आनंद मौत मामले में हाईकोर्ट ने CBI से मांगी रिपोर्ट, व्हाट्सएप के इंडिया हेड को पार्टी बनने का आदेश

ST क्षेत्र में लैंड बैंक खत्म करने पर विचार करेगी सरकार : जोबा

Catalyst IAS
ram janam hospital

मंत्री जोबा मांझी ने सदन में कहा है कि ST क्षेत्र में लैंड बैंक को खत्म किए जाने को लेकर सरकार विचार करेगी. विधायक नमन विक्सल कोंगाड़ी ने सदन में यह मांग उठाते हुए कहा कि सरकार लैंड बैंक को निरस्त कर व्यक्तिगत और समुदायिक स्तर की गैरमजरूआ भूमि का सरकारी स्तर से सर्वे कराकर पट्टा देने की घोषणा करे

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :झारखंड सरकार HEC के रिवाइवल के लिए नए सिरे से प्रयास करेगी : हेमंत सोरेन

विष्णुगढ़ को मिले अनुमंडल का दर्जा

विधायक जयप्रकाश भाई पटेल ने हजारीबाग जिले के विष्णुगढ़ प्रखंड को पूर्ण रूप से अनुमंडल का दर्जा देने की मांग की. उन्होंने कहा कि प्रखंड अनुमंडल बनने की अहर्ता पूरी करता है. 2015 से ही वहां SDPO बैठते हैं. इस पर मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि आयुक्त से अनुशंसा आने के बाद सरकार इस पर फैसला जल्द लेगी.

इसे भी पढ़ें :विधायक पूर्णिमा के गैर सरकारी संकल्प पर मंत्री भोक्ता ने कहा, धनबाद नगर निगम क्षेत्र में भी कृषि और पशुपालन विभाग की योजनाओं का लाभ दिलाएंगे

दुमका में हो हाईकोर्ट की बेंच की स्थापना

विधायक प्रदीप यादव ने दुमका में हाईकोर्ट की बेंच और शिक्षा एवं कल्याण निदेशालय की स्थापना की मांग की. उन्होंने कहा कि यह मांग वर्षों से हो रही है. इस पर मंत्री आलमगीर आलम ने कहा कि इसको लेकर चीफ सेक्रेटरी की अध्यक्षता में जल्द बैठक की जाएगी.

इसे भी पढ़ें:अक्षय ऊर्जा की योजनाओं के लिए राज्य को मिले 32 करोड़ रूपये, सौर और पन बिजली को मिला प्रोत्साहन

फैसला आने तक नोटिस भेजना बंद करे निगम : नवीन

विधायक नवीन जायसवाल ने सदन में कहा कि रांची में 2 लाख 30 हजार से ज्यादा मकान बिना नक्शा पास के बने हुए हैं. उन्हें लगातार नगर निगम की ओर से नोटिस भेजा जा रहा है, जबकि यह मकान रांची नगर निगम की स्थापना से पहले बने हैं. यह मामला सरकार के उच्च स्तर पर विचाराधीन है. जबतक इस पर फैसला नहीं आता है तब तक नोटिस देना बंद किया जाए.

इसे भी पढ़ें:राज्य में नौ फसलों की 16 उन्नत किस्में जारी, चार को BAU ने किया विकसित

Related Articles

Back to top button