ChaibasaJamshedpurJharkhand

Jamshedpur: विश्व आदिवासी दिवस पर आदिवासी एकता मंच निकालेगा मोटरसाइकिल रैली सह शोभा यात्रा

Jamshedpur: आदिवासी एकता मंच की बैठक नेशनल हाइवे 33 के समीप श्रीघुटु-पलासबनी फुटबाल मैदान में हुई. बैठक में सर्वसम्मति से फैसला हुआ कि 9 अगस्त विश्व आदिवासी दिवस के अवसर पर मोटरसाइकिल सह शोभा यात्रा का आयोजना किया जाएगा. मोटरसाइकिल यात्रा फूलो-झानो चौक श्रीघुटु से प्रारंभ होकर बालीगुमा स्थित तिलका माझी की प्रति‍मा पर माल्यार्पण करने के बाद तिलका माझी चौक पर तिलका मांझी की प्रति‍मा पर माल्यार्पण, साकची कोर्ट के समीप भीमराव अम्बेडकर को माल्यार्पण, बिरसा मुंडा चौक पर बिरसा मुंडा के नाम से की गई पत्थलगड़ी पर माल्यार्पण कर बारीडीह चौक से मर्सी हॉस्पिटल चौक होते हुए हुरलुंग पुल के समीप गंगानारायण की प्रति‍मा पर माल्यार्पण कर बांकी से गुरमा हाट मैदान स्थित निर्मल महतो की प्रति‍मा पर माल्यार्पण करते हुए नारगा में एकजुट होंगे. वहां एक छोटी सी सभा करने के बाद रैली समाप्त होगी.
रैली आदिवासी को अलग धार्मिक पहचान देने की मांग को लेकर निकाली जाएगी. एकता मंच के पदधार‍ियों ने बताया कि अन्य समुदायों की तरह आदिवासी समुदाय की भी स्वतंत्र धार्मिक पहचान है. इधर, आदिवासियों का धार्मिक अतिक्रमण भी बढ़ा है. जिसे रोकने और आदिवासी, आदिवासियत और इनके अस्तित्व रक्षा के लिए अलग स्वतंत्र धार्मिक पहचान को मान्यता देने की जरूरत है. मौके पर आदिवासी एकता मंच, झारखंड कमिटी का भी गठन किया गया. अध्यक्ष दीनबंधु सिंह, उपाध्यक्ष लक्ष्मी पूर्ति एवं गोपी बोदरा, सचिव छोटू सोरेन, सहसचिव रतन भूमिज, मीडिया प्रभारी कैलाश सिंह और सुनील हेम्ब्रम को बनाया गया. इसके अलावा संचालन समिति में अजीत तिर्की, सुनील हेंब्रम, रुद्रा सिंह, रतन सिंह, सोमनाथ पाड़िया, घासीराम सिंह, राजाराम मुर्मू, जैकब किस्कू, दीपक लकड़ा, दीपक रंजीत, बलराम कर्मकार, दिनकर कच्छप, किसना लोहार को शाम‍िल क‍िया गया. मंच का कार्यालय धम्बो हेम्ब्रम भवन , तुरियाबेड़ा (ब्लू वेल्स स्कूल के सामने) देवघर, पूर्वी सिंहभूम, झारखंड होगा.
बैठक में ये रहे शामिल
बैठक में मुख्यरूप से सुनील हेम्ब्रम, दीपक रंजीत, राजाराम मुर्मू , रतन भूमिज, रुद्र सरदार, कैलाश भूमिज, दीनबंधु भूमिज, छोटू सोरेन, धनंजय भूमिज, घासीराम भूमिज, गुरुचरण भूमिज, बादल धोरा, सरकार सोरेन, भोला सोरेन आदि उपस्थित थे.

ये भी पढ़ें- SAWAN SPECIAL : खुदाई में मिले शिवलिंग को अंग्रेज इंजीनियर ने किया था खंडित, कुछ देर में हो गयी थी मौत, आज भी यहां होती है खंडित शिवलिंग की पूजा

Related Articles

Back to top button