Lead NewsNational

BIG NEWS : रेप केस में skin to skin touch का विवादित फैसला देनेवाली बॉम्बे हाईकोर्ट की एडिशनल महिला जज ने दिया इस्तीफा

Mumbai : स्किन टू स्किन टच मामले (skin to skin touch) में विवादित फैसला देकर चर्चा में आईं बोम्बे हाईकोर्ट की एडिशनल जज पुष्पा गनेडीवाला (pushpa ganediwala) ने शुक्रवार को इस्तीफा दे दिया है. जस्टिस गनेडीवाला ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद (President Ramnath Kovind) को अपना इस्तीफा सौंप दिया और इसी के साथ भारत के मुख्य न्यायाधीश एनवी रमना (CJI N V Ramana) और बॉम्बे हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता (Bombay HC Chief Justice Dipankar Datta) को भी एक-एक प्रति भेजी है.

खास बात यह है कि उन्होंने अपना कार्यकाल पूरा होने से एक दिन पहले ही इस्तीफा दे दिया. हाईकोर्ट में एडिशनल जज के तौर पर 12 फरवरी को उनके सेवा काल का अंतिम दिन है, लेकिन इससे पहले ही उन्होंने इस्तीफा दे दिया है. पुष्पा गनेडीवाला 11 फरवरी को आखिरी दिन हाईकोर्ट आयीं.

इसे भी पढ़ें:पंजाब में आप पार्टी के सीएम चेहरे भगवंत मान को बनाया निशाना! भीड़ में से फेंकी चीज आंख में लगी

ram janam hospital
Catalyst IAS

ये है वजह

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

बताया जा रहा है कि एडिशनल जज के रूप में सेवा विस्तार नहीं मिलने और सर्वोच्च न्यायालय के कोलेजियम में स्थान नहीं मिल पाने की वजह से यह इस्तीफा आया है. उम्मीद जताई जा रही है कि अब वह उच्च न्यायालय और सर्वोच्च न्यायालय में प्रैक्टिस करेंगी.

गौरतलब है कि पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम (Supreme Court Collegium) ने बॉम्बे हाईकोर्ट (Bombay High Court) की महिला अतिरिक्त जज जस्टिस पुष्पा वी गनेडीवाला (Justice Pushpa V Ganediwala) को स्थायी जज के रूप में सिफारिश नहीं करने का फैसला किया था. हालाँकि इसके पहले भी, केंद्र सरकार ने अतिरिक्त जज के रूप में उन्हें दो साल का विस्तार देने के कॉलेजियम के फैसले को लेकर असहमति जताई थी.

इसने यौन शोषण का सामना करने वाले बच्चों के प्रति उनकी असंवेदनशीलता के आधार पर केवल एक साल का विस्तार दिया था.

इसे भी पढ़ें:JSSC CGL में आवेदन करने के लिए वे सभी उम्मीदवार योग्य जिन्होंने साल 2019 में किया था आवेदन

सुप्रीम कोर्ट ने पलटा था निर्णय

जस्टिस गनेडीवाला ने ही ‘स्किन टू स्किन कॉन्टैक्ट (Skin-to-Skin Contact)’ वाला विवादित फैसला दिया था, जिसे बाद में सुप्रीम कोर्ट ने पलटा था. इस फैसले में उन्होंने कहा था, “12 वर्ष की लड़की का स्तन दबाया जाता है. लेकिन इसकी जानकारी नहीं है कि आरोपित ने उसका टॉप हटाया था या नहीं? ना ही यह पक्का है कि उसने टॉप के अंदर हाथ डाल कर स्तन दबाया था! ऐसी सूचनाओं के अभाव में इसे यौन शोषण नहीं माना जाएगा.

यह आईपीसी की धारा 354 के दायरे में ज़रूर आएगा, जो स्त्रियों की लज्जा के साथ खिलवाड़ करने के आरोप में सज़ा की बात करता है.”

इसे भी पढ़ें:डीजीपी नीरज सिन्हा के मामले में जल्द सुनवाई के आग्रह को सुप्रीम कोर्ट ने ठुकराया

और भी विवादित फैसले दिये थे

इसके बाद जस्टिस गनेडीवाला का एक और फैसला आया था. उनकी अगुवाई वाली बॉम्बे हाई कोर्ट की नागपुर बेंच की एकल पीठ ने यह फैसला दिया था कि किसी लड़की का हाथ पकड़ना और आरोपित का पैंट की जिप खोलना प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रेन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेज ऐक्ट, 2012 (POCSO) के तहत यौन हमले की श्रेणी में नहीं आता.

इसे भी पढ़ें:बोधगया ब्लास्ट मामले में NIA कोर्ट ने बांग्लादेशी आतंकी को सुनाई 10 साल की सजा

मुँह दबाना, कपड़े खोलना, फिर रेप करना… अकेला आदमी नहीं कर सकता

इसके अलावा जस्टिस का एक और फैसला सामने आया. ये भी रेप से जुड़ा मामला था. इस मामले में भी निचली अदालत ने 26 साल के आरोपित को रेप का दोषी पाया था, लेकिन जस्टिस पुष्पा ने उसे बरी कर दिया .

जस्टिस पुष्पा ने तर्क दिया, “बिना हाथापाई किए युवती का मुँह दबाना, कपड़े उतारना और फिर रेप करना एक अकेले आदमी के लिए बेहद असंभव लगता है.”

इसे भी पढ़ें:BUS में करिये Delhi से london का रोमांचक सफर, 18 देशों से गुजरते हुए 70 दिनों की यात्रा में मिलेंगी कई लग्जरी सुविधाएं

2019 में बॉम्बे हाईकोर्ट में एडिशनल जज बनीं

1969 में महाराष्ट्र के अमरावती जिले में जन्मीं पुष्पा गनेडीवाला ने बीकॉम, एलएलबी और फिर एलएलएम की पढ़ाई की है. वो 2007 में डिस्ट्रिक्ट जज अपॉइंट हुई थीं.

वो मुंबई सिविल कोर्ट और नागपुर की डिस्ट्रिक्ट और फैमिली कोर्ट में रहीं. फिर बाद में वो बॉम्बे हाईकोर्ट की रजिस्ट्रार जनरल रहीं. 2019 में वो बॉम्बे हाईकोर्ट में एडिशनल जज बनीं.

इसे भी पढ़ें:साउथ इस्टर्न रेलवे ने अपने नेटवर्क का शत प्रतिशत इलेक्ट्रिफिकेशन किया पूरा

Related Articles

Back to top button