न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक्टर विवेक मुशरान ने कहा- हीरो के ढांचे से बाहर आना आसान नहीं

558

New Delhi : फिल्म सौदागर से बॉलीवुड में करियर की शुरुआत करने वाले अपने दौर के रोमांटिक अभिनेता विवेक मुशरान के अनुसार हीरो के ढांचे से बाहर आना आसान नहीं होता.

गौरतलब है कि साल 1991 से सुभाष घई की फिल्म सौदागर से रोमांटिक हीरो के तौर पर अपनी अलग पहचान बनाने वाले विवेक ने फर्स्ट लव लेटर, प्रेम दीवाने जैसी कई हीट फिल्में दी हैं.

इसे भी पढ़ें- कहीं ‘राम’ की वजह से ‘टहल’ ना जाये रांची में ‘बीजेपी’

मुझे आज के दौर की फिल्में पसंद : विवेक

90 दशक की किस चीज को वो सबसे ज्यादा याद करते हैं के बारे में जब विवेक से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि नहीं, मुझे किसी चीज की याद नहीं आती. ईमानदारी से कहूं तो भास्कर भारती फिल्म करने के बाद मुझे पहली बार अहसास हो रहा है कि मैं भी एक स्वतंत्र अभिनेता हूं.

विवेक ने कहा कि मुझे आज की दौर की फिल्में पसंद है, जिनमें मैंने अभिनय भी किया है. इससे मुझे हीरो के ढांचे से बाहर आने में मदद मिली. मेरे ख्याल से हीरो का किरदार एक सीमा में बंधा होता है. वहीं एक अभिनेता के तौर पर आपके पास हर तरह का काम रहता है.

मैं अतीत को लेकर रोने की जगह, जो वर्तमान में हो रहा है उसमें सकारात्मकता देखता हूं. मैं अपने फिलहाल के काम से खुश हूं, लेकिन हीरो के ढ़ांचे से बाहर आना आसान नहीं होता.

इसे भी पढ़ें- प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का खुद पर नियंत्रण नहीं, प्रदेश की 80 इंडस्ट्रीज सबसे अधिक प्रदूषित, फिर भी…

शिमला में कर रहे वेब सीरिज की शूटिंग

उन्होंने कहा कि निर्माताओं को लगा कि ‘तमाशा’ के जरिए मैं अपने पुरानी छवि को तोड़ सकता हूं. तमाशा मेरी पहली ऐसी फिल्म है जिसमें मेरा किरदार एक चाकलेटी हीरो वाला नहीं था.

मुझे कई प्रस्ताव मिल रहे हैं, लेकिन मैं चाहता हूं मेरे पास प्रस्ताव की बाढ़ आ जाए. मैं एक लालची अभिनेता हूं. मुझे बहुत काम करना है वो भी विभिन्नता के साथ. मेरा सपना है कि मैं सभी फिल्मों में नजर आऊं.

विवेक फिलहाल टेलीविजन सीरियल ‘मैं मायके चली जाउंगी तुम देखते रहियो’ में हैप्पी गो लकी के किरदार में नजर आ रहे हैं. इसके अलावा वह शिमला में एक वेब सीरीज की शूटिंग भी कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- झारखंड में 15 लाख 4 हजार 408 मतदाताओं का अबतक नहीं बन पाया है वोटर आइडी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: