Fashion/Film/T.VLead News

बहन की शादी में गा रहे मुकेश के टेलेंट को एक्टर मोतीलाल ने पहचाना, फिल्मों में ले गये

गायक मुकेश की जयंती पर विशेष

Naveen Sharma

Ranchi : मुकेश साहब मेरे सबसे प्रिय गायकों में से हैं. हाई स्कूल के दिनों में मुकेश के गीतों के चस्का लगा था. टूटे हुए दिलों के जज्बातों से भरे गीतों को वो अपनी दर्द भरी आवाज में बड़ी ही शिद्दत से गाते थे. उनके गीत दिल से सीधे दिल तक पहुंच जाते हैं. उनकी आवाज में एक अलग सी कशिश है जो उनके बाद किसी और गायक में नहीं मिलती. मुकेश की एक और बड़ी खूबी ये है कि उन्होंने सभी गाने उम्दा चुने. आप काफी कोशिश करके भी मुकेश का एक भी गाना नहीं बता सकेंगे जिसे घटिया, रदी, भौंडा या अश्लील कहा जा सके. यानी उनके सारे गीत प्योर गोल्ड है.

इसे भी पढ़ें :‘#jssc_नियमावली में सुधार_करो’ हैशटैग के साथ बेरोजगार कर रहे विरोध

advt

दिल से गाते थे

मुकेश की सबसे बड़ी खूबी ये थी कि वो दिल से गाते थे. इसलिए शायद उनकी आवाज अंतरतम को छू जाती थी. रफी साहब भले ही गले की कलाकारी में मुकेश से बेहतर रहे हों, किशोर कुमार में ज्यादा वेरिएशन रहा हो या आवाज में एक मर्दानगी और खनक रही हो, लेकिन विरह के गीतों को लाजवाब बनाने में मुकेश साहब का कोई सानी नहीं है.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : 42 लाख लोगों ने फर्जी तरीके से लिये PM Kisan Samman Nidhi के 2,900 करोड़ रुपये, वसूल करेगी सरकार

ऐसे बदली किस्मत

मुकेश अपनी बहन की शादी में गाना गा रहे थे. इस कार्यक्रम में अभिनेता मोतीलाल भी थे. मोतीलाल को मुकेश की आवाज पसंद आई. .मोतीलाल उन्हें बंबई ले गए.वहीं अपने घर में रहने की जगह दी. साथ ही मुकेश के लिए संगीत रियाज का पूरा इंतजाम किया.

प्यारी आवाज और खूबसूरत चेहरा

मुकेश चंद्र माथुर की आवाज तो प्यारी थी ही वे दिखते भी बेहद खूबसूरत थे. वे हिंदी सिनेमा के किसी भी हैंडसम हीरो को टक्कर देते नजर आते हैं. प्रारंभिक दौर में उन्होंने कुछ फिल्मों में हीरो की भूमिका भी निभाई थी.

इसे भी पढ़ें :संसद में भारी हंगामाः राज्यसभा में TMC सांसदों ने आईटी मिनिस्टर से छीनकर फाड़े पेपर

राजकपूर की आवाज

मुकेश और राजकपूर की जोड़ी बेमिसाल थी. राजकपूर की अधिकतर फिल्मों जैसे अनाड़ी, आवारा, मेरा नाम जोकर, जिस देश में गंगा बहती है, संगम, धरम करम में मुकेश ने ही गाने गाए. यहां तक की राजकपूर मुकेश को अपनी आवाज कहने लगे. इस जोड़ी ने एक से बढ़कर एक गीत दिए.मुकेश ने राज कपूर की इतनी फिल्मों में गाने गए कि उन्हें राज कपूर की आवाज के नाम से जाना जाने लगा.

राज कपूर को जब उनकी मौत की खबर मिली तो उनके मुंह से आवाज भी नहीं निकली थी. मानो राज की जिंदगी किसी ने छीन ली हो. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एक इंटरव्यू में राज ने कहा था मुकेश के जाने से मेरी आवाज और आत्मा दोनों चली गई.

इसे भी पढ़ें :समर्पण कर चुके नक्सलियों को योजनाओं का लाभ देने का डीसी ने दिया निर्देश

मनोज कुमार के लिए भी बेहतरीन गीत गाए

राजकपूर के बाद मुकेश ने सबसे अधिक जिस एक्टर के लिए गाने गाये हैं वो हैं मनोज कुमार. साल 1970 में मुकेश को मनोज कुमार की फ़िल्म ‘पहचान’ के गीत के लिए दूसरा फ़िल्मफेयर मिला और फिर 1972 में मनोज कुमार की ही फ़िल्म के गाने के लिए तीसरी बार फ़िल्मफेयर पुरस्कार दिया गया.

रजनीगंधा’ के गाने के लिए राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार

1974 में फ़िल्म रजनीगंधा के गाने कई बार यूं ही देखा है ये जो मन की सीमा रेखा है, मन तोड़ने लगता है के लिए मुकेश को राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार दिया गया. 70 के दशक में भी इन्होंने कई सुपरहिट गाने दिये जैसे— फ़िल्म ‘धरम करम’ का एक दिन बिक जाएगा.

1976 में यश चोपड़ा की फ़िल्म ‘कभी कभी’ के शीर्षक गीत के लिए मुकेश को चौथा फ़िल्मफेयर पुरस्कार मिला. मुकेश ने अपने करियर का आखिरी गाना अपने दोस्त राज कपूर की फ़िल्म के लिए ही गाया था.

27 अगस्त 1976 को अमेरिका में स्टेज प्रोग्राम के दौरान मुकेश का दिल का दौरा पड़ने से निधन हुआ था. रफी, किशोर और मुकेश तीनों लिजेंड गायकों में मुकेश साहब ने सबसे कम गीत गाए लेकिन जो भी गाये वो लाजवाब गाए. मुकेश साहब को उनके उनकी जयंती पर इस नाचीज की तरफ से हार्दिक स्मरणांजलि.

इसे भी पढ़ें :JRD TATA ने PM इंदिरा गांधी को भेजा था परफ्यूम, जानें क्या मिला था जवाब

उनके सैकड़ों अनमोल गीतों में से कुछ लोकप्रिय

1 कई बार यूं ही देखा है
2 तू कहे अगर
3 ज़िन्दा हूँ इस तरह से
4 मेरा जूता है जापानी (फ़िल्म आवारा से)
5 ये मेरा दीवानापन है (फ़िल्म यहूदी से)
6 किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार (फ़िल्म अन्दाज़ )
7 ओ जाने वाले हो सके तो लौट के आना (फ़िल्म बंदिनी )
8 दोस्त दोस्त ना रहा (फ़िल्म संगम )
9 जाने कहां गये वो दिन (फ़िल्म मेरा नाम जोकर से)
10 मैने तेरे लिए ही सात रंग के सपने चुने (फ़िल्म आनन्द )
11 इक दिन बिक जाएगा माटी के मोल (फ़िल्म धरम करम )
12 मैं पल दो पल का शायर हूँ
13 कभी कभी मेरे दिल में खयाल आता है (फ़िल्म कभी कभी )
14 चंचल शीतल निर्मल कोमल (फ़िल्म सत्यम शिवम सुन्दरम् से)
15 दुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समायी
16 डम-डम डिगा-डिगा मौसम भिगा-भिगा.

इसे भी पढ़ें :दूसरे वनडे में मैच जिताऊ पारी खेलने वाले चाहर ने DHONI को दिया क्रेडिट, जानें क्या कहा

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: