न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तीज को लेकर बाजार में रही हलचल, खरीदारी में बिजी रहीं महिलाएं

मंगलवार रात 7.53 बजे से लगेगा तीज का योग, बुधवार देर शाम 6.38 बजे तक रहेगा

249

Ranchi : हरितालिका तीज व्रत बुधवार को है. इसे लेकर महिलाओं में विशेष उत्साह देखा जा रहा है. सप्ताह भर पहले से महिलाएं तीज को लेकर खरीदारी करती हैं. वहीं, मंगलवार को शहर के बाजार में विशेष भीड़ देखी गयी. कपड़े से लेकर फल, पूजा सामग्री आदि की दुकानों पर महिलाओं की भीड़ देखी गयी. शहर के पूजा सामग्री बेचनेवाले दुकानदारों ने बताया कि तीज के लिए पूर्व से ही दुकानदार तैयारी कर लेते हैं, क्योंकि पूजा के एक दिन पहले महिलाओं की भीड़ दुकानों में उमड़ पड़ती है. पूजा में मुख्य रूप से सुहागिनें डाला की खरीदारी करती हैं, जिसमें सिंदूर, बिंदी, चूड़ी, फीता, लाल वस्त्र, आईना, आलता होता है. बाजार में इसकी कीमत 40 रुपये से 100 रुपये तक है. वहीं धूप, दीप, अगरबत्ती, भांग, कसैली, रोली, सिंदूर आदि की बिक्री हो रही है. तीज व्रत का सुहागिनों के लिए विशेष महत्व है.

घुटन में माइनॉरटी IAS ! सरकार पर आरोप- धर्म देखकर साइड किए जाते हैं अधिकारी

इसे भी पढ़ें- अक्सर बंद रहते हैं गिरिडीह के वाटर ATM, नगर निगम उदासीन

सिंगल बॉर्डर की साड़ियां बनीं पहली पसंद

तीज को लेकर कपड़ा दुकानों में महिलाओं की विशेष भीड़ी देखी गयी. साड़ियों में महिलाओं की पहली पसंद सिंगल बॉर्डर और लाइट वेट साड़ियां हैं. बाजार में इन साड़ियों की मांग यूं तो पहले से देखी जा रही है, लेकिन इस वर्ष तीज में महिलाओं का रूझान ऐसी ही साड़ियों की ओर है, जो सिफॉन, जॉर्जेट, कोटा, नेट, सुपरनेट, समर वर्क आदि फैब्रिक में मिल रहे हैं. इनकी कीमत 700 से शुरू होती है.

इसे भी पढ़ें- 17 से 25 सितंबर तक पूरे राज्य में मनाया जायेगा सेवा दिवस : रघुवर दास

महिलाएं गुरुवार को करेंगी परायण

palamu_12

यूं तो तीज पूर्णतया बुधवार को मनाया जायेगा, लेकिन मंगलवार रात 7.53 बजे से ही तीज का योग शुरू हो जायेगा, जो बुधवार को संध्या 6.38 बजे तक रहेगा. प्राचीन श्री राम मंदिर चुटिया के कार्यकारी पुजारी महंत गोकुल बाबा ने बताया कि महिलाएं विधि-विधान से बुधवार को ही हरितालिका तीज का व्रत करेंगी. व्रत के दौरान महिलाएं निर्जला रहेंगी. वहीं, गुरुवार को विधि-विधान से परायण करेंगी.

इसे भी पढ़ें- घुटन में माइनॉरटी IAS ! सरकार पर आरोप- धर्म देखकर साइड किए जाते हैं अधिकारी

पति-पत्नी के प्रेम का प्रतीक है तीज

कथाओं और परंपराओं के अनुसार माता पार्वती ने वर्षों कठोर तपस्या कर भगवान शिव को वर के रूप में प्राप्त किया था. इसी कामना के साथ महिलाएं तीज का व्रत करती हैं, साथ ही अखंड सुहाग की कामना करती हैं. इस पति-पत्नी के प्रेम का प्रतीक माना जाता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: