Palamu

हुनर के हिसाब से प्रवासी मजदूरों को मिले रोजगार: इंटक

Palamu: इंडियन नेशनल ट्रेड यूनियन कांग्रेस (इंटक) के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मंत्री केएन त्रिपाठी ने कहा कि लॉकडाउन लगने के बाद एक बार फिर देश के अलग-अलग राज्यों से प्रवासी मजदूरों का आना शुरू हो गया है. बड़ी संख्या में मजदूर झारखंड के अलावा बिहार, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, उड़ीसा, पश्चिम बंगाल सहित अन्य राज्यों में अपने घर पहुंच रहे हैं.

इंटक अध्यक्ष ने शनिवार को मेदिनीनगर में एक वीडियो जारी कर राज्य सरकारों से कहा कि मजदूर कई तरह की परेशानियों को खेलते हुए अपने अपने गांव लौट रहे हैं. कई मजदूर कोविड-19 संक्रमित हैं. उनके समक्ष महंगे हॉस्पिटल में इलाज और दवा कराना मुश्किल साबित हो रहा है बेरोजगारी का भी संकट उनके समक्ष स्पष्ट तौर पर झलक रहा है. कई राज्यों से उनके संगठन इंटक को फोन आ रहे हैं और इलाज, रोजगार आदि की गुहार लगाई जा रही है.

इंटक के अध्यक्ष ने कहा कि ऐसी स्थिति में देश के अलग-अलग राज्य सरकारों से उनका आग्रह है कि वह प्रवासी मजदूरों को हुनर के हिसाब से रोजगार मुहैया कराएं. कोविड-19 की जांच कराएं. उनका बेहतर इलाज हो, ताकि वे बेहतर जीवन बसर कर सकें. अगर उनके हुनर के हिसाब से उनके राज्य में ही उन्हें रोजगार मिलेगा तो वे एक बार फिर दूसरे राज्यों में पलायन नहीं करेंगे और उन्हें लॉकडाउन जैसे मौकों पर अपने घर लौटने में किसी तरह की समस्या नहीं आएगी.

Advt

Related Articles

Back to top button