Main SliderNational

लोगों की लापरवाही से अटल टनल में हो रहे हादसे, 72 घंटे में 3 दुर्घटनाएं

New Delhi : अभी चंद दिन पहले ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अटल टनल का उद्घाटन किया था. इसके बाद से ही लोगों की लापरवाही से टनल में दुर्घटनाओं का सिलसिला शुरू हो गया है. एक दूसरे से आगे निकलने की होड़, लापरवाही से ड्राइविंग करने और तसवीरें खींचने की वजह से पिछले 72 घंटों में तीन दुर्घटनाएं हो चुकी है. गौरतलब है कि अटल टनल इंजीनियरिंग की शानदार मिसाल है. यह लगभग नौ किलोमीटर लंबी सुरंग है. इससे मनाली और लेह के बीच की दूरी 46 किलोमीटर कम हो गयी है. यात्रा का समय भी घट गया है.

इसे भी पढ़ें :ड्रग्स मामला : अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती की हिरासत की अवधि 20 अक्तूबर तक बढ़ी

सरकार की चिंता बढ़ी

Catalyst IAS
ram janam hospital

नागरिकों की लापरवाही से हो रहे हादसों ने सरकार और प्रशासन की  चिंता भी बढ़ा दी है. केंद्रीय खेल मंत्री किरन रिजूजू ने फेसबुक लिखा है कि ‘अटल टनल राष्ट्रीय संपत्ति है. प्रधानमंत्री ने इसे राष्ट्र को समर्पित किया है. हर नागरिक को इस संपत्ति को संरक्षित करने और अपनी एवं दूसरों की जिंदगी सुरक्षित रखने में अपनी पूरी जिम्मेदारी का निर्वहन करना चाहिए.दरअसल यह शानदार सुरंग अब पर्यटकों का आकर्षण का भी केंद्र बन गयी है. हिमाचल प्रदेश जाने वाले पर्यटक अटल टनल का दौरा भी कर रहे हैं. इन दिनों सीमा सड़क संगठन (BRO) और जिला प्राधिकरणों को नई समस्या का सामना करना पड़ रहा है क्योंकि वहां आने वाले लोग आपस में रेस लगा रहे हैं और टनल के अंदर बेहद तेज रफ्तार से गाड़ियां चला रहे हैं.

The Royal’s
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :बिहार चुनाव : चिराग का मंसूबा पूरा नहीं होगा, भाजपा ने चेताया, पीएम मोदी के नाम पर वोट नहीं मांग सकते

लोग ट्रैफिक नियमों की उड़ा रहे धज्जियां

इस संबंध में बीआरओ के चीफ इंजीनियर ब्रिगेडियर केपी पुरुषोत्तम ने कहा, ‘प्रधानमंत्री ने 3 अक्टूबर को टनल का उद्घाटन किया और उसके बाद एक दिन में तीन हादसे हो चुके हैं. टूरिस्ट्स और वाहन चालक ट्रैफिक नियमों की धज्जियां उड़ा रहे हैं. वो गाड़ी चलाते वक्त सेल्फी ले रहे हैं. उन्होंने बताया कि अटल टनल के अंदर किसी को गाड़ी खड़ी करने की इजाजत नहीं है. इन दुर्घटनाओं के मदेद्नजर अब टनल पर पुलिस की तैनाती की मांग की गई है. कुल्लू के एसपी गौरव सिंह ने बताया है कि पुलिस ने लापरवाह ड्राइवरों पर लगाम लगाने के लिए कदम उठाए हैं.

इसे भी पढ़ें :अटल सरकार में मंत्री रहे दिलीप रे कोयला घोटाला मामले में दोषी करार, मामला झारखंड का

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button