Crime News

एसीबी की बड़ी कार्रवाई, 20 हजार रुपये रिश्वत लेते पंचायत सेवक गिरफ्तार

विज्ञापन

Chatra:  एंटी करप्शन ब्यूरो हजारीबाग की टीम ने चतरा में बड़ी कार्रवाई की है. शहर के पुरैनिया तालाब न्यू कॉलोनी इलाके से बीस हजार रुपये रिश्वत लेते पंचायत सेवक महेश मिस्त्री को रंगे हाथ गिरफ्तार किया. आरोपी पंचायत सेवक पर मास्टर रोल बनाने के नाम पर घूस मांगने का आरोप असढिया गांव निवासी प्रवीण यादव ने लगाया था. गिरफ्तारी के बाद एसीबी की टीम उसे अपने साथ हजारीबाग ले गयी.

इसे भी पढ़ें – दरिंदगीः पिता ने अपने दो बेटों को जिंदा जलाया, एक की मौत-दूसरा लड़ रहा जिंदगी की जंग, पत्नी गंभीर 

सत्यापन में रिश्वत मांगने की बात सही पायी गयी

पंचायत सचिव महेश मिस्त्री के द्वारा 20 हजार रुपया घूस मांगे जाने की शिकायत प्रवीण यादव ने एसीबी से की थी. उक्त आवेदन के संबंध में सत्यापनकर्ता द्वारा विधिवत सत्यापन के दौरान रिश्वत मांगने की बात सही पायी गयी. जिसके बाद एसीबी की टीम ने पंचायत सेवक महेश मिस्त्री को गिरफ्तार कर लिया.

advt

इसे भी पढ़ें – लातेहार: एक लाख का इनामी नक्सली ‘काका’ गिरफ्तार, 13 वर्ष से है नक्सली संगठन में

एसीबी की कार्रवाई पर खड़ा हुआ सवालिया निशान

मिली जानकारी के अनुसार सदर प्रखंड अंतर्गत दारियातू पंचायत के पंचायत सेवक महेश मिस्त्री बुचीदाढ़ी मोहल्ला स्थित अपने घर से बाइक से जतराहीबाग की ओर जा रहे थे. इसी दौरान विद्या मंदिर स्कूल के पास एसीबी की टीम ने उसे रोका और पैसे लेने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया. इस दौरान एसीबी के अधिकारियों ने उसके पॉकेट से 20 हजार रुपया निकाला और उसे अपने साथ ले गये. हालांकि इस दौरान गिरफ्तार पंचायत सेवक एसीबी के अधिकारियों से घूस नहीं लेने की बात कहता रहा, लेकिन अधिकारियों ने उसकी एक नहीं सुनी. वह बार-बार अधिकारियों से कह रहा था कि उसने अपनी भतीजी की शादी के लिए बैंक से पैसे निकाले हैं. वह मामले की जांच की मांग पर अड़ा था. जिसके बाद स्थानीय लोगों ने भी निगरानी की कार्रवाई का विरोध करना शुरू कर दिया. लोगों का विरोध होता देख निगरानी की टीम आनन-फानन में गिरफ्तार पंचायत सेवक को अपनी गाड़ी में बैठा कर ले गई.

इसे भी पढ़ें – महेश पोद्दार ने JBVNL को दिखाया आईना, कहा- बिजली पर्याप्त, डिस्ट्रीब्यूशन ठीक नहीं, लोड बढ़ना और कम उत्पादन सिर्फ बहाना

पॉकेट में थे 70 हजार रुपये

मिली जानकारी के अनुसार गिरफ्तारी के दौरान पंचायत सेवक महेश मिस्त्री के पॉकेट में करीब 70 हजार रुपये थे. लेकिन लोगों के विरोध के बाद एसीबी ने उसमें से 50 हजार रुपये उसके परिजनों को दे दिया. टीम का नेतृत्व विजिलेंस डीएसपी इंदु भूषण ओझा कर रहे थे.

adv

इसे भी पढ़ें – समीक्षा बैठक में बोले सीएम रघुवर दास – 30 लाख नए कनेक्शन से बिजली की खपत बढ़ी

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button