Main SliderRanchi

जेरेडा के पूर्व निदेशक के ठिकानों पर ACB की छापेमारी, 170 करोड़ रुपये के घोटाले का मामला

विज्ञापन

Ranchi : 170 करोड़ रुपए के घोटाले के मामले में एसीबी ने अपनी जांच तेज कर दी है. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार,एसीबी की टीम इस मामले की जांच शुरू की है और जेरेडा कार्यालय में छापेमारी की.

एसीबी की एक टीम डोरंडा स्थित जेरेडा के कार्यालय में निरंजन कुमार से जुड़े फाइलों को खंगाल रही थी. एसीबी की टीम ने निरंजन कुमार के कार्यालय और ठिकानों पर छापेमारी किया. इसके अलावा एसीबी की एक टीम ने निरंजन कुमार के दूसरे ठिकानों पर भी छापेमारी की.

advt

वहीं कार्यालय में छापेमारी के दौरान घोटालों से संबंधित फाइल को एंटी करप्शन ब्यूरो की टीम ने जब्त कर लिया है. बता दें कि जरेडा के पूर्व निदेशक निरंजन कुमार के खिलाफ सीएम हेमंत सोरेन ने जांच का आदेश दिया था. इसके बाद एसीबी की टीम ने गुरुवार को प्रारंभिक जांच दर्ज की थी.

इसे भी पढ़ें – रांची के कोचिंग संस्थानों की लूट कथा- 5: न मानते हैं कोई गाइडलाइन, न सार्वजनिक करते हैं जरूरी जानकारी

एसीबी ने दर्ज की थी प्रारंभिक जांच

170 करोड़ रुपये के घोटाले को लेकर एसीबी ने निरंजन कुमार ने खिलाफ प्रारंभिक जांच दर्ज की थी. सीएम के आदेश के बाद गुरुवार को एसीबी ने प्रारंभिक जांच दर्ज की है. इंडियन पोस्ट एंड टीसी एकाउंटेंस एंड फाइनेंस सर्विस के अधिकारी निरंजन कुमार के खिलाफ एसीबी डीजी ने आदेश दिया है, कि दो हफ्ते में प्रारंभिक जांच पूरी कर इस संबंध में आगे के तथ्यों की जानकारी जुटाकर एफआइआर दर्ज किया जाये.

adv

निरंजन कुमार  पर अवैध रूप से वेतन निकासी सहित कई आरोप 

निरंजन कुमार पर अवैध रूप से वेतन निकासी सहित कई अन्य आरोप भी लगे हैं. उनके खिलाफ सरकार के विभिन्न खातों से लगभग 170 करोड़ का भुगतान करने और सपरिवार विदेश भ्रमण की शिकायत भी सरकार को मिली थी.

संपत्ति विवरण में पत्नी के नाम से अर्जित संपत्ति का कोई विवरण नहीं देने और निविदा में मनमाने तरीके से किसी कंपनी विशेष को लाभ पहुंचाने का भी एसीबी से जांच कराने का आदेश सरकार ने दिया है. निरंजन कुमार के खिलाफ पूर्व में एसीबी ने जांच की अनुमति सरकार से मांगी थी. लेकिन पूर्ववर्ती सरकार ने जांच की अनुमति नहीं दी थी.

इसे भी पढ़ें – लोग मर रहे हैं और सरकारें घोटाला कर रही हैं

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close