JharkhandMain SliderRanchi

रांची व धनबाद नगर निगम, रांची रजिस्ट्री ऑफिस और डोरंडा थाना में ACB की छापेमारी, आशा लकड़ा ने कहा- है राजनीतिक षडयंत्र

Ranchi/Dhanbad: रांची नगर निगम, धनबाद नगर निगम, रांची रजिस्ट्री ऑफिस और डोरंडा थाना में बुधवार को एसीबी की टीम ने छापेमारी की. मामले पर न्यूज विंग से बात करते हुए एसीबी के एडीजी नीरज सिन्हा ने कहा कि जिस विभाग से हमें शिकायत आती है हम वहां छापेमारी कर सकते हैं. ऐसा एसीबी के संकल्प में लिखा है.

देखें वीडियो

advt

उन्होंने कहा कि शिकायत मिलने के बाद एसीबी की टीम विभाग पहुंचती है और शिकायत से संबंधित तथ्यों की जांच करती है. छापेमारी की कार्रवाई करने के लिए एसीबी के पास सरकार की अनुमति होती है, ऐसा एसीबी के संकल्प में भी लिखा होता है. छापेमारी के दौरान प्रशासन की तरफ से एक नोडल पदाधिकारी भी दिया जाता है.

उन्होंने कहा कि छापेमारी के बाद जो भी गड़बड़ी पायी जाती है एसीबी की तरफ से विभाग को भेज दिया जाता है. संबंधित विभाग यह तय करता है कि आखिर गड़बड़ी कहां हुई है, उसके बाद विभाग अपने स्तर से कार्रवाई करता है. जिस मामले पर कानूनी कार्रवाई की आवश्यकता होती है विभाग फिर एसीबी को उसके बारे में लिख कर देता और एसीबी उन पर कानूनी कार्रवाई करता है.

इसे भी पढ़ें – #Delhi_Violence को लेकर कांग्रेस ने अमित शाह का इस्तीफा मांगा, केजरीवाल सरकार को भी जिम्मेदार ठहराया

एसीबी की कार्रवाई हेमंत सरकार के बदले की भावनाः आशा लकड़ा

रांची नगर निगम पर एसीबी की कार्रवाई पर मेयर आशा लकड़ा ने कड़ा विरोध जताया है. उन्होंने एसीबी के डीएसपी रैंक के अधिकारी को निगम स्थित अपने कार्यालय में बुला कर कार्रवाई करने का कारण पूछा.

इसपर उस अधिकारी ने बताया कि सरकार के स्तर पर उन्हें आदेश मिला है कि निगम में आम लोगों के कामों को अनदेखा किया जा रहा है. इसके बाद ही उनकी टीम ने निगम में छापेमारी की.

इसपर मेयर ने आपत्ति जताते हुए कहा कि निगम एक स्वायत संस्था है. बिना सूचना के एसीबी यह रेड नहीं कर सकता है. अगर उन्हें कार्रवाई करनी है, तो पहले उन्हें सूचना देनी होगी. इसपर एसीबी के डीएसपी ने मेयर को बताया कि एसीबी का औचक निरीक्षण बिना किसी सूचना के ही होता है.

बाद में मीडिया से बातचीत में मेयर आशा लकड़ा ने कहा कि एसीबी की कार्रवाई की निगम को जानकारी नहीं दी गयी. दरअसल ऐसा करने के पीछे हेमंत सरकार की एक सोची समझी साजिश है. यह बहुत बड़ी साजिश है. मेयर ने कहा कि यदि निगम में कोई  अधिकारी या कर्मचारी रिश्वत लेते हुए पकड़ा जाता है, तो कार्रवाई पर सोचा जा सकता है.

इसे भी पढ़ें – TPC पर NIA की सबसे ज्यादा कार्रवाई, फिर भी कोल परियोजनाओं में जारी है लेवी वसूली का खेल

धनबाद नगर निगम के कार्यालय में ACB की धमक

एसीबी की टीम ने बुधवार को धनबाद नगर निगम पर भी छापेमारी की. टीम पिछले कई वर्षों के विकास कार्यों से जुड़ी फाइलों को खंगाल रही है. इस रेड से धनबाद नगर निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों के होश फाख्ता हो गये हैं.

भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की एक टीम रांची से सुबह ही धनबाद नगर निगम कार्यालय पहुंची और फाइलों को खंगाल रही है.

बुधवार सुबह डीएसपी मुज्जिबुल अंसारी के नेतृत्व में आयी ACB की एक टीम धनबाद नगर निगम कार्यालय पहुंची. नगर आयुक्त चंद्रमोहन कश्यप से जांच के लिए विकास कार्यों की फाइलों की मांग की. इसके बाद निगम के अधिकारियों और कर्मचारियों में हड़कंप मच गया. नगर निगम के तमाम छोटे-बड़े अधिकारी मामला जानने में जुट गये हैं.

जांच टीम में रांची एसीबी के अधिकारी शामिल हैं. झारखंड सरकार को धनबाद और रांची नगर निगम में भ्रष्टाचार की शिकायत मिली है. इसी के बाद फाइलों की जांच की जा रही है.

झारखंड में सरकार बदली है. भाजपा सरकार जाने के बाद झामुमो की सरकार बनी है. इस छापेमारी को राज्य में सत्ता के बदलाव के नजरिये से भी देखा जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – #Delhi_Violence पर राजनीति गर्म, कांग्रेस के शाह-केजरीवाल से सवाल, पिछले रविवार से देश के गृह मंत्री कहां थे…    

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: