Corona_UpdatesLead NewsTOP SLIDERWorld

पाकिस्तान के परमाणु बम के जनक अब्दुल कादिर खान का निधन, कोरोना से थे संक्रमित

मोहसिन-ए-पाकिस्तान' यानी पाकिस्तान का रक्षक भी कहा जाता था

New Delhi : दुनियाभर में परमाणु तकनीक की तस्करी को लेकर कुख्यात रहे पाकिस्तानी परमाणु बम के जनक डॉ. अब्दुल कादिर खान का रविवार को निधन हो गया. उन्होंने 85 वर्ष की उम्र में अंतिम सांस ली. कोरोना होने के बाद अब्दुल कादिर खान पिछले दिनों मौत से जूझ रहे थे. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बीच में वे स्वस्थ भी हुए थे लेकिन कुछ दिन पहले वे फिर बीमार हो गए और आज उनकी मौत हो गई.

पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार मिला था

भोपाल (भारत) में जन्मे अब्दुल कदिर खान को पाकिस्तानी परमाणु बम विस्फोट करने के बाद देश का सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार दिया गया था. पाकिस्तान में डॉ. कादिर खान को पाकिस्तान में ‘मोहसिन-ए-पाकिस्तान’ यानी पाकिस्तान का रक्षक भी कहा जाता था.
इसे भी पढ़ें :पीएमजीएसवाई: झारखंड के ठेकेदारों के पास काम की नहीं होगी कमी, 1027 किमी रोड की मंजूरी एक-दो दिनों में

इमरान खान ने बीमारी के दौरान नहीं ली थी सुध

अब्दुल कादिर खान ने अस्पताल में भर्ती होने के दौरान आरोप लगाया था कि देश की इतनी सेवा करने के बाद न तो प्रधानमंत्री इमरान खान और न ही उनकी कैबिनेट के किसी सदस्य ने उनका हालचाल लिया. अब्दुल कादिर ने समाचार चैनल डॉन को दिए इंटरव्यू में कहा था कि मैं इस बात से बेहद दुखी हूं कि न तो प्रधानमंत्री और न ही उनकी कैबिनेट के सदस्यों ने मेरे स्वास्थ्य के बारे में हालचाल लिया.
इसे भी पढ़ें :पटना एयरपोर्ट से 28 लाख के सोने की बिस्किट के साथ छात्र गिरफ्तार, एंटी स्मगलिंग यूनिट ने की कार्रवाई

advt

सरकार ने पद से हटा दिया था

कादिर खान को परमाणु प्रसार की बात स्वीकार करने के बाद पद से हटा दिया गया था. पद से हटाने के बाद से खान को भारी सुरक्षा के बीच इस्लामाबाद एक इलाके में रखा गया था. हालांकि, प्रशासन का कहना है कि उन्हें सुरक्षा कारणों से इस तरह से रखा गया है.

इसे भी पढ़ें :राज्यसभा चुनाव हार्स ट्रेडिंग मामलाः निलंबित एडीजी अनुराग गुप्ता को विभागीय जांच में क्लीन चिट

adv

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: