न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

‘पहले लड़े थे गोरों से, अब लड़ेंगे चोरों से’ के नारे के साथ आप का राजभवन मार्च

भूमि अधिग्रहण विधेयक के विरोध में आम आदमी पार्टी का राजभवन मार्च

324

Ranchi: भूमि अधिग्रहण के खिलाफ आम आदमी पार्टी ने राजभवन के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया और सरकार के खिलाफ जमकर नारे लगाए. प्रदर्शन कर रहे पार्टी के राज्य संयोजक जयशंकर चौधरी ने कहा भूमि अधिग्रहण बिल इस सरकार को लाने की जरूरत क्यों पड़ी आज जनता को समझ नहीं आ रहा है. आज से पहले भी हजारों एकड़ जमीन लिए गए थे. हजारों एकड़ में रह रहे लोग विस्थापित हुए, लेकिन आज तक उन्हें बसाया नहीं गया. उन्होंने कहा कोई भी सड़क, स्कूल, कॉलेज, हॉस्पिटल या फिर रेल लाइन कभी बगैर जमीन के रुका नहीं तो फिर भूमि अधिग्रहण बिल सरकार को लाने की जरूरत क्यों पड़ी.

पूरे राज्य भर में करेंगे प्रदर्शन
ग्राम सभा जो डिसीजन लेता था उस डिसीजन को खत्म किया गया है. उन्होंने कहा कि पंचायती राज में जो ग्राम सभा को पावर दिया गया है और झारखंड में जमीन के मामले में अंग्रेजों के समय से चाहे वह बिरसा मुंडा की लड़ाई हो या हूल क्रांति हो तमाम लड़ाई जमीन के लिए लड़ी गयी थी. इसे बदल देना सरकार की एक गंभीर साजिश है. इसे हम बर्दाश्त नहीं करेंगे इसके खिलाफ पूरे झारखंड में हम लोग प्रदर्शन करेंगे. उन्होंने पांच जुलाई के विपक्षी दलों द्वारा बंदी पर नैतिक समर्थन देते हुए कहा कि इस भूमि अधिग्रहण बिल के खिलाफ जितनी भी आंदोलन होगी हमारा नैतिक समर्थन साथ रहेगा.

इसे भी पढ़ें- अलग देश और अलग मुद्रा चलाने की बात है फिजूल, मीडिया वाले इसको मसाला के रूप में छाप रहे हैं : यूसुफ…

राज्यपाल से माँग
● भूमि अधिग्रहण कानून में संशोधन को निरस्त करें.
● भूमि अधिग्रहण कानून 2013 द्वारा अध्याय दो एवं तीन में वर्णित आदिवासियों, किसानों और आम झारखंडियों को प्रदान सुरक्षा कवच एवं लोकतांत्रिक प्रकिया की रक्षा करें.


ये रहें मौजूद
सभा को लक्ष्मण सिंह, प्रेम कुमार, संतोष मानव, पवन पांडे, संजय राम, दिनेश महतो, अतुल आनंद, लक्ष्मण सिंह, विनोद केरकेटा, राजन सिंह, परवेज सहजाद सहित अन्य वक्ताओं ने संबोधित किया. इस अवसर पर राज्यकार्यसमिति के सदस्य, विभिन्न जिलों के जिलाघ्यक्ष, राज्य, जिला एवं महानगर के पदाधिकारी सहित विभिन्न जिलों से आये कार्यकर्ता उपस्थित रहे.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: