न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

एक ट्वीट ने बचाई 26 जिंदगियां

पुलिस को ह्यूमैन ट्रैफिकिंग का शक, दो लोग हिरासत में

567

 Gorakhpur: कहने को तो ट्विटर एक सोशल नेटवर्किंग साइट है, लेकिन यही ट्विटर 26 लड़कियों के लिए वरदान साबित हुआ. रेल यात्री के एक ट्वीट ने 26 नाबालिग बच्चियों की जिंदगी बचा ली. दरअसल अवध एक्सप्रेस में सफर कर रहे एक यात्री आदर्श श्रीवास्तव को उनके ही बोगी में सफर कर रही 26 लड़कियों को देख, कुछ गलत होने की आशंका हुई जिसके बाद उन्हें ट्विट किया. इस ट्विट पर हरकत में आयी पुलिस-प्रशासन ने दो संदिग्ध लोगों को हिरासत में लिया है और बच्चियों को छुड़ाया. पुलिस को शक है कि यह मानव तस्करी से जुड़ा मामला हो सकता है.

इसे भी पढ़ेंः राजस्थानः PM मोदी के कार्यक्रम में काले कपड़े वालों की एंट्री बैन

मिली जानकारी के मुताबिक, मुजफ्फरपुर-बांद्रा अवध एक्सप्रेस ट्रेन में सफर कर रहे यात्री आदर्श श्रीवास्तव ने 5 जुलाई को एक ट्वीट कर जानकारी दी थी कि वह ट्रेन के एस-5 कोच में सफर कर रहे हैं, जिसमें करीब 25 नाबालिग लड़कियां हैं जो रो रही हैं और खुद को असुरक्षित महसूस कर रही हैं. इस ट्वीट पर त्वरित कार्रवाई शुरू की गई और गोरखपुर में जीआरपी और आरपीफ ने 26 बच्चियों को कोच से बरामद किया.

इसे भी पढ़ेंः खूंटीः घाघरा गांव पहुंचा संयुक्त विपक्ष, घरों में लटका ताला

Related Posts

#HomeMinistry में आंतरिक सुरक्षा पर मंथन, अमित शाह, एनएसए डोभाल, कैबिनेट सेक्रेटरी राजीव गौबा ने जम्मू कश्मीर पर चर्चा की

अमित शाह को बैठक के दौरान जम्मू कश्मीर में सुरक्षा हालातों की विस्तृत जानकारी दी गयी.

आदर्श श्रीवास्तव के इस पहल की सोशल मीडिया में जमकर तारीफ हो रही है. ट्विटर पर लोकगायिका मालिनी अवस्थी ने भी श्रीवास्तव की प्रशंसा करते हुए लिखा है, ‘आज आप जैसे जागरूक समझदार नागरिकों की दरकार है। ट्विटर के इतिहास में यह दर्ज होगा कि मदद को उठा एक सार्थक ‘ट्वीट’ कैसे पच्चीस बेटियों का जीवन बचा सकता है.’

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: