न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

GSAT-29 की सफल उड़ान से इसरो में उत्साह, अंतरिक्ष में जायेगा भारतवासी, 2022 का इंतजार है

अभियान के सफल होने पर भारत इस उपलब्धि को हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश बन जायेगा.

26

 Sriharikota : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन, इसरो 2022 तक अंतरिक्ष के लिए मानवयुक्त मिशन लांच करेगा. बता दें कि इसरो इस दिशा में आगे बढ़ रहा है. अंतरिक्ष एजेंसी के प्रमुख के सिवन ने बुधवार को जीएसएलवी माक- 3 रॉकेट के जरिए संचार उपग्रह जीसैट-29 के सफल प्रक्षेपण पर यह बात संवाददाताओं से कही. अंतरिक्ष के लिए देश के महत्वाकांक्षी मानवयुक्त मिशन को 2021 तक हासिल करने का लक्ष्य इसरो ने रखा है, जबकि प्रथम मानव रहित कार्यक्रम गगनयान की योजना दिसंबर 2020 के लिए है.  बता दें कि प्रधानमंत्री  मोदी ने स्वतंत्रता दिवस समारोह में यह घोषणा की थी कि भारत गगनयान के जरिए 2022 तक अंतरिक्ष में एक अंतरिक्ष यात्री को भेजने की कोशिश करेगा.  बताया गया है कि इस अभियान के सफल होने पर भारत इस उपलब्धि को हासिल करने वाला दुनिया का चौथा देश बन जायेगा. सिवन के अनुसार मिशन टीम सही रास्ते पर बढ़ रही है.  काम चल रहा है. संवाददाताओं से बात करते हुए इसरो प्रमुख ने कहा कि अंतरिक्ष एजेंसी की योजना है कि मानवयुक्त मिशन से पूर्व दो मानव रहित मिशन अंतिरक्ष में भेजा जाये.  इस क्रम में उन्होंने कहा, पहले हम सभी मानदंडों का पालन करेंगे और यदि यह काम नहीं करेगा तो हम दूसरा मानव रहित मिशन भेजेंगे.  कहा कि इसमें सफल हो जाने पर हम मानवयुक्त अभियान के लिए आगे बढ़ेंगे.

इसे भी पढ़ें : राफेल डील की सुनवाई में SC ने कहा,  रक्षा मंत्रालय नहीं, एयरफोर्स का अधिकारी पक्ष रखे

अंतरिक्ष यात्री पांच-सात दिन कक्षा में रहेगा

silk_park

गगनयान एक बहुत ही शानदार मिशन है.  प्रधानमंत्री ने हम सभी को एक काम के रूप में एक बड़ा तोहफा दिया है.  मानवयुक्त मिशन के अजेंडा के बारे में पूछे जाने पर सिवन ने कहा, अंतरिक्ष यात्री पांच-सात दिन कक्षा में रहेगा और वैज्ञानिक प्रयोग करेगा, इसके बाद उन्हें सुरक्षित रूप से धरती पर वापस लाया जायेगा.  सिवन के अनुसार यह प्रक्रिया अंतरिक्ष में मानव को भेजने की भारत की क्षमता दर्शायेगी. इस क्रम में सिवन ने जीएसएलवी माक-3 डी 2 को शानदार, भरोसेमंद और सामान्य बताया.  उन्होंने कहा, यही यान किसी भारतीय को अंतरिक्ष में लेकर जायेगा.  मानवयुक्त मिशन का प्रक्षेपण के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह श्री हरिकोटा से होगा. प्रक्षेपण के लिए हम लॉन्च पैड में बदलाव करने जा रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: