न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पूंजीवाद पर गंभीर खतरा, राजन ने चेताया, सरकारें सामाजिक असमानता को नजरअंदाज न करें

आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने चेतावनी दी है कि समाज में संभावित विद्रोह की स्थिति को देखते हुए पूंजीवाद पर गंभीर खतरा नजर आ रहा है.

74

Chicago  : आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने चेतावनी दी है कि समाज में संभावित विद्रोह की स्थिति को देखते हुए पूंजीवाद पर गंभीर खतरा नजर आ रहा है. उन्होंने कहा कि विशेषकर 2008 की वैश्विक वित्तीय मंदी के बाद आर्थिक और राजनीतिक व्यवस्था लोगों को बराबर अवसर उपलब्ध नहीं करा पायी है. मंगलवार को यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो में प्रोफेसर राजन ने बीबीसी रेडियो 4 एस टुडे कार्यक्रम में कहा कि अर्थव्यवस्था के बारे में विचार करते समय दुनिया भर की सरकारें सामाजिक असमानता को नजरअंदाज नहीं कर सकती हैं.  अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) के पूर्व मुख्य अर्थशास्त्री  राजन मानते हैं कि पूंजीवाद गंभीर खतरे में है क्योंकि इसमें कई लोगों को अवसर नहीं मिल पा रहे हैं और जब ऐसा होता है तो पूंजीवाद के खिलाफ विद्रोह खड़ा हो जाता है.

इसे भी पढ़ेंः  बीएसएनएल का घाटा बढ़ता जा रहा है,  1.76 लाख कर्मचारियों को वेतन नहीं मिला

पूंजीवाद कमजोर पड़ रहा है

इस क्रम में राजन ने कहा कि मुझे लगता है कि पूंजीवाद कमजोर पड़ रहा है क्योंकि यह लोगों को बराबर अवसर नहीं दे रहा है. उन्होंने कहा,  पूंजीवाद लोगों को बराबरी के अवसर नहीं दे रहा है और वास्तव में जो लोग इससे प्रभावित हो रहे हैं उनकी स्थिति बिगड़ी है. राजन ने कहा, संसाधनों का संतुलन जरूरी है, आप अपनी पसंद से कुछ भी चुन नहीं सकते हैं.  वास्तव में जो करने की जरूरत है वह अवसरों में सुधार लाने की जरूरत है. पूर्व गवर्नर राजन ने कहा कि अतीत में मामूली शिक्षा के साथ एक मध्यम वर्ग की नौकरी प्राप्त करना संभव था.   लेकिन 2008 के वैश्विक आर्थिक संकट के बाद स्थिति बदली है.

इसे भी पढ़ेंःममता ने कहा, देश में अघोषित इमर्जेंसी, मोदी के खिलाफ वाराणसी में प्रचार करना चाहती हैं

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: