Main SliderNational

जम्मू कश्मीर में सीआरपीएफ काफिले पर बड़ा आतंकी हमला, 40 जवान शहीद

Srinagar : जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में सीआरपीएफ जवानों की बस और विस्फोटक से भरी कार की टक्कर से  40 जवान शहीद हो गये. विस्फोट के बाद आतंकियों ने फायरिंग भी की. सीआरपीएफ अधिकारियों ने यह जानकारी दी. अधिकारियों ने बताया कि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस घटना की जिम्मेदारी ली है. इस आतंकी घटना में कई जवान घायल हो गये हैं.  गृह मंत्री राजनाथ सिंह हालात का जायजा लेने शुक्रवार को श्रीनगर जायेंगे. उन्होंने इस घटना पर कहा कि इस तरह की कार्रवाई करनेवालों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जायेगा.

कल सुरक्षा पर कैबिनेट कमेटी की बैठक

सुरक्षा पर कैबिनेट कमेटी की बैठक शुक्रवार सुबह 9.30 बजे बुलायी गयी है. माना जा रहा है कि इस बैठक में इस हमले से उत्पन्न हालात पर चर्चा की जायेगी और आतंकवाद के खिलाफ किसी ठोस रणनीति पर विचार किया जायेगा.

श्रीनगर जम्मू राजमार्ग पर यह आइईडी विस्फोट

आइईडी विस्फोट में कई लोग घायल हो गये. धमाका इतना जबरदस्त था कि बस के परखच्चे उड़ गए.  पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि जिले के अवंतिपुरा इलाके में श्रीनगर जम्मू राजमार्ग पर यह आइईडी विस्फोट हुआ. उन्होंने बताया कि घटना के और अधिक ब्यौरे का इंतजार है.

advt

जैश आतंकी आदिल ने रची साजिश

आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इस हमले की जिम्मेदारी ली है. आदिल अहमद डार नाम के आतंकी ने इस काफिले पर हमले की साजिश रची थी. जम्मू-कश्मीर सरकार के सलाहकार के विजय कुमार ने बताया कि पुलवामा आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों की संख्या 40 तक पहुंच गई है.

काफिले में चल रहे थे  2400 जवान

गौरतलब है कि खुफिया विभाग ने एक हफ्ते पहले ही सुरक्षाबलों के खिलाफ इस तरह के हमले की आशंका जताई थी और कहा था कि आतंकी काफिले के रास्ते में आइईडी ब्लास्ट कर सकते हैं. रिपोट् के मुताबिक सीआरपीएफ की तीन बटालियन का मूवमेंट हो रहा था, जिस दौरान आतंकियों ने हमला बोला. बताया जा रहा है कि इन तीनों बटालियनों में करीब 2400 सीआरपीएफ के जवान शामिल थे. सीआरपीएफ के एक बटालियन में 800 जवान होते हैं.

वीर सुरक्षा कर्मियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा : प्रधानमंत्री 

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों पर आतंकी हमले को घृणित एवं निंदनीय कृत्य बताते हुए बृहस्पतिवार को कहा कि हमारे वीर सुरक्षा कर्मियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा.
प्रधानमंत्री ने अपने ट्वीट में कहा कि सीआरपीएफ कर्मियों पर हमला घृणित कृत्य है. ‘‘ मैं इस कायराना हमले की कड़ी निंदा करता हूं.’’मोदी ने कहा, ‘‘ हमारे वीर सुरक्षा कर्मियों का बलिदान व्यर्थ नहीं जायेगा.’’ प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने पुलवामा हमले से उत्पन्न स्थिति के बारे में गृह मंत्री राजनाथ सिंह एवं शीर्ष अधिकारियों से बात की है. उन्होंने कह कि पूरा देश वीर शहीदों के परिवारों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है. उन्होंने कहा कि वह इस घटना में घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हैं.

आतंकी घटनाओं को रोकने के लिए कठोर कदम उठाए सरकार: प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बृहस्पतिवार को जम्मू-कश्मीर में सीआरपीएफ जवानों को निशाना बनाकर किए गए आतंकी हमले की निंदा करते हुए कहा कि इस तरह की घटनाओं को रोकने के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए. प्रियंका ने एक बयान जारी कर कहा,‘‘आज जम्मू कश्मीर में आतंकवादियों के हाथ अब तक शहीद हुए 30 जवानों के प्रति संवेदना व्यक्त करती हूं, दुख प्रकट करती हूं. उनके परिवारों की वेदना मैं अच्छी तरह समझती हूं. मैं जानती हूं इस शोक की घड़ी में सांत्वना के शब्द पर्याप्त नहीं होते, फिर भी शहीद परिवार के पीछे न केवल कांग्रेस बल्कि पूरा देश खड़ा है.’’ उन्होंने कहा,‘‘ जम्मू कश्मीर में आए दिन हमारे जवान शहीद हो रहे हैं, जो गहरी चिंता का विषय है. मैं सरकार से मांग करती हूं कि इन घटनाओं को रोकने के लिए कठोर कदम उठाए जाएं.’’

कश्मीर में आतंकवादी वारदात अतिनिंदनीय : मायावती

बसपा अध्यक्ष मायावती ने जम्मू कश्मीर के पुलवामा में बृहस्पतिवार को हुये आतंकवादी हमले की निंदा करते हुये कश्मीर में अमन बहाली के लिये ईमानदार प्रयास करने की जरूरत पर बल दिया है.  मायावती ने ट्वीट कर कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आज की ताज़ा आतंकी वारदात में बड़ी संख्या में जवानों के हताहत होने की घटना अति दुखद, अति निन्दनीय और गंभीर चिन्ता का विषय है. कश्मीर में अमन बहाल हो तथा वह स्वर्ग बना रहे इसकी कामना और ईमानदार प्रयास दोनों ही जारी रखने की सख्त जरूरत है.

माकपा ने पुलवामा में आतंकवादी हमले पर शोक जताया

 माकपा ने जम्मू कश्मीर के पुलवामा में बृहस्पतिवार को हुये आतंकवादी हमले की निंदा करते हुये केन्द्र सरकार से कश्मीर में अमन बहाली सुनिश्चित करने की सक्रिय पहल करने की अपील की है. माकपा पोलित ब्यूरो की ओर से जारी बयान में पार्टी ने पुलवामा में केन्द्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के काफिले पर किये गये आतंकवादी हमले की निंदा करते हुये इसे कायराना हरकत बताया है। पार्टी ने कहा कि हिंसा, किसी समस्या के समाधान का विकल्प नहीं है.  पार्टी ने कहा कि मोदी सरकार ने तीन साल पहले कश्मीर समस्या के समाधान के लिये सभी पक्षकारों को शामिल कर बातचीत की प्रक्रिया शुरु करने का वादा किया था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ. माकपा ने हमले में हताहत हुये जवानों के शोकसंतप्त परिवारों के प्रति सांत्वना प्रकट करते हुये सरकार से तत्काल शांतिवार्ता शुरु करने की मांग की.  माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने भी हमले में शहीद हुये सीआरपीएफ के जवानों के परिजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुये इस घटना पर शोक व्यक्त किया है. उन्होंने ट्वीट कर कहा ‘‘हिंसा का यह दौर थमना चाहिये.’’

कायराना आतंकी हमले का बदला लेंगे : रिजीजू

केंद्रीय मंत्री किरण रिजीजू ने गुरुवार को कहा कि जम्मू कश्मीर में हुए ‘‘कायराना’’ आतंकी हमलों के लिये जिम्मेदार लोगों को छोड़ा नहीं जाएगा और “हर मुमकिन तरीके” से इसका बदला लिया जाएगा. रिजीजू का यह बयान जम्मू कश्मीर के पुलवामा जिले में जैश-ए-मोहम्मद के एक फिदायिन हमले में सीआरपीएफ के 30 जवानों के शहीद होने के कुछ घंटों बाद आया है. गृह राज्यमंत्री किरण रिजीजू ने एक ट्वीट में कहा, “हम इस कायराना हमले का मुंहतोड़ जवाब देंगे. इसके लिये जिम्मेदारों को सजा दिये बिना नहीं रहेंगे। हम हर मुमकिन तरीके से इसका बदला लेंगे.” जम्मू कश्मीर के उरी में 2016 में हुए हमले के बाद से यह सबसे बड़ा आतंकी हमला है.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button