Crime NewsJharkhandRanchi

40 हजार में बेची गयी झारखंड की बेटी को पुलिस ने कराया आजाद

Ranchi : मानव तस्करी की शिकार चाईबासा की एक बच्ची को मंगलवार को ऑपरेशन खुशी के तहत दिल्ली से रेस्क्यू किया गया. यह बच्ची पिछले एक साल से दिल्ली में रह रही थी. उसे अजय लाल नाम के व्यक्ति के घर से मुक्त कराया गया. बच्ची के रेस्क्यू के लिए एकीकृत पुनर्वास संसाधन केंद्र एवं कीर्ति नगर थाने की टीम ने संयुक्त रूप से छापेमारी की थी.

40000 रुपये में बेची गयी थी बच्ची

गौरतलब है कि सुभाष नामक मानव तस्कर ने बच्ची को 11 महीने पूर्व अजय लाल के यहां काम में लगाया था. काम दिलाते समय सुभाष ने 40,000 रूपये एकमुश्त लिया था. इसके अलावा बच्ची के मानदेय के रूप में 5000 प्रत्येक माह लिया जाता था.
बच्ची ने रेस्क्यू टीम को बताया कि एक साल पहले सुभाष नाम के व्यक्ति और उसकी पत्नी उसे और उसकी छोटी बहन को दिल्ली काम दिलाने के नाम पर लेकर आये थे. इसके बाद सुभाष ने दोनों बहनों को अलग-अलग स्थानों पर 40-40 हजार रुपये में बेच दिया था.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ेःरात में सुनसान जगहों पर जायेंगी लड़कियां तो सुरक्षा की जिम्मेदारी पुलिस की नहीं: डीजीपी

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

आरोपी की हो रही तलाश

बच्ची ने बताया कि 11 महीना से दोनों बहनें एक साथ नहीं मिली हैं. फिलहाल बड़ी बहन को मुक्त कराया गया है. छोटी बहन के बारे में कोई भी सूचना नहीं है. बेचने वाले व्यक्ति सुभाष की खोजबीन की जा रही है.

इसे भी पढ़ेःपीएम मोदी ने कहा- लॉकडाउन गया है, कोरोना वायरस नहीं, ये हैं संबोधन की खास बातें

जानकारी मिली है कि सुभाष दिल्ली स्थित बाबा मोहन राय कॉलोनी मुकुंद विहार में हरि ओम इंटरप्राइजेज नाम से प्लेसमेंट एजेंसी का संचालन करता है. इस एजेंसी के माध्यम से झारखंड की बालिकाओं को दिल्ली लाकर बेचने का कार्य किया जा रहा है. पूर्व में भी सुभाष पर मानव तस्करी के आरोप में कार्रवाई की गयी थी उसे जेल भी भेजा गया था.

रेस्क्यू की गयी बच्ची की चिकित्सा जांच करवायी जा रही है. इसके बाद उसे बाल कल्याण समिति के पास प्रस्तुत किया जाएगा. जल्दी ही उसे झारखंड भेजने की प्रक्रिया शुरू की जायेगी.

इसे भी पढ़ेःज्यादा से ज्यादा रोजगार सृजन पर ध्यान दे रही है सरकारः हेमंत सोरेन

Related Articles

Back to top button