GiridihJharkhand

गिरिडीहः बाइक चोरों का अंतरराज्यीय गिरोह सक्रिय, एक अपराधी गिरफ्तार

विज्ञापन

Giridih:   शहर से बाइक चोरी करने वाले नये गिरोह का उद्भेदन गिरिडीह नगर थाना पुलिस ने किया. नगर थाना पुलिस ने गुप्त सूचना के आधार पर एक अपराधी सरफराज को दबोचने में सफलता पायी. वहीं गिरोह के और अपराधी फरार हैं.

फरार अपराधियों में भी एक का नाम सरफराज ही है. दूसरे का नाम सरफुद्दीन है. पुलिस इनकी तलाश में जुटी हुई है. गिरफ्तार अपराधी सरफराज नारायणपुर के रुपडीह गांव का बताया जा रहा है. सरफराज की निशानदेही पर पुलिस ने चार बाइक भी बरामद किये हैं.

इसे भी पढ़ेंः फेसबुक पर आपत्तिजनक टिप्पणी मामले में रांची की अदालत ने बदला आदेश, ऋचा भारती को नहीं बांटना होगा कुरान

advt

गुप्त सूचना के आधार पर हुई कार्रवाई

नगर थाना में प्रेसवार्ता कर नगर थाना प्रभारी आदिकांत महतो ने बताया कि गुप्त सूचना मिली कि जामताड़ा के करमाटांड से चार अपराधी जिसमें मोदी, रकीब अंसारी और सरफराज समेत एक अन्य हैं, बाइक चोरी करने गिरिडीह आ रहे हैं.

इसी सूचना के आधार पर डीएसपी नवीन सिंह, नगर थाना प्रभारी आदिकांत महतो, एसआई प्रदीप कुमार और पुलिस जवान राजेश सिंह ने अलग-अलग टीम बनाकर शहर में चौकसी बढ़ा दी. इस दौरान छापामारी भी की गयी.

इसे भी पढ़ेंः हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर भारत ने कहा, इमरान विदेश जाने वाले हैं,  अच्छी छवि बनाना चाहते हैं, हम झांसे में नहीं आयेंगे

चोरी की दो बाइक के साथ दबोचा गया

बक्सीडीह रोड से डीएसपी के नेत्तृव में सरफराज को चोरी की दो बाइक के साथ दबोचा गया. इस दौरान तीन अपराधी फरार होने में सफल रहे. जिसमें रकीब अंसारी, मोदी और सरफुद्दीन शामिल हैं. इसके बाद पुलिस ने बिहार के जमुई जिलें के चकाई थाना क्षेत्र के बिशनपुर गांव निवासी बैकुंठ दास के घर छापेमारी की और एक कार बरामद किया. बैकुंठ दास के घर से बरामद कार बगैर नंबर प्लेट का बताया जा रहा है.

adv

गिरफ्तार अपराधी सरफराज ने बताया है कि पूरे गिरोह ने शहर से अब तक एक दर्जन बाइक को तीन महीने में चुराया है. चोरी के तमाम बाइक को अपराधी बैकुंठ दास को बेचा करता था. बैकुंठ दास चोरी के बाइकों को जमुई के विभिन्न क्षेत्रों में बेचता था. बाइक चुराने के लिए बैकुंठ दास अपने गिरोह के सहयोगियों को प्रति बाइक 10 हजार दिया करता था. हालांकि गिरोह का रिसीवर बैकुंठ दास की भी गिरफ्तारी की बात कही जा रही है. लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हुई है.

इसे भी पढ़ेंगेः बिरसा मुंडा केंद्रीय कारागार का वार्ड 14/A बना वीआइपी,पैसे के बल पर मिलती हैं सारी सुविधाएं

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button