न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इंस्पेक्टर रैंक के एक दर्जन पुलिस अधिकारियों का तबादला

276

Ranchi : राजधानी रांची में अपराध की बढ़ती घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए पुलिस मुख्यालय की ओर से प्रयास शुरू हो गया है. पुलिस मुख्यालय द्वारा रांची जिला में पहले रहते हुए अच्छे काम करनेवाले इंस्पेक्टर रैंक के सात पुलिस अफसरों को दोबारा रांची बुला लिया गया है. इन सभी इंस्पेक्टर रैंक के पुलिस अफसरों के तबादले की अधिसूचना जारी कर दी गयी है. वहीं, रांची एसएसपी ने राजधानी में कार्यरत इंस्पेक्टर रैंक के जिन सात पुलिस अफसरों को जिला से हटाने की अनुशंसा की थी, उनमें से पांच का पुलिस के अलग-अलग विभागों में तबादला भी कर दिया गया.

इसे भी पढ़ें- नरेंद्र सिंह होरा हत्याकांड में पुलिस को मिले कुछ अहम सुराग, जल्द हो सकती है आरोपी की गिरफ्तारी

इन इंस्पेक्टरों की पोस्टिंग हुई रांची में

hosp3
  • वेंकटेश कुमार- स्पेशल ब्रांच से रांची
  • सतीश कुमार- स्पेशल ब्रांच से रांची
  • प्रवीण कुमार- झारखंड जगुआर से रांची
  • विनय कुमार सिंह- अपराध अनुसंधान विभाग से रांची
  • शंकर कामती- एसीबी से रांची
  • फरीद आलम- दुमका से रांची
  • राजकुमार यादव- स्पेशल ब्रांच से रांची

इसे भी पढ़ें- गिरिडीह : मोदी की आलोचना करने पर छात्र के साथ हाथापाई, सांसद व विधायक के सामने एबीवीपी ने किया…

नक्सल क्षेत्र में काम करने का है अनुभव

मिली जानकारी के अनुसार रांची में स्थानांतरित किये गये इंस्पेक्टर रैंक के पुलिस अधिकारियों की नक्सल और अपराध, दोनों मामलों में अच्छी पकड़ है. रांची के ग्रामीण और शहरी, दोनों थाना क्षेत्रों में इन्हें काम करने का लंबा अनुभव रहा है.

इसे भी पढ़ें- फुल फॉर्म में नजर आयीं रांची की नई एसडीओ, हाथ में डंडा ले ऑटो चालकों को खदेड़ा

एसएसपी अनीश गुप्ता की अनुशंसा से रांची से हटाये गये ये इंस्पेक्टर

  • आबिद खां- विशेष शाखा भेजे गये (नकली शराब के मामले में)
  • तालकेश्वर राम- अपराध अनुसंधान विभाग भेजे गये (नकली शराब कांड मामले में)
  • मिथिलेश कुमार- एसीबी भेजे गये (महिला के साथ छेड़खानी का आरोप)
  • सुधीर कुमार राय- अपराध अनुसंधान विभाग (काम में लापरवाही का आरोप)
  • अटल सांडिल- अपराध अनुसंधान विभाग (काम में लापरवाही का आरोप)

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: