न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

छाई उठाव नहीं होने की स्थिति में बंद करना होगा 500 मेगावाट का ‘ए’ पावर प्लांट, चार दिनों से बंद है BTPS का ‘बी’ प्लांट

डीवीसी के ऐश पौंड से एक माह से बंद है छाई का उठाव

126

Sanjay

Bermo : बेरमो अनुमंडल के बोकारो थर्मल नूरी नगर स्थित डीवीसी के ऐश पौंड से विगत एक माह से छाई का उठाव बंद है. पौंड से छाई उठाव का कार्य 15-20 दिनों के अंदर आरंभ नहीं किया गया तो 500 मेगावाट के “ए” पावर प्लांट को बंद करना पड़ सकता है.

इसे भी पढ़ेंः झारखंड : महागठबंधन के बीच हुआ सीटों का बंटवारा, कांग्रेस 7, जेएमएम 4, जेवीएम 2 और आरजेडी 1 सीट पर लड़ेंगे चुनाव

hosp3

क्यों बंद है छाई का उठाव

डीवीसी के ऐश पौंड से हाइवा के द्वारा छाई का उठाव कर उसे सीसीएल के बोकारो करगली एरिया अंतर्गत रामबिलास हाईस्कूल के समीप बंद पड़े कोयला के ओपन माइंस में डाला जाता था. विगत एक माह से सीसीएल प्रबंधन ने डीवीसी के द्वारा गिराये जाने वाले छाई को यह कहकर गिराने से रोक दिया कि बंद पड़े कोयला खदान के नीचे वर्तमान में कोयला का भंडार है, जिसे 15-20 वर्षों के बाद निकाला जा सकता है और इस स्थिति में डीवीसी के द्वारा गिराये जाने वाले छाई को फिर से निकालने का कठिन कार्य करना होगा. इसी कारण से छाई के गिराव पर रोक लगा दी गयी.

सीसीएल के बंद कोयला खदानों में छाई का गिराव करवाने को लेकर डीवीसी बोकारो थर्मल के प्रोजेक्ट हेड कमलेश कुमार ने सीसीएल मुख्यालय रांची से भी वार्ता की परंतु नतीजा कुछ भी नहीं निकला. सीसीएल मुख्यालय के द्वारा प्रोजेक्ट हेड को स्थानीय सीसीएल के एरिया प्रबंधन से वार्ता कर हल निकालने का निर्देश दिया परंतु बात नहीं बनी है.

इसे भी पढ़ेंः ‘चौकीदार’ केवल अमीरों के लिए काम करते हैं : प्रियंका गांधी

पौंड के बाहरी किनारे पर 5-6 फीट भरी जा रही मिट्टी एवं छाई

डीवीसी के ऐश पौंड से छाई का उठाव नहीं होने की स्थिति में प्रबंधन के द्वारा वर्तमान पौंड के किनारों पर 5-6 फीट की मिट्टी एवं छाई भरकर उसे ऊंचा करके छाई गिराने का काम किया जा रहा है. इस दरम्यान पौंड में पानी एवं छाई के दवाब से भरी गयी मिट्टी टूट जा रही है और छाई युक्त पानी का बहाव हो जा रहा है. इसके अलावा तेज हवा के साथ पौंड से उड़ने वाले छाई के कारण नूरीनगर, बाजारटांड़ एवं खासमहल कॉलोनी के लोगों का जीना मुहाल हो गया है.

इसे भी पढ़ेंः बिहार के लिए राजग की सूची में जातिगत समीकरण का पूरा ख्याल रखा गया

बंद करना पड़ा ‘बी’ प्लांट को

ऐश पौंड से छाई का उठाव नहीं होने के कारण डीवीसी प्रबंधन को 210 मेगावाट वाले बी पावर प्लांट की तीसरी यूनिट को बंद करना पड़ गया. तीन नंबर यूनिट को जब बंद किया गया तो उससे 145 मेगावाट बिजली का उत्पादन हो रहा था.

इसे भी पढ़ेंः शहादत समारोहः बॉलीवुड की मशहूर गायिका मेघा श्रीराम डालटन ने प्रस्तुती देकर कर दिया अभिभूत

बंद हो सकता है 500 मेगावाट का ‘ए’ प्लांट

डीवीसी के ऐश पौंड से छाई का उठाव एक पखवाडे़ के दरम्यान नहीं किया गया तो 500 मेगावाट के ए पावर प्लांट को भी बी प्लांट की ही तरह बंद करना पड़ सकता है. पावर प्लांट बंद होने की स्थिति में झारखंड समेत डीवीसी को बिजली सप्लाई जाने वाले संस्थानों को गंभीर बिजली संकट का सामना करना पड़ सकता है.

नेशनल हाईवे से हो रही है बात

डीवीसी के प्रोजेक्ट हेड कमलेश कुमार ने कहा कि डीवीसी के ऐश पौंड से छाई का उठाव विगत एक माह से बंद है. एक पखवाडे़ में छाई का उठाव आरंभ नहीं किया गया तो ए पावर प्लांट को बंद करना पड़ सकता है. उन्होंने कहा कि “बी” पावर प्लांट की तीन नंबर यूनिट को पौंड से छाई उठाव नहीं होने के कारण ही बंद करना पड़ा है. कहा कि पौड से छाई का उठाव को लेकर नेशनल हाईवे ऑथरिटी ऑफ इंडिया से बात की जा रही है. नहाई छाई का उठाव सड़क निर्माण के कार्य में भरने के लिए करेगी. उन्होंने कहा कि सीसीएल प्रबंधन से बातचीत का कोई नतीजा नहीं निकला, जिसके कारण समस्या बनी हुई है.

इसे भी पढ़ेंः चतराः तालाब में डूबने से दो सगे भाइयों सहित तीन मासूम बच्चों की मौत

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: