JharkhandRanchi

खूंटी सकंट सरकार से हुई चूक, सरकार का सूचनातंत्र एवं प्रशासनिक तंत्र विफल : प्रदीप यादव

Ranchi : झारखंड विकास मोर्चा प्रधान महासचिव एवं बंधु तिर्की ने पार्टी कार्यलाय में प्रेस वार्ता में बोलते हुआ सरकार पर खूंटी संकट और राज्य में हो रही साम्प्रदायिक तानव के लिए राज्य सरकार को दोषी करार दिया . प्रेसवर्ता को में बोलते हुए प्रदीप यादव ने वैसे लोग जो देश और संविधान से खुद को ऊपर मानते है, जिन्हें देश और राज्य के कानून पर विश्वास नहीं है आज अपनी राजनीतिक स्वार्थ के लिए समाज को सांप्रादायिक आग में झोंकने की कोशिश कर रहे है. ऐसी संगठन को पार्टी किसी भी सूरत में समर्थन नहीं करती है.

खूंटी के घटनाक्रम पर बोलते हुए पदीप यादव ने कहा कि सरकार सही समय पर सही निर्णय न लेने के कारण, सूचनातंत्र एवं प्रशासनिक तंत्र के विफल होने के कारण साथ ही खूंटी जिला में संवादहीनता का महौल बनने के कारण खूंटी सकंट अब घाव से नासूर बन गया है. वहीं राज्य सरकार और इसके महकमें का काम केवल शौचालय, डोभा एवं पुलिया बनाना रह गया है. खूंटी में सरकार के किन निर्णयों से और फैसले से जनता में असंतोष पैदा हो रहा सरकार इस बात का पता लगाकर समाधान की ओर कदम बढ़ाये.

advt

इसे भी पढ़ें- खूंटीः करीब 72 घंटे बाद रिहा हुए सांसद कड़िया मुंडा के आवास से अपहृत चार जवान

सरकार का निर्णय खूंटी के मामले में गलत

सरकार में बैठे लोगों के द्वारा खूंटी के मामले में लिए गये निर्णय आज गलत दिशा में चला गया है जिस कारण आज जिलेे की यह स्थिती हो गयी है. आज किसी भी संगठन के लिए संवाद का रास्ता नहींं बचा है. पत्थलगड़ी के मामला में यदि सरकार पर वहां के लोगों का विश्वास या यकीन नहीं कर रहे है तो सरकार को प्रतिपक्ष एवंसामाजिक संगठनों को अपने विश्वास में लेना चाहिए था और उनके माध्‍यम से संवाद कायम करने का प्रयास करना चाहिए था जिसमें भी सरकार से चूक हुई.

सरकार के द्वारा दोषी व्यक्तियों की पहचान कर कठोर कानूनी कार्रवाई करे

राज्य सरकार को राज्य की हालात पर मंथन करते हुए रेप या अन्य घटनाओं के दोषी व्‍यक्तियों पर कठोर कानूनी कार्रवाई करें लेकिन इसमें ध्यान रहे की इसका राजनीतिक रंग न दिया जाये. किसी संगठन या समुदाय को इसमें टारगेट न की जाय, क्षेत्र में उभरे हुए असंतोष के कारणों का पता लगाकर संवाद के रास्ते कायम की जाय. साथ ही साम्प्रदायिक सौहार्द बिगड़ने वाले लोगों एवं संगठनों को बिना कोई राजनीतिक भेदभाव के शिनाख्त कर उन पर कठोर कार्रवाई सरकार करे.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: