Uncategorized

95 वर्षीय सोमरी देवी ने की पहल, अब इनके गांव के 50 घरों में बनेंगे शौचालय

Gaurav Kumar, Ranchi: कमियों की शिकायत हर कोई करता है, लेकिन बदलाव लाकर उन कमियों को दूर करने वाले लोगों की संख्या न के बराबर है. अगर मन में दृढ़ इच्छा हो और हौसले बुलंद हों तो कोई भी शख्स किसी भी उम्र में समाज में बदलाव ला सकता है. इसका उदाहरण गुमला के बसिया प्रखंड में रहने वाली 95 वर्षीय महिला सोमरी देवी हैं. अपने गांव की ये सबसे बुजुर्ग महिला हैं. घर में शौचालय नहीं होने की पीड़ा इन्होंने ताउम्र झेली है. इस परेशानी का सामना वर्तमान पीढ़ी और आने वाली पीढ़ी को न करना पड़े इस सोच के तहत उन्होंने अपने गांव की तस्वीर बदलने का संकल्प लिया. सोमरी देवी की चाहत अब पूरी होने को है. इनके प्रयास से ही अब इनके गांव के 50 घरों में शौचालय का निर्माण हो पाएगा. इसके लिए सरकार ने छह लाख रुपये आवांटित किया है.

इसे भी पढ़ेंः राजबाला के बहाने जानें कि एक नौकरशाह सत्ता का अभय पाकर कितना ‘दबंग’ हो सकता है

जनसंवाद में किया था शिकायत 
सोमरी देवी ने अपने गांव के अधिकांश घरों में शौचालय न होने की शिकायत मुख्यमंत्री जनसंवाद केंद्र में किया था और सरकार से मदद की गुहार लगायी थी. सरकार तक अपनी शिकायत पहुंचाने के लिए इन्होंने पंकज कुमार का सहारा लिया. शिकायत संख्या 2017 61619 मुख्यमंत्री जनसंवाद केंद्र में दर्ज कराई थी. इस शिकायत के बाद स्थानीय बीडीओ ने इसकी जांच की. अब जांच पूरी हो गई है और सरकार के पीएचईडी विभाग ने शौचालय निर्माण के लिए छह लाख रुपये आवंटित  कर दिये हैं.

ूब

इसे भी पढ़ेंः सरकार का ‘संकेत’- नहीं होगी सीएस और डीजीपी पर कार्रवाई, विपक्ष जिद पर अड़ा

क्या लिखा था शिकायत में
सोमरी देवी ने जन संवाद में जो गुहार लगाई थी, उसमें इन्होंने लिखा था. मैं अपने गांव की सबसे वृध्द महिला हूं. मेरी उम्र 95 वर्ष है. अब इस उम्र में दूर खेतों में खुले में शौच  जाना संभव नहीं हो पाता. हमारे गांव के लोग आर्थिक रुप से बेहद कमजोर हैं, इसलिए स्वयं शौचालय बनाने में असमर्थ हैं. हमारे गांव में अधिकांश घरों में शौचालय नहीं है और लोग बाहर जाने को विवश हैं. बुजुर्ग महिलाओं को बहुत दिक्कत है. जीवन के इस अंतिम पड़ाव में मेरी आखिरी इच्छा है की मेरे जीते जी हर घर में शौचालय बन जाए, ताकि आने वाली पीढ़ी इस सामाजिक कुरीति से मुक्ति पा सके.

ूब

इसे भी पढ़ेंः चारा घोटाला : नोटिस के जवाब में सीएस राजबाला वर्मा ने दी सफाई, कहा ‘फर्जी निकासी के लिए मैं नहीं, कोषागार के पदाधिकारी जिम्‍मेदार’

12 दिसंबर को हुई थी शिकायत, तीस दिसंबर को राशि कर दी गयी आवंटित
जनसंवाद में इसकी शिकायत 12 दिसंबर को शिकायत संख्या 2017 61619 के रुप में की गयी थी. इस मामले में पूरी जांच हो जाने के बाद 30 दिसंबर को आरटीजीएस के माध्यम से लोटवा ग्राम पंचायत के अध्यक्ष और सचिव को अग्रिम छह लाख रुपये दे दिये गये. जिससे 50 शौचालयों का निर्माण होना है. 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button