HEALTHJamtaraJharkhand

जामताड़ा में 12 साल में एड्स के 92 मरीज मिले, 17 की हुई मौत

  • जिला सदर अस्पताल में मनाया गया विश्व एड्स दिवस

Jamtara : सदर अस्पताल में मंगलवार को विश्व एड्स दिवस मनाया गया. इस दौरान चिकित्सकों व कर्मियों ने रंगोली बनाकर व जागरूकता पर्ची बांटकर लोगों को जागरूक किया. मौके पर डॉ निलेश कुमार ने कहा कि जन-जागरूकता ही एड्स से बचाव का एकमात्र जरिया है.

इसलिए रोग के प्रति आम जिलावासियों को जागरूक करने के लिए स्वास्थ्य विभाग व जिला एड्स बचाव व नियंत्रण इकाई के माध्यम से लोगों को जागरूक करने के लिए विभिन्न प्रयास किये जा रहे हैं.

उन्होंने कहा कि एड्स एक संक्रामक बीमारी है, जो एचआईवी नामक वायरस से फैलता है. यह बीमारी मानव शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रभावित करता है.

यह असुरक्षित यौन संबंध, पहले से ही वायरस के संक्रमण में आनेवाली सुइयों के उपयोग, स्वस्थ व्यक्ति को किसी संक्रमित व्यक्ति का ब्लड चढ़ाने और संक्रमित माता-पिता से उनके बच्चों में फैलता है. अब तक इसका कोई इलाज नहीं है. इसलिए जनजागरूकता ही इसे नियंत्रित करने के महत्वपूर्ण उपायों में से एक है.

इसे भी पढ़ें : झारखंड सरकार किसानों से खरीदेगी गोबर, बढ़ेगी आमदनी, मिलेगा रोजगार

जिले में कुल 92 एड्स मरीजों में 17 कई हुई है मौत

इस मौके पर आईसीटीसी परामर्शी सुनील दुबे ने बताया कि जिले में वर्ष 2008 से अब तक कुल 92 एड्स मरीज मिले. इनमें 17 मरीजों की मृत्यु हो चुकी है. वहीं, 37 मरीजों को पेंशन का लाभ दिया जा रहा है.

बाकी मरीजों को भी पेंशन देने की प्रक्रिया चल रही है. मौके पर डीपीएम संगीता लुसी बाला एक्का, डीपीसी विपिन कुमार सहित अन्य मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें : सिख समाज के कृपाण की तरह तीर-धनुष आदिवासी अस्मिता का प्रतीक,  सर्व सुलभ रखने की मान्यता दे सरकार :  सीता सोरेन

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: