Business

लॉकडाउन में छूट के बाद फ्लिपकार्ट के 90 प्रतिशत विक्रेताओं ने कारोबार फिर शुरू किया

New Delhi : वॉलमार्ट के स्वामित्व वाली ई-कॉमर्स कंपनी फ्लिपकार्ट ने कहा है कि अप्रैल से उसके मंच पर 90 प्रतिशत से अधिक विक्रेताओं ने कारोबार फिर शुरू कर दिया है. इसके साथ ही फ्लिपकार्ट ने कहा कि अप्रैल-जून, 2020 के दौरान उसके मंच से जुड़ने वाले नये विक्रेताओं की संख्या में करीब 125 प्रतिशत की बढ़ोतरी देखने को मिली है.

इसे भी पढ़ें – भारत-चीन तनावः भारतीय सेना ने पूर्वी लद्दाख सेक्टर में एयर डिफेंस मिसाइल सिस्टम तैनात किया

कंपनियां नये तरीकों पर विचार कर रही हैं

ई-कॉमर्स कंपनी ने शनिवार को बयान में कहा कि कोरोना वायरस महामारी के प्रभाव के चलते देशभर की कंपनियां अपने परिचालन के तरीके पर नये सिरे से विचार कर रही हैं. इसके अलावा वे कामकाज के नये तरीकों की पहचान कर रही हैं. अब देशभर में स्थानीय सूक्ष्म, लघु एवं मंझोले उपक्रमों (एमएसएमई) ने ई-कॉमर्स के सही मूल्य को पहचान लिया है कि इसके जरिये वे लाखों उपभोक्ताओं से जुड़े रह सकते हैं.

बयान में कहा गया है कि अप्रैल, 2020 से फ्लिपकार्ट के 90 प्रतिशत के विक्रेताओं ने मंच पर अपना कारोबार फिर शुरू कर दिया है. फ्लिपकार्ट के विक्रेता राष्ट्रीय स्तर पर मंच की पहुंच का लाभ उठा पा रहे हैं. इसके अलावा उन्हें मार्केट प्लेस कारोबार के लिए एक दक्ष, पारदर्शी और पूरी तरह से पक्षपात रहित कामकाज उपलब्ध हो रहा है.

इसे भी पढ़ें – अडानी,अंबानी और रुइया को लाभ पहुंचाने पर तूली है भाजपा, कोरोना काल में कोल ब्लॉक की नीलामी क्यों- झामुमो

उत्तर प्रदेश, बंगाल समेत कई राज्यों के एमएसएमई ने अधिक रुचि दिखायी

फ्लिपकार्ट ने कहा कि उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, दिल्ली और तमिलनाडु के एमएसएमई ने अपने कारोबार को ऑनलाइन करने में सबसे अधिक रुचि दिखायी है. फ्लिपकार्ट ने कोविड-19 के मद्देनज़र एक हेल्‍थ इंश्‍योरेंस प्‍लान पेश किया है जिसमें उनके परिजनों तथा कर्मचारियों के लिए विशेष रियायती दर पर 50,000 से 3,00,000 रुपये प्रति व्‍यक्ति की विशेष दरों पर हेल्‍थ कवरेज दी जाती है.

विक्रेता समुदाय की कामकाजी पूंजी की समस्या के समाधान के लिए फ्लिपकार्ट के ग्रोथ कैपिटल प्रोग्राम के जरिए ऋण पर विशेष पेशकश की गयी है और प्‍लेटफार्म से जुड़े विक्रेताओं को 48 घंटों के भीतर लोन उपलब्‍ध कराया जाता है.

विज्ञप्ति के अनुसार लॉकडाउन के पहले चरण के दौरान, फ्लिपकार्ट के सेलर प्रोटेक्‍शन फंड (एसपीएफ) के तहत्, ऑनलाइन विक्रेताओं को कारोबार में हुए अनुचित नुकसान की क्षतिपूर्ति के तौर पर एक निश्चित राशि पर दावा करने की सुविधा दी गयी है.

कंपनी ने कहा है कि वह ‘फ्लिपकार्ट समर्थ’ पहल के तहत देशभर में 500,000 से अधिक कारीगरों, बुनकरों तथा सूक्ष्‍म उद्यमियों के लिए आजीविका में सहयोग दे रही है.

इसे भी पढ़ें – भारत में कोरोना के मामलों की संख्या 39 दिन में 1 लाख से 5 लाख हुई

Telegram
Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close