BokaroJharkhand

बोकारो में कोरोना के 9 पॉजिटिव, फिर भी बायोमेट्रिक पद्धति से हो रहा लेन-देन

  • कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र व राज्य सरकारों ने बायोमेट्रिक पद्धति पर लगायी है रोक
  • ग्राहक सेवा केंद्रों में बायोमेट्रिक डिवाइस पर अंगूठे देने के बाद ही ग्राहकों को मिल रहे पैसे

Ranchi : बोकारो जिले में पिछले कुछ दिनों से कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ी है. अभी तक यहां से 9 के करीब पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं. ऐसे में जिला प्रशासन यहां पर अभी विशेष एहतियान कदम उठाकर काम रही है. दूसरी ओर जिले के कई इलाकों में संचालित कई बैंक कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए सजग नहीं दिख रहे हैं.

दरअसल वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए केंद्र व राज्य सरकारों ने बायोमेट्रिक पद्धति पर रोक लगायी है. इस पद्धति के तहत अंगूठा लगाकर कर्मियों को हाजिरी बनाने सहित अन्य प्रक्रिया पर तत्काल रोक लगायी गयी है. इसके बावजूद जिले के कसमार, पेटरवार, जरीडीह में संचालित कई बैंक इन नियमों की अनदेखी कर रहे हैं. दरअसल बैंक ऑफ इंडिया, एसबीआई सहित अन्य ग्राहक सेवा केंद्रों में बायोमेट्रिक डिवाइस पर अंगूठे का निशान देने के बाद ही उनके ग्राहक पैसे की निकासी कर पा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें –समय रहते जांच की स्पीड नहीं बढ़ायी गयी तो देश को कोरोना से बचाना मुश्किल होगा : एक्सपर्ट

कोविड संक्रमण का हो सकता है खतरा

उपरोक्त बैंकों द्वारा बनायी ऐसी परिस्थिति में ग्राहकों सहित केंद्र संचालक को भी कोरोना संक्रमण का खतरा बन सकता है. अगर कोई कोरोना ग्रसित आदमी सेवा केंद्र में लेनदेन के लिए आकर बायोमेट्रिक डिवाइस पर अपने अंगूठे का निशान लगाता है, तो ग्राहकों के साथ केंद्र संचालक को भी कोविड-19 संक्रमण से इंकार नहीं किया जा सकता है. इससे जिला प्रशासन की सख्ती के बाद भी ग्राहकों द्वारा सोशल डिस्टेंसिंग का भी खुल्लम खुला उल्लंघन किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें –दिल्ली में पिज्जा बॉय निकला कोरोना पॉजिटिव, 72 घरों को किया गया सील

लॉकडाउन का दूसरा चरण हो चुका है शुरू, अब पासवर्ड से लेने-देने की हो रही मांग

कोरोना को रोकने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरे चरण का लॉकडाउन शुरू कर दिया है. लेकिन अब जब बायोमेट्रिक से लेन-देने की खबर चर्चा का विषय बनी है, तो ग्राहक सेवा केंद्र की नींद खुली है. कसमार,जरिडीह पेटरवार प्रखंड के ग्राहक सेवा केंद्र के कई संचालकों ने बताया है कि अगर बैंकों के वरीय अधिकारी सर्विस प्रोवाइडर कंपनी टीसीएस को लिखित रूप से आदेश देते हैं, तो बायोमेट्रिक तरीके से लेनदेन की पद्धति को बदलकर पासवर्ड के माध्यम से लेनदेन का कार्य किया जा सकता है. पूर्व में भी यह व्यवस्था बैंक ऑफ इंडिया के ग्राहक सेवा केंद्र में लागू थी, इसके माध्यम से सुबह के समय बीओडी एवं कार्य समाप्ति के बाद ईऑडी के माध्यम से लेन-देन का कार्य संपादन किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें – इंदौर में एक साथ 110 नये कोरोना पॉजिटिव केस मिलने से हड़कंप, अबतक 39 लोगों की जा चुकी है जान

केंद्र में सैनिटाइजर और साबुन रखें ग्राहक सेवा संचालक : बोकारो एलडीएम

पूरे मामले पर बोकारो एलडीएम दिनेश्वर राणा ने बताया है कि कोरोना संक्रमण जैसी महामारी को रोकने के लिए सभी ग्राहक सेवा केंद्र को निर्देश दिया गया है कि अपने केंद्र में सैनिटाइजर और साबुन रखें. जो भी ग्राहक सेवा केंद्र से पैसे की निकासी करें, उन्हें सैनिटाइजर और साबुन लगाने के बाद ही बायोमेट्रिक सिस्टम से अंगूठा लगवाएं. उन्होंने कहा कि सर्विस प्रोवाइडर कंपनी टीसीएस अपनी मर्जी से पासवर्ड के माध्यम से यह काम नहीं कर सकती है, इसके लिए या तो आरबीआई या सरकार ही कोई निर्णय ले सकती है.

इसे भी पढ़ें – मेडिकल पास का दुरुपयोग कर हिंदपीढ़ी से लोहरदगा पहुंचे सात लोग किये गये क्वॉरेंटाइन

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: