न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

84 दिन बीते, तीन बार सैलेरी ली, पर घोषणा के मुताबिक झारखंड सरकार ने नहीं दी पुलवामा शहीदों के परिजनों को राशि

11,251

Ranchi: 14 फरवरी को जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों ने बड़ी बेरहमी से देश के 44 सीआरपीएफ के जवानों धोखे से ब्लास्ट में उड़ा दिया था. सभी 44 शहीदों के लिए पूरा देश एक साथ खड़ा था. पुलवामा के बाद पाकिस्तान को भारत ने सबक सिखाने के उद्देश्य से एयर स्ट्राइक भी किया था. उसके तुरंत बाद होनेवाले लोकसभा चुनाव में बीजेपी ने इस मामले को जनता के सामने काफी मजबूती से रखा. विपक्ष ने आरोप लगाया कि देश की सेना को चुनाव में हथियार की तरह इस्तेमाल किया जा रहा है. घटना के दो दिनों के बाद ही झारखंड के मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि वो और उनके मंत्रिमंडल के सभी मंत्री एक महीने की सैलेरी शहीदों के परिजनों को देंगे. इसे लेकर सीएम ने ट्वीट भी किया. लेकिन घोषणा के 84 दिन बीत चुके हैं. घोषणा करने के बाद मंत्रिमंडल से सभी सदस्यों ने फरवरी, मार्च और अप्रैल तीन बार सैलेरी ली. लेकिन शहीदों के परिजनों के वायदे के मुताबिक एक रुपये की भी मदद नहीं की. अब सवाल उठ रहे हैं कि क्या ऐसा सिर्फ और सिर्फ लोगों के बीच साहानुभूति दिखाने के लिए रघुवर दास ने घोषणा कर दी थी. क्या इसे शहीदों का अपमान नहीं माना जाये.

इसे भी पढ़ें – फिसड्डी निकले नौकरी वाले JPSC के 50 विज्ञापन, सिर्फ फॉर्म भरवाया लेकिन युवा अब भी बेरोजगार

शहीद विजय सोरेंग के पार्थिव शरीर को कंधा देने के बाद की थी घोषणा

14 फरवरी को पुलवामा में 44 सीआरपीएफ जवानों के शहीद होने के बाद दूसरे ही दिन झारखंड के गुमला से शहीद विजय सोरेंग के पार्थिव शरीर को कंधा देने के बाद पूर्ण बहुमतवाली बीजेपी की सरकार के मुखिया रघुवर दास ने एक घोषणा की. घोषणा में उन्होंने कहा कि “पुलवामा के शहीदों की शहादत बेकार नहीं जायेगी. झारखंड सरकार की तरफ से पुलवामा के शहीदों के परिजनों को मदद के तौर पर मैं और मेरे कैबिनेट के सभी मंत्री एक महीने के वेतन की राशि देंगे.” इसके एक दिन बाद 16 फरवरी को दोपहर 2.42 मिनट पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने एक ट्वीट किया. इसमें उन्होंने लिखा थाः पुलवामा में शहीद हुए वीर सपूतों के परिजनों के साथ पूरा देश खड़ा है. मैं और मेरे मंत्रिमंडल के सभी साथी अपना एक महीने का वेतन शहीदों के परिजनों के चरणों में अर्पित करते हैं. लेकिन ऐसा नहीं किया.

इसे भी पढ़ें – वेंटिलेटर पर भारतीय अर्थव्यवस्था

कैबिनेट में बनी थी सहमति, सरकार ने नहीं बनाया कोई सिस्टम

Related Posts

राज अस्पताल में विश्व मरीज सुरक्षा दिवस मनाया गया

हाल ही में दुनिया में डब्ल्यूएचओ द्वारा मरीजों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देने का संकल्प किया गया है.

अभी तक पुलवामा के शहीदों के परिजनों को कैबिनेट के सदस्यों का एक महीने के वेतन की राशि नहीं पहुंची है. इस बीच मुख्यमंत्री रघुवर दास समेत सभी मंत्रियों को सैलेरी मिल चुकी है. घोषणा के करीब तीन महीने होने को हैं. सीएम रघुवर दास की घोषणा के बाद कैबिनेट में सहमति बनी थी. सहमति बनी कि अधिकारियों और कर्मियों के वेतन से एक दिन का वेतन दिया जाये. लेकिन कर्मियों और अधिकारियों के वेतन से भी एक दिन के वेतन की राशि नहीं कटी है. सरकार को एक सिस्टम तैयार करना था कि कैसे कैबिनेट के सदस्यों और सरकार के अधिकारी और कर्मियों के वेतन से राशि कट कर प्रधानमंत्री राहत कोष में जाये. लेकिन इस दिशा में मीडिया में खबर छपने के अलावा कोई काम नहीं हुआ. ऐसे में पुलवामा के शहीदों के परिजन झारखंड सरकार से अपने आप को ठगा हुए महसूस कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – “DIVIDER IN CHIEF” जैसे सम्मान के लिए देशवासियों को शुभकामनाएंः एक चौकीदार

मुख्यमंत्रियों सहित मंत्रियों का कितना वेतन

  • मुख्यमंत्री का वेतन: 80,000
  • मंत्री का वेतन: 65,000
  • आइएएस कैडर का वेतन: 1,75,000  से  2,25,000
  • आइएफएस कैडर का वेतन: 1,75,000 से 2,25,000
  • आइपीएस कैडर का वेतन: 1,75,000 से 2,25,000
  • मुख्यमंत्री सहित मंत्रियों का एक माह का वेतन: 6,50,000
  • सभी आइएएस कैडर के एक दिन का वेतन: 12,88,000
  • आइपीएस कैडर के एक दिन का वेतन: 8,16,000
  • आइएफएस कैडर के एक दिन का वेतन: 11,28,000
  • 1.90 लाख राज्य कर्मियों के एक दिन का वेतन: लगभग 47 करोड़

इसे भी पढ़ें – राशन और पेंशन से वंचित परिवार भूखमरी के कगार पर, आपदा फंड से मुखिया दे रहे हैं अनाज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: