न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

झारखंड में एमपी फंड का 84.81 प्रतिशत ही खर्च, 14 सांसदों को मिले 350 थे करोड़

52.50 करोड़ से अधिक राशि खर्च नहीं हो सकी, 16वीं लोकसभा का टर्म भी हुआ पूरा

1,297
  • देश भर में सांसद विकास निधि के लिए मिले 12051.36 करोड़, खर्च नहीं हो सके 1806.03 करोड़ रुपये

Ranchi: झारखंड में सांसद विकास निधि (एमपी लैड) फंड का 84.81 फीसदी ही इस्तेमाल हो सका है. राज्य के 14 सांसदों (16वीं लोकसभा) को सांसद निधि के तहत 350 करोड़ रुपये 2014 से 2019 मार्च तक मिले.

इसमें से 52.50 करोड़ रुपये खर्च नहीं हो सके. राज्य में गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे ने सबसे कम 4.32 करोड़ ही अपने सांसद निधि का खर्च किया.

धनबाद के सांसद पीएन सिंह ने सबसे अधिक 17.79 करोड़ खर्च किये, वहीं जमशेदपुर के विद्युतवरण महतो ने 17.25 करोड़, कड़िया मुंडा ने 16.87 करोड़, शिबू सोरेन ने 16.36 करोड़, सुनील सिंह ने 15.29 करोड़ रुपये खर्च किये. सांसद निधि फंड में औसत खर्च 18.02 करोड़ रहा है.

इसे भी पढ़ेंः मनमोहन सरकार के काल में बेहतर था सेंसेक्स रिटर्न, मोदी सरकार में 9.37% रहा सालाना रिटर्न

देश भर में रामा किशोर सिंह ने खर्च की सबसे अधिक राशि

देश भर में वैशाली (बिहार) के सांसद रामा किशोर सिंह ने सबसे अधिक सांसद निधि की राशि खर्च की. इनके अलावा नागालैंड के नेईफू रियो, चांदनी चौक दिल्ली के सांसद हर्ष वर्द्धन, तुरा (नागालैंड) की कोनार्ड संगमा, चेन्नई नार्थ के टेजी वेंकटेश बाबू और साबरकंठा गुजरात के दीप सिंह राठौड़ ने सबसे अधिक फंड का उपयोग किये. इन सभी सांसदों ने अपने फंड का 99.81 फीसदी राशि खर्च की.

इसे भी पढ़ेंः चतरा: टिकट नहीं मिलने से बागी हुए बीजेपी नेता राजेन्द्र साहु, निर्दलीय लड़ेंगे चुनाव

देश भर में 542 सांसदों को मिले थे 12051.36 करोड़

देश भर में 16वीं लोकसभा के निर्वाचित सांसदों को अपने संसदीय क्षेत्र के विकास के लिए 12051.36 करोड़ मिले थे. इनमें से 1806.03 करोड़ रुपये खर्च नहीं हो पाये. देश में औसतन 85 फीसदी ही सांसद निधि राज्यों में खर्च की जा सकी.

दिल्ली में सांसद निधि के तहत 134.47 करोड़ में से 122.9 करोड़ खर्च किये गये. मेघालय में 43.68 करोड़ में से 40.26 करोड़ रुपये खर्च किये गये. सिक्किम में 22.23 करोड़ में से 20.16 करोड़ खर्च हुए.

गोवा में सांसद निधि का 22.54 फीसदी राशि ही खर्च हो सका. राजस्थान में 531.05 करोड़ रुपये में से 20 से अधिक सांसदों ने 113.97 करोड़ रुपये खर्च नहीं हो सके.

किस राज्यों में कितना हुआ एमपी फंड का इस्तेमाल

राज्यखर्च का प्रतिशत
बिहार86.22 फीसदी
गुजरात91.20 फीसदी
झारखंड84.81 फीसदी
उत्तराखंड82.18 फीसदी
हिमाचल प्रदेश84.76 फीसदी
पंजाब81.59 फीसदी
राजस्थान78.54 फीसदी
मेघालय92.17 फीसदी
अरुणाचल प्रदेश88.28 फीसदी
नागालैंड89.97 फीसदी
हरियाणा83.97 फीसदी
मध्यप्रदेश86.28 फीसदी
महाराष्ट्र83.23 फीसदी
कर्नाटक85.25 फीसदी
केरल86.16 फीसदी
आंध्रप्रदेश84.33 फीसदी
तेलांगना85.7 फीसदी
छत्तीसगढ़86.8 फीसद
पश्चिम बंगाल86.58 फीसदी
मणिपुर87.76 फीसदी
मिजोरम87.61 फीसदी

 

इसे भी पढ़ेंः बीजेपी का घोषणा पत्र ‘संकल्पित भारत, सशक्त भारत’ जारी- राष्ट्रवाद, किसान, महिलाओं पर जोर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: