न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Indian_Airforce में शामिल होंगे 83 तेजस फाइटर जेट, HAL के साथ 39,000 करोड़ की डील पर मुहर

HAL ने 56,500 करोड़ रुपए की डील को घटाकर 39,000 करोड़ रुपए कर दिया है. एक साल लंबी बातचीत के बाद इस डील में 17,000 करोड़ रुपए की कमी की गयी है.

41

NewDelhi :  इंडियन एयरफोर्स में 83 तेजस फाइटर जेट शामिल होने जा रहे हैं. खबर है कि हिन्‍दुस्‍तान एरोनॉटिक्‍स लिमिटेड (HAL) ने स्वदेशी मिलिट्री एविएशन क्षेत्र की सबसे बड़ी डील को फाइनल टच दे दिया है. अब हिन्‍दुस्‍तान एरोनॉटिक्‍स लिमिटेड  भारतीय वायुसेना (IAF) के लिए 83 सिंग्ल ईंजन वाले तेजस फाइटर प्लेन तैयार करेगी.

खबर है कि HAL ने 56,500 करोड़ रुपए की डील को घटाकर 39,000 करोड़ रुपए कर दिया है. एक साल लंबी बातचीत के बाद इस डील में 17,000 करोड़ रुपए की कमी की गयी है.

इसे भी पढ़ें : झटके पर झटकाः मूडीज ने भारत की विकास दर 6.6 प्रतिशत से घटा कर 5.4 प्रतिशत की

डील की फाइल कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी को भेजी जायेगी

जानकारी के अनुसार अब अंतिम मुहर के लिए इस डील के प्रस्ताव को फाइल कैबिनेट कमेटी ऑन सिक्योरिटी को भेजा जायेगा. रक्षा विशेषज्ञों का मानना है कि इस वित्तीय वर्ष की समाप्ति से पहले ही इसको मंजूरी दे दी जायेगी. जान लें कि पहली बार रक्षा अधिग्रहण परिषद (DAC) ने नवंबर 2016 में HAL को 83 तेजस तैयार करने की मंजूरी थी. इसके लिए 49,797 करोड़ रुपए की डील को फाइनल किया गया था, जबकि कंपनी ने इस डील के लिए 56,500 करोड़ रुपए मांगे थे. इसे लेकर दोनों पक्षों में हुई बातचीत के बाद डील को फाइनल कर दिया गया है.

Whmart 3/3 – 2/4

बता दें कि भारतीय सेना ( IAF ) पाकिस्तान और चीन से मिल रही चुनौती को ध्यान में रखते हुए रक्षा मोर्चे पर युद्ध स्तर पर काम कर रहा है. इसके लिए भारत को कम से कम 30 स्क्वाड्रन की जरूरत है. यही वजह है कि भारतीय वायु सेना ने हल्के फाइटर जेट की डील पर काम करना शुरू कर दिया है.

इसे भी पढ़ें : #Nirbhaya Case : डेथ वारंट जारी, फांसी की नयी तारीख तीन मार्च, सुबह 6 बजे लटकाये जायेंगे दोषी

एचएएल तेजस की सप्लाई में ज्यादा वक्त ले रहा है

मालूम हो कि इस साल मई में पहली बार चार रॉफेल विमानों को अंबाला एयरबेस पर तैनात किया जाना है. फ्रांस के साथ हुई 59,000 करोड़ रुपये की हुई डील के अनुसार अप्रैल 2022 तक 32 रॉफेल भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल होने हैं. वहीं वायुसेना के लिए चिंता का विषय है कि एचएएल तेजस की सप्लाई में ज्यादा वक्त ले रहा है.

अबतक भारतीय वायुसेना के बेड़े में केवल 16 तेजस मार्क -1 (40 Tejas Mark-1) मौजूद हैं. 8,802 करोड़ रुपये के दो डील के तहत दिसंबर 2016 में इसकी आपूर्ति हुई थी. सूत्रों का कहना है कि तेजस मार्क 1ए की टेस्टिंग 2022 तक पूरी होने की संभावना है। इसके बाद वायुसेना 123 पावरफुल ईंजन से लैस 170 तेजस मार्क-2 को बेड़े में जोड़ने की कोशिश में है.

इसे भी पढ़ें : #Collegium_System पर राजद को संदेह, कहा, यह भी वही करता है, जो RSS करना चाहता है

 

न्यूज विंग की अपील


देश में कोरोना वायरस का संकट गहराता जा रहा है. ऐसे में जरूरी है कि तमाम नागरिक संयम से काम लें. इस महामारी को हराने के लिए जरूरी है कि सभी नागरिक उन निर्देशों का अवश्य पालन करें जो सरकार और प्रशासन के द्वारा दिये जा रहे हैं. इसमें सबसे अहम खुद को सुरक्षित रखना है. न्यूज विंग की आपसे अपील है कि आप घर पर रहें. इससे आप तो सुरक्षित रहेंगे ही दूसरे भी सुरक्षित रहेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like