DumkaJharkhand

8 बार सांसद रहे शिबू सोरेन के लोकसभा क्षेत्र दुमका में है कुपोषण की समस्या

Ranchi: राज्य में कुपोषण की स्थिति झारखंड को शर्मसार कर रहा है. भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुआ के अलावा झामुमो सुप्रीमो शिबू सोरेन के लोकसभा क्षेत्र दुमका की स्थिति भी भयावह है. हार्वर्ड युनिवर्सिटी और टाटा ट्रस्ट के संयुक्त सर्वे के आंकड़े लोकसभा क्षेत्र की स्थिति को स्पष्ट बयां कर रहे हैं. आंकड़ों के हिसाब से देखा जाए तो कुपोषण के पांच विभिन्न विषयों को ध्यान में रख कर सर्वे किया गया था. पांच में से तीन विषयों पर दुमका लोकसभा क्षेत्र 543 लोकसभा क्षेत्रों में खराब रैंकिंग के लिहाज से 19वें, 21वें और 41वें स्थान पर है.

इसे भी पढ़ें – अधिकारियों व दबंग जनप्रतिनिधियों के खाने-कमाने का जरिया बन गया है मनरेगा

जमशेदपुर लोकसभा की स्थिति दयनीय

जमशेदपुर लोकसभा क्षेत्र से भाजपा के विद्युतवरण महतो सांसद हैं. कुपोषण के मामले में यह क्षेत्र भी सवालों के घेरे में आ गया है. कुपोषण के एक पारामीटर में जमशेदपुर लोकसभा क्षेत्र की देश भर में सबसे खराब स्थित है. जमशेदपुर के बच्चे देश भर में उम्र के हिसाब से वजन के मामले मे सबसे अंतिम पायदान पर आते हैं. वहीं अंडरवेट के मामले में जमशेदपुर को अंतिम से 10वें स्थान पर है.

इसे भी पढ़ें – झारखंड में बेरोजगारी सबसे बड़ा चुनावी मुद्दा, अरबन एरिया में लॉ एंड ऑर्डर बेहालः रिपोर्ट

खूंटी लोकसभा के बच्चे देश भर में सबसे कम वजन के

राज्य के खूंटी लोकसभा क्षेत्र के बच्चे उम्र के हिसाब से वजन के मामले में देश भर में सबसे खराब स्थित में हैं. 543 लोकसभा क्षेत्र में खूंटी को 6ठवीं रैंकिंग दी गयी है. वहीं लंबाई के हिसाब से वजन के मामले में भी खूंटी की स्थिति भयावह है. इस मामले में खूंटी लोकसभा क्षेत्र को सबसे खराब के हिसाब से तीसरी रैंकिंग दी गयी है.

इसे भी पढ़ें – पलामू: तय समय पर हथियार जमा नहीं करने के कारण 53  लाइसेंस होंगे रद्द

इन विषयों पर किया गया था सर्वे

देश भर के 543 लोकसभा क्षेत्रों में कुपोषण के पांच पारामीटर को लेकर हार्वर्ड यूनिवर्सिटी और टाटा ट्रस्ट के द्वारा सर्वे किया गया. पहला लंबाई के हिसाब से वजन की स्थिति, दूसरा कम वजन, तीसरा वजन के हिसाब से लंबाई, चौथा लो बर्थ वेट और पांचवां एनीमिया.

इसे भी पढ़ें – ‘मिशन शक्ति’ पर कांग्रेस से जेटली का सवालः सरकार में रहते क्यों नहीं दी थी इजाजत

Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close