न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कोल साइडिंग और लोडिंग प्वाइंट पर वर्चस्व को लेकर चली 8 राउंड गोलियां, दो घायल

847

Dhanbad : कोल साइडिंग और लोडिंग प्वाइंट पर वर्चस्व को लेकर केंदुआडीह थाना क्षेत्र में बुधवार को लगभग 8 राउंड गोली चली. विक्की डोम और संतोष यादव की पीठ में गोली लगी. स्थानीय लोगों ने आनन फानन में दोनों को पीएमसीएच में भर्ती कराया. वहां उनकी स्थिति खतरे से बाहर बताई जाती है. बता दें कि विक्की डोम एक मामले में कोर्ट गवाही के लिए जा रहा था. केंदुआडीह स्थित हिंदी भवन के पास पीछा करते चार अपराधी अपने वाहन से पहुंचे. यह देखकर दोनों गाड़ी छोड़कर भाग खड़े हुए. इसके बाद अपराधियों ने दोनों पर दनादन गोलियां बरसानी शुरू कर दी. दोनों की पीठ और कमर में एक एक गोली लगी. दोनों जमीन पर गिर गए.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड हाईकोर्ट में सशरीर हाजिर हुए डीजीपी, कोर्ट ने लगाई फटकार

आपसी पुरानी रंजिश को लेकर दो गुटों में हुई गोलीबारी 

hosp3

सूचना मिलते ही  पहुंची पुलिस ने घटनास्थल से एक पल्सर बाइक और तीन खोखे बरामद किए. गोली लगने की खबर मिलते ही घरवाले मौके पर पहुंचे और सड़क पर बैठकर आंदोलन करने लगे. इस दौरान परिजन और पुलिस में काफी देर तक नोकझोंक भी हुई. न्यूज़ कवरेज करने गए  मीडिया कर्मियों को भी इनके आक्रोश का सामना करना पड़ा. केंदुआडीह थाने के एएसआई दशरथ उराव ने बताया कि आपसी पुरानी रंजिश को लेकर दो गुटों में गोलीबारी हुई है.

सूचना मिलते ही पुलिस तुरन्त मौके पर पहुंची और स्थिति को नियंत्रित करने में जुट गयी. घटना को अंजाम देकर अपराधी भाग गया. लेकिन बहुत जल्द जो भी आरोपी है उसे  पकड़ा जायेगा. यह भी कहा कि फरवरी 2016 में संजय खटिक की वर्चस्व को लेकर मौत की वजह से पुरानी रंजिश की बात सामने आ रही है. संजय के ऊपर भी केंदुआडीह और पुटकी थाने में आर्म्स एक्ट, मारपीट और रंगदारी के करीब आधा दर्जन मुकदमे दर्ज हैं. फिलहाल, पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है.

इसे भी पढ़ेंःजमाबंदी रद्द करने का आदेश, फिर भी सीओ की पत्नी ने खरीद ली जमीन

 संजय का गिरोह करता था रंगदारी और वसूली

केंदुआ में संजय खटिक का गिरोह तीन साल से रंगदारी व वसूली कर रहा था. 22 जुलाई, 2015 को केंदुआ सिनेमा हॉल के समीप सूरज वर्मा पर गोली चली थी. सूरज ने संजय खटिक, संजय पासी और मंटू साव के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी थी. इसके बाद पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था.

कुछ ही महीने के बाद वह जेल से निकला और केंदुआ कठगोला में छह फरवरी  2016 की रात संजय खटिक को गोलियों से भून दिया. इस मामले में विक्की डोम, सूरज वर्मा, नीरज वर्मा, रमेश बाउरी और सौरभ गुप्ता समेत अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया गया. नामजद विक्की कोर्ट में सरेंडर कर जमानत पर है. सूरज समेत अन्य संजय खटिक हत्याकांड में फरार चल रहे है. सूरज पर हत्या समेत कई गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: