न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

पीएमओ के आठ अधिकारी नाखुश! चाहते हैं अपना ट्रांसफर, वीआरएस भी ले सकते हैं

 इकोनॉमिक्स टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि आठ उच्चाधिकारियों ने पीएमओ को पत्र लिखकर ट्रांसफर करने या फिर वीआरएस (समय से पहले सेवानिवृति) के लिए आग्रह किया है.

105

NewDelhi : पीएमओ के कुछ अधिकारियों के पीएम मोदी से नाखुश  होने की खबर सामने आ रही है. इस संबंध में  इकोनॉमिक्स टाइम्स ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि आठ उच्चाधिकारियों ने पीएमओ को पत्र लिखकर ट्रांसफर करने या फिर वीआरएस (समय से पहले सेवानिवृति) के लिए आग्रह किया है.  इसका मतलब, यदि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को दूसरा कार्यकाल मिलता है तो उन्हें देश की सिविल सेवा में शीर्ष स्तर पर बड़े फेरबदल करने पड़ सकते हैं.

eidbanner

बता दें कि प्रधानमंत्री कार्यालय, गृह मंत्रालय और विदेश मंत्रालय से जुड़े तीन अधिकारियों ने इस बात की जानकारी दी हैं. वैसे इन अधिकारियों ने विषय की गंभीरता को देखते हुए अपना नाम उजागर करने से मना कर दिया है. इनमें से दो ने कहा कि वे राज्य की राजधानियों या अन्य नौकरियों में स्थानांतरित होने के इच्छुक हैं. जान लें कि प्रधानमंत्री कार्यालय में लगभग  25 नौकरशाह काम कर रहे हैं,

इसे भी पढ़ेंः सोनिया ने रोड शो किया, रायबरेली से नामांकन किया, कहा, हम ही चुनाव जीतेंगे

पूरे डिपार्टमेंट पर दबदबा अकेले प्रधानमंत्री मोदी का रहता है

मगर पूरे डिपार्टमेंट पर दबदबा अकेले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का ही रहता है.  ऐसे में कई उच्च अफसर नीतियों को तैयार करने से लेकर लागू करने में खुद को असमर्थ पा रहे हैं, क्योंकि काम काफी हिस्सा खुद पीएम मोदी और मंत्रियों के छोटे समूह की नगरानी में हो रहा है.  ऊपर से रोजाना काम का प्रेशर भी अलग से है.  गृहमंत्रालय के एक उच्च अधिकारी ने इकोनॉमिक्स टाइम्स को बताया है,  मोदी सरकार में सहयोगिता की भावना लगभग खत्म है.  मोदी और उनके मंत्री नौकरशाहों के साथ सामान्य रिश्ता नहीं रखते.

Related Posts

लोकसभा में जम्मू कश्मीर आरक्षण संशोधन विधेयक पेश

विधेयक के कानून बनने पर अंतरराष्ट्रीय सीमा से लगे क्षेत्रों में रहनेवालों को वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगे क्षेत्रों में निवास कर रहे व्यक्तियों के समान आरक्षण का लाभ मिल सकेगा.

mi banner add

रिपोर्ट के अनुसार इस मामले में प्रधानमंत्री कार्यालय के प्रवक्ता ने शासन संबंधी मामलों में मंत्रियों की सीधी दखल पर कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया.  बता दें कि  दुनिया भर में जब कभी भी कोई सरकार दोबारा सत्ता में आती है तो नौकरशाही में बड़े स्तर पर फेरबदल देखने को मिलते हैं.

भारत में अक्सर देखा गया है कि पीएमओ समेत तमाम मंत्रालयों में नौकरशाहों की नियुक्ति उनकी संबंधित पार्टी से नजदीकियों आधार पर होती है. मगर, मोदी सरकार में सीनियर अधिकारियों को लगता है कि पीएम मोदी का उनके प्रति रवैया ठीक नहीं है. छुट्टी के दिन भी काम पर बुलाना, प्रॉपर्टी की पूरी जानकारी देना और स्वच्छता अभियान के तहत दफ्तरों की सफाई करना ऐसे मुद्दे रहे हैं, जिनसे नौकरशाहों और मोदी के बीच दूरी बढ़ने की बात कही गयी है.

इसे भी पढ़ेंः इमरान मसूद का मोदी पर तंज, मेरा जुमला बोटी-बोटी  हिट रहा, मोदी का फ्लॉप

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: