BusinessNational

EPF पर मिलेगा 8.50 फीसद ब्याज, दिसंबर लास्ट तक कर्मचारियों के खाते में जमा होने की संभावना

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने श्रम मंत्री संतोष गंगवार की अध्यक्षता में अपने ट्रस्टी मीट में 8.5 प्रतिशत ब्याज को 8.15 प्रतिशत की दो किस्तों और 0.35 प्रतिशत में विभाजित करने का निर्णय लिया था. 

NewDelhi :  कर्मचारी भविष्य निधि संगठन EPFO इस साल दिसंबर महीने के अंत में साल 2019-20 के लिए ईपीएफ पर 8.50 फीसद ब्याज जारी कर सकता है.  इसका लाभ 6 करोड़ सदस्यों को इस महीने के अंत तक  मिल सकता है.

इससे पहले सितंबर में कर्मचारी भविष्य निधि संगठन ने श्रम मंत्री संतोष गंगवार की अध्यक्षता में अपने ट्रस्टी मीट में 8.5 प्रतिशत ब्याज को 8.15 प्रतिशत की दो किस्तों और 0.35 प्रतिशत में विभाजित करने का निर्णय लिया था.

एक उच्च पदस्थ सूत्र ने पीटीआई को जानकारी दी कि श्रम मंत्रालय ने वित्त मंत्रालय को इस महीने की शुरुआत में 2019-20 के लिए ईपीएफ पर ब्याज दर 8.5 प्रतिशत करने के लिए सहमति देने का प्रस्ताव भेजा है.

इसे भी पढ़ें : पश्चिम बंगाल : मंत्री सुब्रत मुखर्जी के बोल, भाजपा चुनाव हारी, तो ममता की हत्या करा सकती है

वित्त मंत्रालय ने पिछले वित्त वर्ष के लिए ब्याज दर पर स्पष्टीकरण मांगा था

सूत्रों के अनुसार पहले वित्त मंत्रालय ने पिछले वित्त वर्ष के लिए ब्याज दर पर कुछ स्पष्टीकरण मांगा था. इस साल मार्च में EPFO के सर्वोच्च निर्णय लेने वाले निकाय सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्रस्टीज़ की बैठक में  श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने 2019-20 के लिए EPF पर 8.5 प्रतिशत ब्याज दर को मंजूरी दी थी.   खबरों के अनुसार सितंबर में एक वर्चुअन सीबीटी बैठक में ईपीएफओ ने पिछले वित्त वर्ष के लिए ब्याज दर 8.5 प्रतिशत प्रदान करने की अपनी प्रतिबद्धता का सम्मान करने का निर्णय लिया था,

इसे भी पढ़ें : संसद पर हमले के 19 बरस बीत गये… पीएम ने वीरों को नमन किया, कहा, कायराना हमला भूलेंगे नहीं

ब्याज दर 8.15 प्रतिशत और 0.35 प्रतिशत की दो किस्तों में विभाजित किया गया

लेकिन सीबीटी ने महामारी को देखते हुए ब्याज दर को 8.15 प्रतिशत और 0.35 प्रतिशत की दो किस्तों में विभाजित कर दिया था. श्रम मंत्रालय ने तब समझाया था कि कोविड -19 से उत्पन्न असाधारण परिस्थितियों के मद्देनजर, सीबीटी द्वारा ब्याज दर के बारे में एजेंडा की समीक्षा की गयी और इसने केंद्र सरकार को 8.50 प्रतिशत की समान दर की सिफारिश की.

यह (8.5 प्रतिशत ब्याज) ऋण आय से 8.15 प्रतिशत और ईटीएफ (एक्सचेंज ट्रेडेड फंड) की बिक्री से शेष राशि 0.35 प्रतिशत (पूंजीगत लाभ) से 31 दिसंबर, 2020 तक उनके रिडंप्शन के अधीन होगा. सूत्र ने यह भी बताया कि चूंकि बाजार की स्थिति उम्मीद से बेहतर है, क्योंकि बेंच मार्क इंडेक्स रिकॉर्ड ऊंचाई पर हैं, इसलिए एक बार में पूरे 8.5 प्रतिशत क्रेडिट करने का मुद्दा नहीं होना चाहिए.

इसे भी पढ़ें : रिपब्लिक टीवी पर फिर गिरी मुंबई पुलिस की गाज, CEO विकास खानचंदानी को किया गिरफ्तार

Advt

Related Articles

Back to top button