National

#LakshmiVilasBank में 790 करोड़ का घोटाला, निदेशकों के खिलाफ मुकदमा

New Delhi: देश के निजी क्षेत्र के बैंक लक्ष्मी विलास बैंक के निदेशकों के खिलाफ रुपयों के गबन का मुकदमा दर्ज किया गया है.

दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने 790 करोड़ रुपये गबन करने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया है. पुलिस ने यह मुकदमा वित्तीय सेवा कंपनी रेलिगेयर फिनवेस्ट की शिकायत पर दर्ज किया है.

इसे भी पढ़ें – जानिए, बकोरिया कांड, CID जांच, #CBI जांच, पूर्व DGP डीके पांडेय और ज्वाइंट डायरेक्टर अजय भटनागर में क्या है रिश्ता

advt

रेलिगेयर ने अपनी शिकायत में कहा है कि उसने 790 करोड़ रुपये की एक एफडी बैंक में की थी, जिसमें से हेरा-फेरी की गयी है.

पुलिस ने कहा कि शुरुआती जांच में ऐसा लग रहा है कि पैसों में हेराफेरी पूरी योजना बद्ध तरीके से की गयी है. फिलहाल पुलिस ने बैंक के निदेशकों के खिलाफ धोखाधड़ी, विश्वासघात, हेराफेरी व साजिश का मुकदमा दर्ज किया है.

इसे भी पढ़ें – साहिबगंज : गांवों में घुसा #Ganga का पानी, #Flood से दो लाख लोग प्रभावित, पर #Camps में जाने को तैयार नहीं

पांच फीसदी गिरा शेयर

यह खबर आने के बाद चेन्नई स्थित लक्ष्मी विलास बैंक का शेयर पांच फीसदी गिरावट के साथ बंद हुआ. हालांकि अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि पुलिस ने बैंक के कितने निदेशकों के खिलाफ जांच शुरू की है.

adv

बैंकों पर आरबीआइ भी अपनी नकेल को कस रहा है. मंगलवार को ही उसने पीएमसी बैंक को छह माह तक बैंकिंग कार्यों से बंधित करने का आदेश जारी किया था.

आरबीआइ ने ग्राहकों के लिए निकासी की सीमा बढ़ा दी है. अब ग्राहक 10,000 रुपये निकाल सकेंगे. पहले ग्राहकों को छह महीने में सिर्फ एक हजार रुपये ही निकालने की अनुमति दी गयी थी. आरबीआइ के इस कदम से लाखों ग्राहकों को राहत मिलेगी.

लक्ष्मी विलास बैंक को जल्द ही इंडियाबुल्स खरीदनेवाली है. हालांकि इस मामले को लेकर के इंडिया बुल्स ने किसी प्रकार की कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है.

इसे भी पढ़ें – #UnitedNations में #PMModi के 17 मिनट :  कहा, आतंकवाद मानवता के लिए चुनौती, हमने दुनिया को युद्ध नहीं, बुद्ध दिया …

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button