न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

741 आयुष चिकित्सकों की नियुक्ति के एडमिट कार्ड पर एजेंसी ने दिया फोन नंबर, पैसे वसूलने का आरोप, मंत्री ने दिये जांच के आदेश

30

NEWS WING
Ranchi, 29 November: हाल में हुए आयुष चिकित्सकों की नियुक्ति प्रक्रिया पर सवाल उठ रहे हैं. आरोप है कि अनुबंध पर चिकित्सकों को बहाल करने के इस प्रक्रिया में पैसे देकर कैंडीडेंट को सफल  किया गया है, और उन्हें अनुबंध पर नियुक्त करने की तैयारी हो रही है. परीक्षा में शामिल कई अभियर्थियों ने मामले को लेकर विभाग के मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी से शिकायत की. शिकायत पर कार्रवाई करते हुए मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी ने पूरे मामले की जांच की सिफारिश की है. श्री चंद्रवंशी ने 23 नवंबर को अपने विभाग के अपर मुख्य सचिव को पत्र लिखकर मामले की जांच संयुक्त सचिव स्तर के पदाधिकारी से कराने का आदेश दिया है.
एडमिट कार्ड पर लिखा फोन नंबर बनी जांच की वजह
स्वास्थ्य विभाग को 741 आयुष चिकित्सकों की बहाली अनुबंध पर करनी थी. केंद्र सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय में दर्ज (Impanel) दस एजेंसियों के बीच टेंडर प्रक्रिया के तहत सैम्स (Strategic alliance management sevices) कंपनी को बहाली का काम दिया गया था. एजेंसी ने अगस्त 2017 में विज्ञापन निकाला. बहाली के लिए करीब 900 आवेदन आए. करीब 850 आवेदक आहार्ता को पूरा कर रहे थे. पांच नवंबर को मारवाड़ी प्लस टू हाई स्कूल और बरियातू प्लस टू गर्ल्स स्कूल में लिखित परीक्षा हुई. परीक्षा से पहले जो एडमिट कार्ड एजेंसी ने जारी किया उसके Important Instruction की अंतिम कंडिका में दो फोन नंबर (011-4101-1605 और 011-4101-1605) अंकित थे. एडमिट कार्ड पर लिखा था कि किसी तरह की इन्क्वारी के लिए फोन नंबर पर कॉल कर सकते हैं. परीक्षा में शामिल अभ्यर्थी अब आरोप लगा रहे हैं कि जिसने भी इस नंबर पर फोन किया उसे Clarification के लिए दिल्ली बुलाया गया. दिल्ली में उससे नौकरी के एवज में पैसे की मांग की गयी. आरोप है कि जिन्होंने एजेंसी को पैसा दिया उन्हें सफल कर दिया गया. बताते चलें कि एजेंसी ने परीक्षा के बाद 447 उम्मीदवारों को सफल किया है.  लेकिन, किसी की भी पदस्थापना अभी तक विभाग के तरफ से नहीं की गयी है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: