JharkhandRanchi

#RIMS में चल रहे ‘लालू लंगर’ से हर दिन भूख मिटा रहे 700 गरीब, मछली-चिकेन का भी मिल रहा जायका

Ranchi : लॉकडाउन में रिम्स, रांची में लालू लंगर से लोगों को बड़ी राहत मिल रही है. 50 दिनों से भी अधिक समय से यह लंगर सेवा जारी है. इससे गरीब गुरबों और जरूरतमंदों को दो टाइम निःशुल्क भोजन दिया जा रहा है. हर दिन लगभग 700 लोग लंगर सेवा का लाभ उठाने को जुटते हैं.

राजद प्रमुख लालू प्रसाद के निर्देश पर लॉकडाउन जारी रहने तक इस सेवा को जारी रखे जाने का निर्णय लिया गया है. लंगर के संचालन की जिम्मेदारी प्रदेश राजद (झारखंड) प्रमुख अभय कुमार सिंह खुद संभाल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – #Ranchi: एक हजार स्क्वायर फीट से कम क्षेत्रफल वाले मकानों को टैक्स में छूट देने का प्रस्ताव निगम ने सरकार को भेजा

लालू प्रसाद ने लंगर सेवा शुरू करने का दिया था निर्देश

 

प्रदेश राजद प्रवक्ता अनीता यादव के अनुसार लॉकडाउन शुरू होने के बाद पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद यादव ने गरीब गुरबों, फुटपाथ पर रहनेवालों, ठेले खोमचेवालों तथा अन्य लोगों के लिए चिंता जतायी थी. लॉकडाउन के कारण दूर दराज से आये और रिम्स में फंसे लोगों की मदद करने का उन्होंने निर्देश दिया था. इसके बाद 3 अप्रैल से ही रिम्स परिसर में प्रबंधन से अनुमति लेकर लालू लंगर शुरू किया गया था. लंगर में हर दिन अलग अलग मेन्यू के हिसाब से लोगों को खाना दिया जाता है. दाल-भात के अलावा लोगों को मछली-भात से लेकर कई स्पेशल डिशेज भी परोसे जाते हैं. पूरी, खीर, हलुआ, चिकेन, अंडा और ऐसे ही अन्य डिश का भी स्वाद लोगों तक पहुंचाया जा रहा है. 500 से 700 लोग हर दिन दोपहर व शाम को लंगर का लाभ उठा रहे हैं. लॉकडाउन तक सेवा जारी रखने की योजना है.

इसे भी पढ़ें – कोयला कारोबारी किरण महतो से हाइवा लूट मामले में भाजपा विधायक ढुल्लू महतो को मिली जमानत 

भोजन की क्वालिटी पर लालू की नजर

अनीता यादव के मुताबिक हर दिन खाना स्वादिष्ट बने, इस पर लालू प्रसाद की नजर रहती है. हर रोज उनका एक सेवक लंगर में आकर खाना टेस्ट करता है. यही वजह है कि लंगर सेवा में प्रदेश राजद के सभी प्रमुख लोग मिल कर गंभीरता से इसे चला रहे हैं. गौरतलब है कि लालू यादव चारा मामले में सजायाफ्ता हैं और रिम्स में ही इलाजरत हैं. लॉकडाउन की मार झेल रहे लोगों की मदद को भोजन की सुविधा उपलब्ध कराये जाने के लिए उन्होंने पार्टी की प्रदेश इकाई को आदेश जारी किया था.

इसे भी पढ़ें – #JPSC आंदोलनकारी उम्मीदवारों ने राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री को लिखा पत्र, 6ठी सिविल सेवा परीक्षा की त्रुटियों से कराया अवगत

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close