न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्य के 70 हजार पारा टीचर गोलबंद: अब आर-पार की लड़ाई, सरकारी आदेश दरकिनार कर 20 से जेल भरो आंदोलन

सभी जिलों में जेल भरो आंदोलन को लेकर बनी रणनीति, रविवार से शुरू होगा जिलावार प्रदर्शन, 20 को फिर राजधानी में महाजुटान

447

Ranchi: राज्य के 70 हजार पारा टीचर अब आर-पार के मूड में है. सरकारी आदेश को धत्ता बताते हुए पारा टीचरों ने 20 नवंबर से जेल भरो आंदोलन की घोषणा कर दी है. इस बार पारा शिक्षक अकेले नहीं बल्कि पूरे परिवार के साथ गिरफ्तारी देंगे. दरअसल, सरकार की ओर से जारी आदेश में कहा गया था कि 20 नवंबर तक सभी पारा शिक्षक अपने स्कूलों में उपस्थिति दर्ज करायें. अन्यथा 22 नवंबर से उनकी जगह दूसरे को बहाल कर लिया जायेगा. इस मसले पर सरकार ने शनिवार को एक विज्ञापन भी जारी कर दिया है. इधर, पारा टीचर्स का कहना है कि हमलोग सरकार के आदेश को एक सिरे से खारिज करते हैं. जो पारा टीचर बर्खास्त किये गये हैं, उन्हें वापस सेवा सौंपी जाये और सरकार हमारी मांगों पर गंभीरता से विचार करें. साथ ही कहा कि 20 नवंबर से राज्य भर में परिवार के साथ पारा शिक्षक गिरफ्तारी देंगे.

इसे भी पढ़ेंःहड़ताल पर जायेंगे राज्य भर के पारा शिक्षक

हर जिले में शनिवार को बनी रणनीति

प्रदेश के हर जिले में पारा टीचर्स ने बैठक की और रणनीति बनाई. कहा गया कि 20 नवंबर से जेल भरो आंदोलन शुरू होगा. इससे पहले राजधानी में सभी पारा टीचर जुटेंगे और प्रदर्शन करेंगे. झारखंड एकीकृत पारा शिक्षक संघ मोर्चा के बजरंग प्रसाद ने बताया कि सरकार द्वारा जो कार्रवाई की गई है, वह सरासर गलत है. पारा शिक्षक स्थापना दिवस समारोह में शिरकत करने के लिए मोरहाबादी पहुंचे थे, लेकिन उन्हें नक्सलियों की तरह गिरफ्तार किया गया. यह पूरी तरह से अमानवीय घटना थी.

इसे भी पढ़ेंःकांग्रेस ने कहा, पारा शिक्षकों की मांग जायज, 19 को पार्टी करेगी धरना-प्रदर्शन

बाहरी को बसाने की है रणनीति

पारा शिक्षकों का कहना है कि सरकार ने जो विज्ञापन जारी किया है, उससे यह संकेत मिलता है कि सरकार बाहरी लोगों को पारा टीचर बनाना चाहती है. सरकार द्वारा जारी विज्ञापन पूरी तरह से पारा शिक्षकों के लिये नकारात्मक है. इस आदेश को सरकार वापस ले. पारा शिक्षकों को अगर सम्मानपूर्वक शर्तों के साथ बुलाया जाता है, तभी स्कूल में योगदान देंगे, नहीं तो जोरदार आंदोलन होगा.

इसे भी पढ़ेंःन्यूज विंग ब्रेकिंग: झारखंड में फाइनांशियल क्राइसिस! ट्रेजरी में सिर्फ 200 करोड़, ठेकेदारों और आपूर्तिकर्ताओं की देनदारी महीनों से बंद

क्या है पारा शिक्षकों की मांगे

  • पारा शिक्षकों को छत्तीसगढ़ के तर्ज पर स्थायीकरण
  • टेट पास पारा शिक्षकों को सीधी नियुक्ति प्रकिया में आरक्षण का लाभ
  • प्रखंडवार पारा शिक्षकों को योगदान का लाभ
  • सरकारी स्कूलों में नियोजन के तहत 50 फीसदी पर सुरक्षित करने
  • पारा शिक्षकों के लिये कल्याण कोष का गठन
  • टेट पास पारा शिक्षकों की डिग्री की वैधता दो साल बढ़ाई जाये

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: