Corona_UpdatesWorld

ब्रिटेन  में Oxford / AstraZeneca का कोविड रोधी टीका लगवाने वालों में से 7 लोगों की मौत

24 मार्च 2021 तक 30 लोगों में खून के थक्के बने थे

Londan : ब्रिटेन के औषधि नियामक ने पुष्टि की है कि ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका का कोविड रोधी टीका लगवाने वालों में से सात लोगों की खून का थक्का जमने से मौत हुई है, हालांकि साथ ही उसने स्पष्ट किया कि किसी खतरे की तुलना में टीके के फायदे अधिक हैं.

औषधि एवं स्वास्थ्य देखभाल उत्पाद नियामक एजेंसी (एमएचआरए) ने इस हफ्ते कोरोना वायरस रोधी टीकाकरण कार्यक्रम पर अपनी ताजा ‘येलो कार्ड’ निगरानी पर कहा कि ब्रिटेन में 1.81 करोड़ लोगों ने ऑक्सफोर्ड का कोविड-19 का टीका लगवाया है, जिनमें 24 मार्च तक 30 लोगों में खून के थक्के विकसित हुए और सात लोगों की मौत हुई.

इसे भी पढ़ें :IPL 2021 : बैंगलोर के हैशटैग में दिखी पीली जर्सी, आपस में भिड़े RCB और CSK के  फैंस

टीके के खतरों की तुलना में फायदे अधिक हैं

एमएचआरए के अधिकारियों ने सलाह दी है कि इस टीके का इस्तेमाल जारी रखना चाहिए क्योंकि टीके के खतरों की तुलना में फायदे अधिक हैं. उसने कहा, ‘ हमारी चल रही समीक्षा के आधार पर, कोविड-19 के विरूद्ध टीके के फायदे किसी भी खतरे से अधिक हैं और जब आपको टीका लगवाने के लिए बुलाया जाए तो आप इसे लगवाएं.’ नियामक ने कहा कि इस बात का पता लगाने के लिए जांच जारी है कि क्या खून के थक्के जमने का कोई संबंध है या ये मामले सिर्फ एक संयोग हैं. उसने कहा कि अबतक सामने आई संदिग्ध प्रतिकूल प्रतिक्रियाओं की संख्या और प्रकृति, नियमित तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले अन्य तरीके के टीकों की तुलना में असामान्य नहीं हैं.

इसे भी पढ़ें :Chhattisgarh News: शहीद जवानों के हथियार ले भागे नक्सली, जूते-कपड़े तक को भी नहीं छोड़ा

फाइजर-बायोएनटेक के टीके में नहीं मिली शिकायत

दोनों टीकों को लेकर अबतक का सुरक्षा अनुभव क्लिनिकल परीक्षणों के मुताबिक है. एमएचआरए ने कहा कि उसे फाइजर-बायोएनटेक के टीके के संबंध में खून के थक्के जमने की रिपोर्ट नहीं मिली हैं. यूरोप में ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका का टीका लगवाने वाले कुछ लोगों में खून के थक्के जमने के मामले सामने आए थे जिसके बाद चिंता जाहिर की गई थी.

इसे भी पढ़ें :इंलैंड पावर प्लांट की दूसरी यूनिट का निर्माण फाइनल स्टेज में, राज्य सरकार से होना है परचेज एग्रीमेंट

जर्मनी जैसे कुछ देशों ने कुछ आयु वर्ग के लोगों से टीका ना लगाने को कहा

जर्मनी जैसे कुछ देशों ने कुछ आयु वर्ग के लोगों से कहा था कि वे इस टीके को न लगवाएं. वहीं यूरोपीय औषधि निगरानी संगठन और विश्व स्वास्थ्य संगठन, दोनों ने ही कहा है कि यह टीका सुरक्षित और प्रभावी है. आज की तारीख तक ब्रिटेन में 31,301,267 ने टीके की पहली खुराक ले ली है जबकि 4,948,635 लोग टीके की दोनों खुराकें ले चुके हैं.

इसे भी पढ़ें :Alart : SBI ग्राहक ध्यान दें, इंटरनेट बैंकिंग के काम जल्दी कर लें, शाम को हो सकती है परेशानी, जानें कारण

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: